भाजपा शासित इस राज्य में विधवा से शादी करने पर सरकार देगी 2 लाख रूपये।

154

अगर किसी महिला का पति कम उम्र में गुजर जाता है तो उसके बाद उसे सारी उम्र विधवा बनकर जिंदगी गुजारनी पड़ती है। लेकिन, पिछले कुछ सालों में हमारे समाज की सोच बदली है। अब समाज उन महिलाओं के लिए भी सोच रहा है जिसके पति किसी कारणवश कम उम्र में गुजर जाते हैं। एमपी में शिवराज सरकार ने विधवाओं की शादी के लिए एक नई योजना की शुरुआत की है।

दरअसल, शिवराज सरकार इस योजना के तहत राज्य में विधवा महिलाओं से शादी करने वाले को दो लाख रुपये देगी। हालांकि, सरकार ने शादी के एवज में मिलने वाली रकम के लिए शर्त रखी है। शर्त के अनुसार, 2 लाख रूपये उसी शख्स को दिए जायेंगे जो 45 साल से कम उम्र की विधवा महिला से शादी करेगा। आपको बता दें, इस समय राज्य सरकार सामजिक न्याय विभाग विधवा महिलाओं के पुनर्विवाह को बढ़ावा देने का काम कर रहा है।

राज्य सरकार का कहना है कि विधवा महिलाओं के लिए देश में किसी भी सरकार द्वारा चलाई गई यह पहली योजना है। ऐसा माना जा रहा है कि सरकार की इस योजना से हर साल करीब 1 हजार विधवा महिलायें फिर से नई जिंदगी की शुरुआत कर सकेगी। इस योजना के तहत सरकार हर साल 20 करोड़ रुपए खर्च करेगी। जल्द ही विधवा पुनर्विवाह का प्रस्ताव वित् विभाग को भेज दिया जायेगा।

हालांकि, इससे पहले इसे कैबिनेट में पेश किया जायेगा। इस योजना का दुरुपयोग रोकने के लिए एक अधिकारी ने बताया कि इसके लिए कुछ प्रावधान रखे गए हैं। इस योजना के तहत जो भी शख्स विधवा महिला से शादी करेगा उसकी यह पहली शादी होना चाहिए। दोनों को जिला कलेक्ट्रेट ऑफिस जाकर शादी का रजिस्ट्रेशन कराना होगा।

साथ ही ग्राम पंचायत द्वारा दिया गया कोई एक सबूत पेश करना होगा। शिवराज सरकार ने सुप्रीम कोर्ट की ओर से जारी आदेश के बाद यह पहल की है। यह पहला मौका है, जब किसी सरकार ने विधवा विवाह को प्रोत्साहित करने के लिए इस तरह का ऐलान किया है। देश में 1856 में विधवा विवाह को वैध करार दिया गया था।