इस अंग्रेज कपल ने हिंदू तरीके से की शादी, कहा- सबसे खूबसूरत है भारत की संस्कृति

राजस्थान के सूर्यनगरी के लोग एक अनूठी शादी के साक्षी बने। आयरलैंड से यहां अपने दोस्तों के साथ घूमने के लिए आए रेन जियाओ व ब्लिंको को भारतीय संस्कृति इतनी पसंद आई कि उन्होंने अपनी शादी की सातवीं सालगिरह पर जोधपुर में हिन्दू रीति- रिवाज से पूर्ण वैदिक परम्परा के साथ एक बार फिर शादी की। इस शादी में उनके कुछ दोस्तों के अलावा कुछ स्थानीय लोग शामिल हुए।

आयरलैंड में वित्तीय कारोबार से जुड़े रैन और टेक्सटाइल व्यवसायी ब्लिंको की शादी सात साल पूर्व हो चुकी थी। सात दिन पूर्व वे अपने कुछ दोस्तों के साथ जोधपुर घूमने के लिए आए। जोधपुर में सात दिन स्थानीय लोगों से मुलाकात के दौरान उन्होंने यहां की संस्कृति को निकट से देखा और समझा।

यहां की परम्पराओं ने उन्हें इतना आकर्षित किया कि दोनों ने अपनी शादी की सातवीं सालगिरह पर एक बार फिर से वैदिक परम्परा के अनुसार शादी करने का फैसला कर लिया। शहर के गूंदी मौहल्ला स्थित एक होटल रानी महल में ठहरे इस जोड़े की इच्छा पूरी करने में यहां के व्यवस्थापकों की महत्वपूर्ण भूमिका रही। बैंड बाजे के साथ पहले बग्घी पर दूल्हा-दुल्हन को बैठा कर बारात निकाली गई। इस दौरान आतिशबाजी भी की गई।

बारात में शामिल लोग संगीत की स्वर लहरियों के साथ नाचते हुए आगे बढ़े। इस बारात को देखने के लिए बड़ी संख्या में लोग उमड़ पड़े। इसके बाद स्थानीय मौहल्ले का चक्कर लगा बारात वापस होटल पहुंची। दूल्हा-दुल्हन के लिए मारवाड़ी परम्परा के अनुसार ड्रेस तैयार कराई गई।

होटल में पंडित ने दोनों को फेरे खिला शादी संपन्न कराई। इस दौरान पंडित ने दोनों को बारी-बारी से सात वचनों का महत्व बताते हुए इनकी शपथ दिलाई। फिर रैन ने ब्लिंको की मांग में सिन्दूर भरा। शादी संपन्न होने के बाद दोनों ने कहा कि वे बहुत प्रसन्न है। वैदिक परम्परा के साथ शादी करने से उन्हें असीम शांति का अनुभव महसूस हो रहा है।