आखिर कब तक पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम बने रहेंगे राजनैतिक मुद्दा:-पुनीत पांडेय

130

हमारे आदर्श भगवान श्रीराम के जन्मस्थली आयोध्या में मन्दिर निर्माण को लेकर लगभग पिछले तीन दशक से राजनीति हो रही है और तबसे हमारे मर्यादा पुरूषोत्तम भगवान फटेहाल तिरपाल में रह रहे।। पार्टी विशेष भगवान राम का नाम लेकर सरकार में तो आगई पर राम जी अभी भी सिर्फ और सिर्फ राजनैतिक मुद्दा बन कर रह गए ।।
कुछ दिन पहले मंत्री मंडल विस्तार में केंद्रीय मंत्री बने शिव प्रताप शुक्ला ने कहा कि भाजपा ने कभी राम मंदिर को मुद्दा नही बनाया ना ही राम मंदिर बनवाने का वादा किया।। लेकिन तभी भाजपा के एक और बड़े नेता का बयान आता है कि भाजपा राम मन्दिर मुद्दा नही छोड़ सकती ।।
इससे ये तो स्पष्ट हो गया कि भगवन श्रीराम और उनके जन्मस्थली पर मन्दिर निर्माण को लेकर सिर्फ और सिर्फ राजनीति हो रही।।हलांकि प्रदेश में आई योगी सरकार ने लगभग 100 फिट ऊची प्रतिमा लगाने की घोषणा की है पर मन्दिर कब बनेगा इसका नही पता।।
राम मंदिर को लेकर भाजपाई हमेसा नारा देते थे और है कि ” रामलला हम आएंगे,मन्दिर वही बनाएंगे” पर आज तक मन्दिर नही बना।। तब सपा ने एक लाइन और जोड़ा कि “लेकिन तारीख नही बताएंगे”।
राममंदिर मुद्दा अभी सुप्रीम कोर्ट में लटका पड़ा है और पड़ा रहेगा क्योंकि वो एक ऐसा तवा है जिसपर राजनैतिक पार्टियां अपनी रोटियां सेंकती है।। योगी जी भाजपा को एक और मौका दिया और राम मंदिर मुद्दे को फिर से जिंदा करने के लिए मन्दिर ना नही मूर्ति ही लगवा दिया।।
अयोध्या भगवान श्रीराम की जन्मभूमि है इसलिए राम मंदिर वही बनना चाहिए।।इसमें किसी को कोई आपत्ति नही बस ये मुद्दा कोई खत्म नही करना चाहता है क्योंकि ये एक धार्मिक मुद्दा है जिसे कोई भी आसानी से भुना सकता है।।