Friday, August 14, 2020

अगर किसी ने आपकी प्रॉपर्टी पर कर लिया है कब्जा, तो बिना कोर्ट जाए ऐसे कराएं खाली

लेस्बियन बीवी ने इलेक्ट्रिक कटर से टुकड़ों में काटी पति की बॉडी, पुरुषों से करती थी नफरत…

जोधपुर। सीवरेज ट्रीटमेंट प्लांट में बुधवार को एक युवका का शव टुकड़ों में बहते हुए मिला था। इस सनसनीखेज हत्याकांड का जोधपुर पुलिस...

प्रेमी दरोगा के साथ मिलकर सिपाही बीवी रच रही हत्या की साजिश’, 900 कॉल रिकॉर्डिंग लेकर थाने पहुंचा कांस्टेबल…

उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले से एक सनसनीखेज मामला सामने आया है, जिस सुनकर आपके भी होश उड़ जाएंगे। दरअसल, यहां एक...

शादी के बाद 2-2 लड़कों से इश्क लड़ा रही थी चांदनी, एक रात रची खौफनाक साजिश….

राजस्थान के धौलपुर जिले की सरमथुरा थाना पुलिस ने एक युवक की हत्या के मामले का खुलासा कर दिया है। मृतक युवक...

तिरंगे में लिपटे पिता को देख जब मासूम बेटे ने पैर छुए तो भर आईं हर शख्स की आंखें

पुलवामा में आतंकियों से मुठभेड़ में शहीद जिलाजीत यादव का पार्थिव शरीर शुक्रवार की सुबह जौनपुर पहुंचा। अंतिम...

कोरोना काल मे गिरती अर्थव्यवस्था और बढ़ती बेरोजगारी…..

अर्थव्यवस्था में आई मंदी सिर्फ जीडीपी के सिकुड़ने का एक स्वरूप भर मात्र नहीं है। सही मायने में यह बीते कई वर्षों...

प्रॉपर्टी से गैर कानूनी कब्जा खाली कराने के लिए स्पेसिफिक रिलीफ एक्ट की धारा 5 के तहत प्रावधान किया गया है. हालांकि प्रॉपर्टी के विवाद में सबसे पहले स्टे ले लेना चाहिए, ताकि कब्जा करने वाला व्यक्ति उस प्रॉपर्टी पर निर्माण न करा सके और न ही उसको बेच सके.

अगर आपके घर या जमीन पर किसी ने कब्जा कर लिया है, तो आप बिना कोर्ट जाए इसको खाली करा सकते हैं. इस संबंध में सुप्रीम कोर्ट ने अपना फैसला सुनाया है.

पूनाराम बनाम मोती राम के मामले में फैसला सुनाते हुए शीर्ष अदालत ने कहा कि कोई व्यक्ति दूसरे की संपत्ति पर गैर कानूनी तरीके से कब्जा नहीं कर सकता है. अगर कोई किसी दूसरे की प्रॉपर्टी में ऐसे कब्जा कर लेता है, तो पीड़ित पक्ष बलपूर्वक खुद ही कब्जा खाली करा सकता है. हालांकि इसके लिए जरूरी है कि आप उस प्रॉपर्टी के मालिक हों और वह आपके नाम हो यानी उस प्रॉपर्टी का टाइटल आपके पास हो.

पूना राम बनाम मोती राम मामले में सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि अगर आपके पास प्रॉपर्टी का टाइटल है, तो आप 12 साल बाद भी बलपूर्वक अपनी प्रॉपर्टी से कब्जा खाली करा सकते हैं. इसके लिए कोर्ट में मुकदमा दायर करने की जरूरत नहीं है. हां अगर प्रॉपर्टी का टाइटल आपके पास नहीं और कब्जा को 12 साल हो चुके हैं, तो आपको कोर्ट में केस करना होगा. ऐसे मामलों की कानूनी कार्यवाही के लिए स्पेसिफिक रिलीफ एक्ट 1963 (Specific Relief Act 1963) बनाया गया है.

ये भी पढ़े :  Lockdown Effect: फिर बंद हुई इन ट्रेनों की बुकिंग, अब 30 अप्रैल तक नहीं चलेंगी ये ट्रेनें
ये भी पढ़े :  जनजातियो के परिवारो से फिर बरामद हुई 33 बाईबल

प्रॉपर्टी से गैर कानूनी कब्जा खाली कराने के लिए स्पेसिफिक रिलीफ एक्ट की धारा 5 के तहत प्रावधान किया गया है. हालांकि प्रॉपर्टी के विवाद में सबसे पहले स्टे ले लेना चाहिए, ताकि कब्जा करने वाला व्यक्ति उस प्रॉपर्टी पर निर्माण न करा सके और न ही उसको बेच सके.

स्पेसिफिक रिलीफ एक्ट की धारा 5 के मुताबिक अगर कोई प्रॉपर्टी आपके नाम है यानी उस प्रॉपर्टी का टाइटल आपके पास है और किसी ने उस प्रॉपर्टी पर गैर कानूनी तरीके से कब्जा कर लिया है, तो उसे खाली कराने के लिए सिविल प्रक्रिया संहिता (सीपीसी) के तहत मुकदमा दायर करना होता है.

पूना राम राजस्थान के बाड़मेर का रहने वाला है. उसने साल 1966 में एक जागीरदार से जमीन खरीदी थी, जो एक जगह नहीं थी, बल्कि अलग-अलग कई जगह थी. जब उस जमीन पर मालिकाना हक की बात आई, तो यह सामने आया कि उस जमीन पर मोती राम नाम के एक शख्स का कब्जा है. हालांकि मोती राम के पास जमीन के कोई कानूनी दस्तावेज नहीं थे. इसके बाद पूना राम ने जमीन पर कब्जा पाने के लिए कोर्ट में केस किया. मामले में ट्रायल कोर्ट ने पूना राम के पक्ष में फैसला सुनाया और मोती राम को कब्जा खाली करने का आदेश दिया.

ये भी पढ़े :  उन्नाव का दहलाने वाला सच- 11 महीने में 86 रेप की घटनाएं, 185 छेड़छाड़

इसके बाद मोती राम ने मामले की अपील राजस्थान हाईकोर्ट में की. इस मामले में सुनवाई करते हुए हाईकोर्ट ने ट्रायल कोर्ट के फैसले को पलट दिया और मोती राम के कब्जे को बहाल कर दिया. इसके बाद पूना राम ने राजस्थान हाईकोर्ट के फैसले के खिलाफ सुप्रीम कोर्ट में अपील की, जिस पर कोर्ट ने पूना राम के पक्ष में फैसला सुनाया और कहा कि जमीन का टाइटल रखने वाला व्यक्ति जमीन से कब्जे को बलपूर्वक खाली करा सकता है.

इस मामले में मोती राम ने दलील दी कि उस जमीन पर उसका 12 साल से ज्यादा समय से कब्जा है. लिमिटेशन एक्ट की धारा 64 कहती है कि अगर जमीन पर किसी का 12 साल से ज्यादा समय से कब्जा है, तो उसको खाली नहीं कराया जा सकता है. हालांकि सुप्रीम कोर्ट ने मोती राम की इस दलील को खारिज कर दी. शीर्ष कोर्ट ने कहा कि यह कानून उन मामलों में लागू होता है, जिन जमीनों का मालिक कोई नहीं है, लेकिन जिस जमीन का कोई मालिक है और उसके पास उस जमीन का टाइटल है, तो उसको 12 साल बाद भी बलपूर्वक खाली कराया जा सकता है.

ये भी पढ़े :  उन्नाव का दहलाने वाला सच- 11 महीने में 86 रेप की घटनाएं, 185 छेड़छाड़

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर के इस बेटे का आईएएस में हुआ चयन, कहा- सपने मायने रखते हैं, गरीबी नहीं

जिंदगी में कुछ सार्थक करने के लिए सपने मायने रखते हैं, गरीबी नहीं। शुरुआती...

समधी-समधन के बाद अब जेठ-देवरानी घर से भागे, जेठानी बोली- बच्चों को कैसे पालूंगी….

यहां समधी-समधन के प्यार में घर से भाग जाने के बाद अब एक शादीशुदा शख्स अपने ही छोटे भाई की पत्नी के साथ भाग...

Related Articles

केंद्रीय आयुष मंत्री श्रीपद नाइक भी कोरोना पॉजिटिव, कहा- मेरे संपर्क में आए लोग करा लें जांच….

केंद्रीय आयुष राज्य मंत्री श्रीपद वाई नाइक (Shripad Y Naik) कोरोना से संक्रमित पाए गए हैं। उन्‍होंने खुद ट्वीट कर यह...

ब्रेकिंग:कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी का निधन,आज ही लिया था टीवी डिबेट में हिस्सा….

कांग्रेस के राष्ट्रीय प्रवक्ता राजीव त्यागी का आज निधन हो गया।।आज अचानक उनकी तबियत बिगड़ी थी जिसके...

इस प्रदेश के 10 वीं पास शिक्षामंत्री ने लिया कक्षा 11वीं में एडमिशन,कहा:पढ़ने व सीखने की कोई उम्र नही होती….

अगर आप पढ़ना या सीखना चाहे तो पढ़ने व सीखने की कोई उम्र नही होती...इसी को चरितार्थ कर रहे झारखंड प्रदेश के...
%d bloggers like this: