Monday, September 21, 2020

अजय कुमार लल्लू- सत्ता का दम और दंभ आत्मबल को पंगु न बना दे!

गोरखपुर में बदमाशों ने फिल्मी अंदाज में बरसाई ताबड़तोड़ गोलियां, एक शख्स हुआ घायल….

गोरखपुर गोरखपुर जिले में बदमाशों के हौसले बुलंद हैं। यहां सोमवार को कैंट इलाके के सिंघाड़िया से लेकर...

बिग ब्रेकिंग:- योगी आदित्यनाथ ने आईपीएस सोनम कुमार को भेजा गोरखपुर,बिगड़ती कानून व्यवस्था करेंगे दुरुस्त

गोरखपुर में आए दिन हो रहे अपराध को रोकने के लिए जिले में एक और आईपीएस की तैनाती की गई है बताया...

गोरखपुर के अपर पुलिस अधीक्षक बने सोनम कुमार। दो आईपीएस स्थानांतरित।

गोरखपुर के अपर पुलिस अधीक्षक बने सोनम कुमार। दो आईपीएस स्थानांतरित।

बेरोजगारी व ध्वस्त कानून व्यवस्था सहित इन छः मुद्दों पर आज योगी सरकार को घेरेगी समाजवादी पार्टी….

आज समाजवादी पार्टी तहसील स्तर पर प्रदेश के 6 जव्वलत मुद्दों पर सरकार को घेरेगी।।समाजवादी पार्टी के...

गोरखपुर,देवरिया कुशीनगर आदि के लोगों के लिए बड़ी खुशखबरी अब करें ताज का दीदार, लाखों को मिलेगा रोजगार….

कोरोना जैसी गंभीर हमारी के कारण लगभग 200 दिनों से बंद आगरा का ताजमहल अब फिर से खुल गया है आपको बताते...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

यहाँ संदर्भ कांग्रेस नेता अजय कुमार लल्लू का है| वे लम्बी अवधि से कैद में हैं। कम से कम उनकी जमानत की मुखालिफत तो नहीं होनी चाहिए।

New Delhi, Jun 13 : सत्तासीन राजनेताओं द्वारा अपने विरोधियों को लम्बी अवधि तक कारागार में निरुद्ध नहीं करना चाहिए। सियासी सहिष्णुता का यही तकाजा है। यदि अपराध नृशंस हो, तो बात दीगर है| उत्तर प्रदेश में सदा ऐसी ही उदार परिपाटी रही है। सिवाय इमर्जेंसी (1975-77) वाले फासिस्ट इन्दिरा युग के। अर्थात् सहिष्णुता ही लोकतंत्र का सौष्ठव है। इसे नष्ट नहीं करना चाहिए।

यहाँ संदर्भ कांग्रेस नेता अजय कुमार लल्लू का है| वे लम्बी अवधि से कैद में हैं। कम से कम उनकी जमानत की मुखालिफत तो नहीं होनी चाहिए। याद रहे सत्ता एक तवा की मानिन्द है। उस पर रोटी की भांति पार्टियाँ भी पलटती रहती रहती हैं। यही जिन्दा कौमों की निशानी है।
स्वतंत्रता के पश्चात यही अपेक्षित था कि बापू का दिया सत्याग्रह वाला अस्त्र आम उपयोग में मान्य रहेगा। अन्याय के विरुद्ध| इसीलिए (प्रमुख प्रतिपक्ष) सोशलिस्टों ने फावड़ा और पहिया को अपने लाल झण्डे का चिन्ह बनाया था। उसमें जेल को जोड़ दिया था। मगर जवाहरलाल नेहरू का ऐलान था कि मताधिकार मिल गया, अतः सत्याग्रह अब बेमाने है।

ये भी पढ़े :  सुप्रीम कोर्ट से तेजस्वी को झटकाः बंगला भी खाली करना होगा, 50 हजार रुपये जुर्माना भी लगा....

मगर जहाँ संख्यासुर के दम पर सत्तासीन दल निर्वाचित सदनों को क्लीव बना दे, असहमति को दबा दे, आम जन पर सितम ढायें, तो मुकाबला कैसे हो? इसीलिए लोहिया ने गांधीवादी सत्याग्रह को सिविल नाफरमानी वाला नया जामा पहना कर एक कारगर अस्त्र में ढाला था। इसमें वोट के साथ जेल भी पूरक बन गया था। उनका विख्यात सूत्र था, “जिंदा कौमें पाँच साल तक इंतजार नहीं करतीं।’’ यही सिद्धान्त लियोन ट्राटस्की की शाश्वत क्रान्ति और माआं जेडोंग के अनवरत संघर्ष के रूप में प्रचारित हुआ था। लोहिया ने इतिहास में प्रतिरोध के अभियान की शुरुआत भक्त प्रह्लाद और यूनान के सुकरात, फिर अमेरिका के हेनरी डेविड थोरो में देखी थी। बापू ने उसे देसी आकार दिया था। लोहिया की मान्यता भी थी कि प्रतिरोध की भावना सदैव मानव हृतंत्री को झकझोरती रहती है, ताकि सत्ता का दम और दंभ आत्मबल को पंगु न बना दे।

ये भी पढ़े :  सांसद प्रज्ञा ठाकुर को धमकी की जांच मध्य प्रदेश एटीएस को सौंपी

स्वाधीन लोकतांत्रिक भारत में सत्याग्रह के औचित्य पर अलग-अलग राय व्यक्त होती रही है। जवाहरलाल नेहरू ने प्रधानमंत्री बनते ही निरूपित कर दिया था कि स्वाधीन भारत में सत्याग्रह अब प्रसंगहीन हो गया है। उनका बयान आया था जब डॉ. राममनोहर लोहिया दिल्ली में नेपाली दूतावास के समक्ष सत्याग्रह करते (25 मई 1949) गिरफ्तार हुए थे। नेपाल के वंशानुगत प्रधानमंत्री राणा परिवार वाले लोग नेपाल नरेश त्रिभुवन को कठपुतली बनाकर प्रजा का दमन कर रहे थे। इसका विरोध करने पर वे दिल्ली जेल में डाल दिए गए| ब्रिटिश और पुर्तगाली जेलों में सालों कैद रहने वाले लोहिया का विश्वास था कि आजाद भारत में उन्हें फिर इस मानवकृत नरक में नहीं जाना पडे़गा । मगर प्रतिरोध की कोख से जन्मा राष्ट्र उसी कोख को ठोकर लगा चूका था। अतः आजादी के प्रारम्भिक वर्षां में ही यह सवाल उठ गया था कि सत्ता का विरोध और सार्वजनिक प्रदर्शन तथा सत्याग्रह करना क्या लोकतंत्र की पहचान बने रहेंगे अथवा मिटा दिए जाएंगे? लंम्बी अवधि तक सत्ता सुख भोगने वाले कांग्रेसियों को छठी लोकसभा में विपक्ष में (1977) आ जाने के बाद ही एहसास हुआ था कि प्रतिरोध एक जनपक्षधर प्रवृत्ति है। इसे संवारना चाहिए। यह अवधारणा विगत वर्षों में खासकर उभरी है, व्यापी है। इसके अजय कुमार लल्लू जीवंत उदहारण हैं|

ये भी पढ़े :  कंगना हमारी शान,कुछ हुआ तो संजय राउत तेरी आँखे निकालकर हाथ काटकर फेंक देंगे:

याद कीजिये पैंतालीस वर्ष पहले (25 जून 1975) यही प्रतिरोध की आवाज इमर्जेंसी (1975-77) के दौरान कुचल दी गयी थी| मीडिया सरकारी माध्यम मात्र बन गया था| अधिनायकवाद के विरोधी जेलों में ठूंस दिए गए थे| समूचा भारत गूंगा बना दिया गया था| हालाँकि उसके कान और आँख ठीक थे| फिर सत्ता का पासा पलटा| दूसरी आजादी आई| लोकनायक जयप्रकाश अँधेरे को हटाकर प्रकाश लाये| लोकशाही लौटी| हम श्रमजीवी पत्रकारों का सरोकार इसीलिए हर विप्लव, विद्रोह, बगावत, क्रांति, उथल-पुथल, जनांदोलन, संघर्ष, असहमति से होता है| वे सब सभ्यता को आगे ले जाते हैं|

ये भी पढ़े :  सांसद प्रज्ञा ठाकुर को धमकी की जांच मध्य प्रदेश एटीएस को सौंपी
(के विक्रम राव के फेसबुक वॉल से साभार, ये लेखक के निजी विचार हैं)

The post अजय कुमार लल्लू- सत्ता का दम और दंभ आत्मबल को पंगु न बना दे! appeared first on INDIA Speaks.

शेष इंडिया स्पीक्स पर

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

सपा की बैठक में जनसमस्याओं को लेकर राज्यपाल को ज्ञापन भेजने का निर्णय…

महाराजगंज: समाजवादी पार्टी जनपद महाराजगंज की एक महत्वपूर्ण बैठक नवनियुक्त जिला अध्यक्ष आमिर हुसैन की अध्यक्षता में की गई बैठक में राष्ट्रीय...

राज्य के सभी गांवों में फ्री वाईफाई,रोजाना 30 जीबी डाटा फ्री मिलेगा…

दिल्ली से सटे हरियाणा के ग्रामीण इलाकों में रहने वालों के लिए खुशखबरी है। राज्य के प्रत्येक गांव में वाईफाई (wireless fidelity)...

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का आपत्तिजनक पोस्ट करना मनचले युवक को पड़ा भारी, पुलिस ने किया गिरफ्तार…

महाराजगंज: उत्तर प्रदेश के महराजगंज जनपद में एक सनकी युवक द्वारा सोशल मीडिया पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आपत्तिजनक फ़ोटो पोस्ट वायरल...
%d bloggers like this: