Sunday, June 13, 2021

अनोखा शादी समारोह: एक ही मंडप में बाप-बेटे, ससुर-दामाद, भाई-बहन ने लिए सात फेरे

69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों का बड़े पैमाने पर अव्हेलना को लेकर आज़ाद समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष ने एसडीएम को सौंपा...

Maharajganj: 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों की बड़े पैमाने पर अवहेलना की गयी है जिसमें OBC वर्ग...

तेज रफ्तार कार से ऑटो की भिड़ंत, घायलों को पहुंचाया गया अस्पताल।

फरेंदा (महराजगंज): जनपद में हर रोज हो रहे सड़क हादसे चिंता का बड़ा सबब बनते जा रहे हैं। फरेंदा कस्बे के उत्तरी...

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...

फिल्‍मी स्‍टायल में कुछ इस तरह लाल जोड़े में दुल्हन का रूप धारण कर प्रेमिका की शादी में पहुंच गया प्रेमी और खुल गयी...

भदोही. जिले में एक युवक ने प्रेमिका से मिलने का ऐसा प्लान बनाया कि मामला खुलने के बाद लोगों ने दांतो तले...

शहीद नवीन सिंह के परिवार को पवन सिंह ने दिया सहयोग।

जम्मू कश्मीर में शहीद हुए गोरखपुर निवासी...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

Gumla: झारखंड राज्य में सैकड़ों ऐसे जोड़ें हैं, जो बिना औपचारिक शादी किए बगैर एक दूसरे के साथ लिव-इन-रिलेशनशिप में रह रहें हैं. ऐसे ही 55 जोड़ों का सामूहिक विवाह मंगलवार को बसिया के सरना मैदान में समारोहपूर्वक संपन्न हुआ. बसंत पंचमी के शुभ मुहूर्त में प्रसिद्ध स्वयंसेवी संस्था निमित ने मानवता का धर्म निभाएं- चलो किसी का घर बसाएं को चरितार्थ करते हुए सामूहिक विवाह कार्यक्रम का आयोजन किया गया. इसमें 55 जोड़े जो लिव इन रिलेशनशिप में रह रहें थे, अब अपने-अपने धर्म के रीति-रिवाज के अनुसार विवाह कर हमेशा के लिए एक दूजे के हो गए. हिंदू जोड़े का विवाह पं.बद्रीनाथ दास ने, ईसाई जोड़े का विवाह पादरी अनिल कुमार लकड़ा व सरना जोड़े का सामूहिक विवाह पहान जतरू भगत व चंद्रमनी देवी के द्वारा संपन्न कराया गया. 

दिलचस्प बात यह है कि इसमें एक ही परिवार के कई सदस्य एक साथ ही विवाह के बंधन में बंधे. एक मंडप में ही बाप, बेटे, ससुर, दामाद, भाई और बहन सबकी शादी हुई.  इस शादी के मंडप में सबसे उम्रदराज एक 62 साल के पिता पाको झोरा की शादी हुई जिन्होंने 40 साल तक लिव-इन-रिलेशनशिप में रहने के बाद सोमारी देवी से शादी की. उसी मंडप में पाको झोरा के बेटे जितेंद्र ने भी 12 साल तक बिना शादी के ही पूजा के साथ लिव-इन रिलेशनशिप (Live-in-Relationship) में रहने के बाद शादी रचाई. तो वहीं उसी परिवार में बहन की भी शादी किसी और से कराई गई. उन्होंने बताया कि उनके बच्चे भी हैं और अब तक वे बिना शादी के साथ रह रहे थे. आज रीति-रिवाज से शादी होने के बाद आधिकारिक पति-पत्नी का दर्जा मिला है. 

ये भी पढ़े :  ब‍िजनेसमैन की पत्नी को लूटकर बदमाश ने छूए पैर, बोला- बहन की शादी करना है, माफ कर देना
ये भी पढ़े :  सुहागरात पर दूल्हा-दुल्हन में जमकर हुई मारपीट, एक दूसरे पर लगाए आरोप, पांच के खिलाफ केस दर्ज।।

शादी नहीं होने का कारण उन्होंने संसाधनों की कमी बताया और कहा कि अब संस्था की वजह से हम शादी के परिणय सूत्र में बंध सके हैं.लोगों ने वर-वधू को उपहार व सुखी दाम्पत्य जीवन की शुभकामनाएं दी. इस मौके पर स्वयंसेवी सामाजिक संस्था निमित्त के सचिव निकिता सिन्हा ने बताया कि झारखंड के गांवों में हजारों जोड़े रहते हैं जिनकी औपचारिक शादी नहीं हुई होती है. यह जोड़े खराब आर्थिक स्थिति एवं कई अन्य वजह से शादी नहीं कर पाते हैं. वहीं कई जोड़ों के लिए आयोजन का खर्च उठाना भी संभव नहीं हो पाता है. ग्रामीण समाज की इन कुरीतियों के वजह से जोड़ों को बिना शादी किए साथ रहने के लिए मजबूर होना पड़ता है. इस दाम्पत्य संबंध को समाज से मान्यता नहीं मिल पाने की वजह से जीवन भर इन जोड़ों को परेशानियों का सामना करना पड़ता है. इसका सबसे बड़ा नुकसान गांव की हजारों महिलाओं एवं बच्चों को उठाना पड़ता है. साथ ही उन्हें अन्य सरकारी योजनाओं का लाभ भी नहीं मिल पाता है. 

इस सामाजिक कुप्रथा की वजह से पुरुष पार्टनर की मृत्यु पर जमीन एवं संपत्ति महिलाओं बच्चों को नहीं मिल पाती. बच्चों के कान छेदन की मनाही होती है और महिलाओं की असामयिक मृत्यु पर उन्हें सामूहिक कब्रगाह में अंतिम क्रिया कर्म का भी अधिकार नहीं दिया जाता. वहीं आने वाली पीढ़ी भी इन परिवारों की शादी से वंचित रह जाती है. झारखंड के सुदूरवर्ती गांव के ऐसे जोड़े लिव इन रिलेशनशिप में रहने को मजबूर हैं और अपने समाज से दूर रहकर कई तरह की परेशानियों को झेल रहे हैं. निमित्त संस्था द्वारा ऐसे जोड़ों को सामाजिक एवं कानूनी मान्यता दिलाने के लिए सामूहिक शादी कराई जा रही है. इसी क्रम में गुमला ज़िलें के बसिया से लिव इन रिलेशनशिप में रह रहें 55 जोड़ों का सामुहिक विवाह संपन्न कराया गया. संस्था की ओर से जोड़ों को भेंट स्वरूप कपड़े, बर्तन एवं अन्य सामग्री दिए गए. वहीं, संस्था की सचिव निकिता सिन्हा ने जोड़ों को बधाई देते हुए कहा कि उम्मीदों का सफर अभी शुरू हुआ है. इन जोड़ों के आने वाले दिनों में रजिस्टर विवाह प्रमाण पत्र उपलब्ध कराया जाएगा. निमित्त संस्था झारखंड के ग्रामीण क्षेत्रों में विकास के कई क्षेत्रों जैसे शिक्षा, जलापूर्ति, स्वच्छता आजीविका, जल छाजन, महिला और बाल विकास में वर्ष 2009 से रांची खूंटी जैसे जिलों में कार्य कर रही है. मौके पर संस्था के जवाहर मिश्रा, रामकुमार सिंह सरोजिनी चौधरी, नितेश चौधरी, बीडीओ रबिन्द्र गुप्ता, परमेश्वर अग्रवाल, बेला रचना मिंज, डेजी कुजूर, मुखिया पुष्पा देवी आदि उपस्थित थे.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों का बड़े पैमाने पर अव्हेलना को लेकर आज़ाद समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष ने एसडीएम को सौंपा...

Maharajganj: 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों की बड़े पैमाने पर अवहेलना की गयी है जिसमें OBC वर्ग...

तेज रफ्तार कार से ऑटो की भिड़ंत, घायलों को पहुंचाया गया अस्पताल।

फरेंदा (महराजगंज): जनपद में हर रोज हो रहे सड़क हादसे चिंता का बड़ा सबब बनते जा रहे हैं। फरेंदा कस्बे के उत्तरी...

फिल्‍मी स्‍टायल में कुछ इस तरह लाल जोड़े में दुल्हन का रूप धारण कर प्रेमिका की शादी में पहुंच गया प्रेमी और खुल गयी...

भदोही. जिले में एक युवक ने प्रेमिका से मिलने का ऐसा प्लान बनाया कि मामला खुलने के बाद लोगों ने दांतो तले...
%d bloggers like this: