Wednesday, April 24, 2019
Gorakhpur

अपराधियो को अपनी गोली का निशाना बनाने वाले गोरखपुर के सिंघम एनकाउंटर स्पेशलिस्ट सत्य प्रकाश सिंह को मिला राष्ट्रपति का वीरता पुरस्कार व शौर्य चक्र…….

अपराधियो को नाको चने चबवाने वाले और अपनी गोली का निशाना बनाने वाले गोरखपुर एसटीएफ के गांधी कहे जाने वाले प्रभारी निरीक्षक सत्य प्रकाश सिंह को राष्ट्रपति का पुलिस पदक व शौर्य चक्र सम्मान प्राप्त हुआ है।।2008 में गोरखपुर एसटीएफ में तैनाती के बाद उन्होंने अब तक 13 एनकाउंटर किये जिससे अपराधियो के मन मे पुलिस का ख़ौफ़ बैठ गया।।शांत स्वभाव के सत्य प्रकाश सिंह ने पहला एनकाउंटर डकैत धनश्याम केवट का किया यह मुठभेड़ 55 घँटे चला जिसमे कई सौ राउंड गोलियां चली पर अंततः घनश्याम केवट समेत तीन डकैत को मार गिराया।।पूर्वांचल के डकैत रूदल यादव और विजय हरजन का एनकाउंटर किया जिसके बाद वर्तमान मुख्यमंत्री तब सांसद रहे योगी आदित्यनाथ ने सत्यप्रकाश सिंह और उनके टीम की पीठ थपथपाई और राष्ट्रपति पदक के लिए पत्र लिखा।।

सरकारी नौकरी में जुगाड़ लगाकर साल्वर गिरोह का भंडाफोड़ करने वाले सत्यप्रकाश सिंह उस समय चर्चित हुए जब उन्होंने 2016 में धर्मेंद्र सिंह व उनके गिरोह के साथ कडजहा में अपनी टीम के साथ उसे घेर लिया जिसमे एनकाउंटर में धर्मेंद्र सिंह घायल हो गया पर इलाज के दौरान उसकी मौत हो गई।।इस टीम की अगुवाई एडिशनल एसपी विकास चन्द्र त्रिपाठी कर रहे थे।।एसटीएफ टीम ने सुमित सिंह उर्फ मोनू चवन्नी,चर्चित माफिया राकेश राय और सोनू रॉक,महेश राय जैसे कई इनामी अपराधियो को गिरफ्तार भी किया।।

मूलतः आजमगढ़ के रहने वाले सत्यप्रकाश सिंह की पुलिस विभाग में इलाहाबाद जिला पुलिस में नियुक्ति हुई।।जिसके बाद उन्हें सक्रिय देखते हुए इलाहाबाद एसटीएफ में भेज दिया गया फिर 2008 में उन्हें गोरखपुर में पोस्टिंग मिली और वर्तमान में वो गोरखपुर एसटीएफ के प्रभारी निरीक्षक है।।गोरखपुर टाइम्स न्यूज़ नेटवर्क गोरखपुर वासियो के तरफ से उन्हें सम्मान मिलने पर शुभकामनाए देता है।।

Advertisements
%d bloggers like this: