Wednesday, April 24, 2019
Uttar Pradesh

अब किसी सैनिक की पत्नी का सुहाग न छिने,पढ़े शहीद पत्नी का दर्द…

पुलवामा में आतंकी हमले से वर्ष 2013 में शहीद हुए लांस नायक हेमराज सिंह के परिवारों वालों के जख्म एक बार फिर ताजा हो गए। पति को खोने का दर्द सहने वाली शहीद की पत्नी धर्मवती ने मांग की है कि सरकार सख्त से सख्त कार्रवाई करे ताकि भविष्य में महिलाओं का सुहाग और बच्चों के सिर से पिता का साया न छिने।

मालूम हो कि 8 जनवरी, 2013 को मथुरा के हेमराज सिंह और एक अन्य जवान लांस नायक सुधाकर सिंह की पाकिस्तानी सैनिकों ने घात लगाकर बर्बरता से हत्या कर दी थी। पाकिस्तानी सैनिक हेमराज का सिर काटकर ले गए थे, जिसके चलते उनके परिवार को हेमराज का चेहरा देखना तक नसीब नहीं हो सका था।

शहीद हेमराज की पत्नी धर्मवती कहती हैं कि यह बर्दाश्त करने लायक नहीं है। सरकार चाहे कुछ भी करे, लेकिन किसी सैनिक की पत्नी अब विधवा नहीं होनी चाहिए। जैसा मेरे और अन्य जवानों की पत्नियों के साथ हुआ है, वो दिन किसी और सैनिक की पत्नी को न देखना पड़े।

हेमराज के भाई जयवीर कहते हैं कि भाई हेमराज की शहादत को 6 साल बीत चुके हैं, लेकिन परिवार मदद के लिए दर-दर भटक रहा है। न तो किसी को सरकारी नौकरी मिली न ही पेट्रोल पंप। परिवार को आज भी हर बात के लिए दूसरे का सहारा लेना होता है।

राजस्थान राइफल्स में थे हेमराज और सुधाकर : शहीद हेमराज और सुधाकर दोनों जम्मू सीमा पर 13 राजस्थान राइफल्स में लांसनायक के पद पर तैनात थे। वर्ष 2015 में जब भारतीय जवानों ने हेमराज के हत्यारे को मार गिराया तब उनकी पत्नी धर्मवती ने उसका सिर काटकर उन्हें सौंपने की मांग की थी।

Advertisements
%d bloggers like this: