Friday, July 30, 2021

अमित की देशभक्ति – जुनून को सलाम : 15 गोलियां सीने पर लगी फिर भी निहत्थे ही आतंकियों को मार डाला

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

सैनिक की एक तमन्ना होती है। लड़ते हुए वो मातृभूमि के लिये शहीद हो जाये। दुश्मनों के मंसूबों को चकनाचूर कर दे। सैनिक मानते हैं कि देश के लिये मरने से कोई अच्छी मौत नहीं। मगर बहुत किस्मतवाले सैनिक होते हैं जिनको ऐसी मौत नसीब होती है। और जिनको ऐसी शहीदी नसीब होती है उन पर पूरा देश गर्व करता है।

शहीद अमित की फोटो। ट्विटर पर लेाग इनकी शहादत को सलाम कर रहे हैं

और 23 साल के उत्तराखंड के रहनेचाले अमित कुमार को भी इसी तरह की शहादत नसीब हुई। अमित कुमार पर पाकिस्तान के आतंकियों ने गोलियों की बरसात कर दी। उन्हें पंद्रह गोलियां मारी गईं। लेकिन उन्होंने हिम्मत नहीं हारी। और निहत्थे ही आतंकवादियों पर टूट पड़े और अंत में एक आतंकवादी को हाथ से ही दबोच लिया। और उसको अपने चाकू से ही गोद डाला। आतंकवादी की जान लेने के बाद ही अमित कुमार ने दम तोड़ा।
यह कहानी है उत्तरी कश्मीर के जामगुंड क्षेत्र में भारतीय सीमाओं पर घुसपैठ करने वाले पांच पाकिस्तानी आतंकवादियों के साथ पैराट्रूपर अमित कुमार और उनके चार अन्य बहादुर सैनिकों की, जो आतंकियों के साथ हुई गुतथम गुत्थी लड़ाई में शहीद हो गये। पिछले हफ्ते एलओसी पर घुसपैठ हुई थी। पुष्टि होने पर सर्च पार्टियां शुरू की गईं। हालांकि, पूरे सप्ताह इंडियन आर्मी उनको खोजते रही और पाकिस्तानी आतंकवादी क्षेत्र में तैनात भारतीय सैनिकों के साथ कई बार सामना होने के बावजूद भागने में सफल रहे। शनिवार को बाद में 4Para Special Forces के दो दस्ते को आतंकवादियों की तलाश में लगाया गया। इसमें से एक दस्ते में पैराट्रूपर अमित कुमार, सूबेदार संजीव कुमार, पैराट्रूपर बाल कृष्ण, हवलदार देवेंद्र सिंह और पैराट्रूपर छत्रपाल सिंह शामिल थे।
4 अप्रैल की देर शाम स्पेशल फोर्स के ये जवान जुमगुंड गांव के पास जंगल में आतंकवादियों को घेरने में कामयाब हो गये। स्थानीय पत्रकार शिव अरूर के अनुसार – सूबेदार संजीव ने पैराट्रूपर्स अमित और छत्रपाल के साथ मिलकर आतंकवादियों को बर्फ में पैदल ट्रैक करने की कोशिश की और बाद में एहसास हुआ कि वे पहाड़ के साथ एक कंगनी में चले गये।

ये भी पढ़े :  Lockdown के बीच पूरे विधि विधान के साथ खुले केदारनाथ के कपाट, जानिए खास बातें...
शहीद अमित उत्तराखंड के रहनेवाले थे।

इसी बीच स्पेशल फोर्स के जवान बर्फ में धंसने लगे और गिर पड़े। और तभी उनकी नजर आतंकियों पर पड़ी जो एक जमे हुए नाले में छिपे हुए थे। एक करीबी लड़ाई शुरू हो गई। इस दौरान जवानों पर आतंकियों ने गोली चला दी। जवान अमित को 15 बुलेट शॉट लगे। जबकि सूबेदार संजीव और पैराट्रूपर छतरपाल भी गंभीर रूप से घायल हो गये। अमित कुमार ने गोलियां लगने के बाद भी हिम्मत नहीं हारी और एक आतंकी को मार गिराया। संजीव के साथ मिलकर दो आतंकवादियों को मार गिराया। दूसरी ओर, हवलदार देवेंद्र और पैराट्रूपर बालकिशन अपने घायल साथियों को बचाने के लिए आगे बढ़े और आतंकवादियों के सीधे गोलियों का निशाना बन गये। वे भी एक और दो आतंकवादियों को खत्म करने में कामयाब रहे। पांचवा आतंकवादी जो घटनास्थल से भागने में सफल रहा, उसे बाद में 8 जाट के सैनिकों ने मार दिया।

एक वरीय अधिकारी ने बताया – किस्मत में यही होगा, जहां वे गिरे थे, आतंकवादी वहीं बैठे थे। इसके कारण प्वाइंट ब्लैंक रेंज पर जंग हुई। अब हमें स्पेशल फोर्स के जवानों के इस जंग को भविष्य के लिये मानक के रूप में स्थापित करना है कि कैसे सभी जवानों ने गिरने के बावजूद और बिना हथियारों के सभी पांच आतंकवादियों को मार गिराया।

इस मुठभेड़ में शहीद हुये स्पेशल फोर्स के पांचों शहीद

जब-जब हम अपनी मातृभूमि पर जान न्यौछावर करनेवालों के नाम लेंगे तो इन 5 शहीदों के नाम जरूर लिये जायेंगे। उनकी राष्ट्रभक्ति और साहस को पूरा देश सलाम करता है। देश और उसके लोगों की सेवा करने के लिए उनका बलिदान और निस्वार्थ जुनून ही हमें सुरक्षित जीवन का आनंद लेने की आजादी देता है। जय हिंद।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में कई IPS बदले गए,दिनेश कुमार गोरखपुर के नए एसएसपी.

कई IPS के तबादले हुए जिसमे गोरखपुर के एसएसपी जोगेंद्र कुमार को झाँसी का नया डीआईजी बनाया...

बड़े पैमाने पर हुआ सीओ का तबादला,125 सीओ किये गए इधर से उधर….

उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर सीओ यानी उपाधीक्षकों के तबादले किये गए।।125 उपाधीक्षकों का तबादला किया...

तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंसी बहू, सिद्धि के लिए दे दी अपने ही ससुर की बलि

उत्तर प्रदेश के कौशांबी में तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंस कर एक बहू ने अपने ही ससुर...
%d bloggers like this: