Sunday, April 11, 2021

आखिर क्यों क्षत्रिय नेता एक-एक कर अखिलेश यादव का साथ छोड़ रहे? ..इसके पीछे अपरिपक्वता या अहंकार…

दिनेश पांडेय एक बार फ़िर से सिधुवापार के प्रत्याशी के रूप में हुए सक्रिय

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव की शुरुआत होने के साथ ही जगह जगह प्रत्याशियों के द्वारा प्रचार प्रसार किया...

सांसद रवि किशन ने जिला।चिकित्सालय गोरखपुर में लिया कोरोना वैक्सीन का पहला डोज लगवाया..

वैश्विक महामारी कोरोना से बचाव हेतु गोरखपुर के सदर सांसद एवं अभिनेता रवि किशन ने आज गोरखपुर नेताजी...

कौड़ीराम से जितेंद्र सिंह (बबुआ) ने चुनाव प्रचार में झोंकी ताकत

जितेंद्र सिंह (बबुआ) ने चुनाव प्रचार में झोंकी ताकत पूर्व प्रत्याशी अजय सिंह व जे.के. सिंह ने दिया समर्थन

यूपी बोर्ड 2021: हाईस्कूल और इंटर की परीक्षाएं आठ मई से, स्कीम जारी

लखनऊ. यूपी बोर्ड 2021 के हाईस्कूल और इंटर की परीक्षाएं अब 24 अप्रैल की जगह आठ...

Cm योगी के गढ़ गोरखपुर में किस्मत आजमाने उतरी आप, जारी की पंचायत सदस्य प्रत्याशियों की चौथी सूची

योगी के गढ़ में किस्मत आजमाने उतरी आप ने जारी की पंचायत सदस्य प्रत्याशियों की चौथी सूचीगोरखपुर---मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के गढ़ में...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव पिता की विरासत नहीं संभाल पाए और पार्टी में एक के बाद एक बड़े नेताओं ने उनका साथ छोड़ दिया. इनमें पूर्वांचल और मध्य उत्‍तर प्रदेश के बड़े राजपूत नेताओं ने पार्टी छोड़कर यह साबित भी कर दिया कि उनका साथ मुलायम से था न की अखिलेश से. अमर सिंह हों या फिर रघुराज प्रताप सिंह या अब पूर्व प्रधानमंत्री स्व. चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर सभी ने एक-एक कर अखिलेश से दूरी बनाई और किनारे हो गए. अब सवाल यह उठता है कि क्या इसके पीछे अखिलेश की अपरिपक्वता है या फिर कम समय में ज्यादा ताकत मिलने की वजह से उनके अंदर पनपा अहंकार, जिसने अखिलेश के साथ पार्टी की नैया भी डुबो दी?
अखिलेश पिता मुलायम की बराबरी नहीं कर सकते समाजवादी पार्टी में लंबे समय तक मुलायम सिंह के साथ रहने वाले पूर्वांचल के नेता और एमएलसी यशवंत सिंह की मानें तो अखिलेश यादव मुलायम सिंह की बराबरी नहीं कर सकते. मुलायम सिंह यादव अमर सिंह से लेकर रघुराज प्रताप सिंह तक सबको अपने साथ लेकर चलते थे. चंद्रशेखर और मुलायम सिंह एक-दूसरे के लिए सदन में भी खड़े होते थे, लेकिन अखिलेश ने चंद्रशेखर के पुत्र नीरज शेखर को कोई सम्मान नहीं दिया. इतना ही नहीं रघुराज प्रताप सिंह को अखिलेश अपना प्रतिद्वंदी समझने लगे, जिसकी वजह से राजा भैया को भी अखिलेश से दूरी बनानी पड़ी. यशवंत स्‍पष्‍ट तौर पर कहते हैं कि अखिलेश राजनीतिक तौर पर सधे व्यक्ति नहीं हैं. यही वजह है कि उन्होंने लोगों को सम्मान नहीं दिया, जिसकी वजह से एक-एक कर सभी लोगों ने उनका साथ छोड़ दिया. इनमें खुद यशवंत सिंह भी शामिल हैं.
अखिलेश यादव में मुलायम सिंह जैसी बात नहीं है. वह पार्टी को चलाने में सक्षम नहीं है और लोगों को अब उन पर भरोसा नहीं रहा. इसकी वजह से वह चाहे अमर सिंह हों या फिर राजा भैया सभी ने अखिलेश का साथ छोड़ दिया. अखिलेश में राजनीतिक अपरिपक्वता अखिलेश को मुलायम सिंह यादव ने प्रेस कॉन्फ्रेंस कर सबसे बड़े सूबे का मुख्यमंत्री बना दिया और पार्टी की कमान उन्हें सौंप दी. इसकी वजह से अखिलेश ने पहले दिन से ही अपने चाचा शिवपाल की बेइज्जती की और फिर एक-एक कर मुलायम के सहयोगियों को दूर करते गए. अमर सिंह और राजा भैया जो हमेशा मुलायम सिंह के साथ खड़े रहते थे, अखिलेश उनको भी अपने साथ नहीं रख सके. अब चंद्रशेखर का बेटा नीरज शेखर भी बीजेपी में शामिल हो गए हैं, जबकि चंद्रशेखर और मुलायम सिंह के रिश्ते किसी से छिपे नहीं हैं. अखिलेश में राजनीतिक अपरिपक्वता है. वह लोगों की बात नहीं सुनते हैं. अपने पिता की बात भी नहीं मानते हैं. यही वजह है कि उनके अहंकार और कम समय में ज्यादा ताकत मिलने से अखिलेश ने लोगों को नजरअंदाज किया. ऐसे में लोगों ने अपना रास्ता चुन लिया. अखिलेश अगर समय रहते नहीं चेते तो आने वाला समय उनके लिए ठीक नहीं होगा और 30 साल के लंबे करियर जो अभी बाकी है, उस पर भी ग्रहण लग सकता है.

ये भी पढ़े :  69000 सहायक शिक्षक भर्ती परीक्षा के रिजल्ट का इंतजार आज खत्म, यहां देख सकेंगे रिजल्ट

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में कई IPS बदले गए,दिनेश कुमार गोरखपुर के नए एसएसपी.

कई IPS के तबादले हुए जिसमे गोरखपुर के एसएसपी जोगेंद्र कुमार को झाँसी का नया डीआईजी बनाया...

बड़े पैमाने पर हुआ सीओ का तबादला,125 सीओ किये गए इधर से उधर….

उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर सीओ यानी उपाधीक्षकों के तबादले किये गए।।125 उपाधीक्षकों का तबादला किया...

तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंसी बहू, सिद्धि के लिए दे दी अपने ही ससुर की बलि

उत्तर प्रदेश के कौशांबी में तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंस कर एक बहू ने अपने ही ससुर...
%d bloggers like this: