Sunday, July 25, 2021

आजमगढ़ में अखिलेश यादव ने निरहुआ को ढाई लाख से ज्यादा वोटों से हराया…

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

आजमगढ़ लोकसभा सीट पर सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव ने भाजपा प्रत्याशी भोजपुरी स्टार दिनेश लाल यादव निरहुआ को 2 लाख 59 हजार 874 मतों से हरा दिया है। अखिलेश को 6 लाख 21 हजार 578 अौर निरहुआ को 3 लाख 61 हजार 704 वोट मिले। शुरुआती रुझान से ही अखिलेश ने बड़ी बढ़त बना ली थी। रात दस बजे तक यहां गिनती चलती रही। यहां की दूसरी सीट लालगंज में बसपा की संगीता आजाद 1 लाख 61 हजार 597 वोटों से जीतीं। संगीता को 5 लाख 18 हजार 820 अौर बीजेपी की नीलम को 3 लाख 57 हजार 223 मत मिले।

आजमगढ संसदीय क्षेत्र और लालगंज के 13-13 प्रत्याशी की जमानत जब्त हो गई। लालगंज सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी भी अपनी जमानत नहीं बचा पाया। ओमप्रकाश राजभर की भासपा और शिवपाल यादव की पार्टी के प्रत्याशी भी जमानत बचा नहीं पाया।

आजमगढ़ लोकसभा निर्वाचन क्षेत्र में 26 वें राउंड की गणना तक जनहित किसान पार्टी के प्रमोद तिवारी को 2872 मत,ओमप्रकाश राजभर की पार्टी सुहेलदेव भासपा के अभिमन्यू को 8409 , नैतिक पार्टी के एहसान अहमद को 898, नागरिक एकता पार्टी के अरविंद को 875, बहुजन उदय मंच के गोरखराम निषाद को 1138 , निर्दल गौरव सिंह को 1317,राजीव सिंह तलवार को 1987, भारद के राजीव पांडेय को 3414, निर्दल बुधिराम यादव को 1926,भारतीय लोकसवा दल के राजाराम गोंड को 1752, उलेमा कौसिंल के अनिल को 6297, सर्वश्रेष्ट दल के मोहिन्दर कुमार को 2704, आम जनता पार्टी के पवन कुमार को 1001मत ही मिल पाए थे

लालगंज संसदीय सीट पर कांग्रेस प्रत्याशी पंकज मोहन सोनकर को शर्मनाक हार का सामना करना पड़ा। 29 वें राउंड की गणना तक कांग्रेस के पंकज मोहन को मात्र 17066 वोट मिले थे। इस सीट पर भारत प्रभात पार्टी के चंद्रशेखर को 1528 ,राष्ट्रीय उलेमा कौंसिल के राधेश्याम को 5959 , पृथ्वीराज जनशक्ति पार्टी के लछिमन को 1827 , कम्युनिस्ट पार्टी के त्रिलोकी को 8559, आम आदमी पार्टी के अजीत सोनकर को 4402 , सुहेलदेव भासपा के दिलीप कुमार को16853,शिवपाल यादव की पार्टी प्रगतिशील समाजवादी पार्टी लोहिया के हेमराज पासवान को 2257, निर्दल सुभाष सरोज को 3196 , रामचंद्र को 7149 , काशीराम बहुजन दल के पिंटू को 1603, निर्दल अखिलेश को 3139, संतोष कुमार को 3082मत पाकर अपनी जमानत गवांनी पड़ी।

ये भी पढ़े :  गोरखपुर ::-बांसगांव के विशुनपुर समेत गोरखपुर में मिले 21 कोरोना पॉजिटिव
ये भी पढ़े :  भारत सरकार द्वारा कर्मचारियों के मॅहगाई भत्ते पर रोक,सीधे सीधे कर्मचारी हितों का गला घोंटाना:- डॉ के सी पाण्डेय

आजमगढ़ लोकसभा सीट के लिए शहर के बेलइसा एफसीआई गोदाम में मतगणना हो रही है। विधानसभावार मतगणना के लिए 14-14 टेबल लगाए गए हैं। इसके अलावा एक-एक टेबल आरओ के लिए लगाए गए हैं। आजमगढ़ लोकसभा के मेहनगर विधानसभा में सबसे अधिक 436 बूथों की गणना पूरी करने में 32 राउंड होगी। यहां भी 31 वें राउंड के बाद दो ही बूथों की ईवीएम की गिनती रह जाएगी। 32 वें राउंड में दो बूथों की गिनती होगी।

आजमगढ़ और लालगंज लोकसभा की मतगणना के लिए 140 टोली में 560 कर्मचारियों को तैनात किया गया है। प्रत्येक टोली में एक मतगणना सुपरवाइजर, दो मतगणना सहायक और एक चतुर्थ श्रेणी का कर्मचारी शामिल है। बेइलइसा एफसीआई गोदाम में आजमगढ़ लोकसभा के लिए विधानसभावार 14-14 टेबल लगाए गए हैं। इसी तरह चकवल एफसीआई गोदाम में विधानसभावार 14-14 टेबल लगाए गए हैं। सुबह पहले बैलेट मतपत्रों की गिनती की जाएगी। इसके बाद ईवीएम से वोटों की गिनती शुरू की जाएगी।

आजमगढ़ में कभी किसी लहर का प्रभाव नहीं रहा। चाहे वह जनता लहर हो, राम लहर रहा हो या फिर मोदी लहर। हर चुनाव में यहां के वोटरों ने लहर के विपरीत परिणाम दिया है। 1978 में जब देश में कांग्रेस के खिलाफ लहर थी तब उपचुनाव में कांग्रेस की मोहसिना किदवई को जीत मिली। नब्बे के दशक के अंत में जिस वक्त पूरे देश में कांग्रेस के खिलाफ वीपी सिंह अपने पक्ष में लहर बनाने में कामयाब हुए, जनता दल अौर बीजेपी को बड़ी जीत मिली तब भी यहां जनता दल के प्रत्याशी त्रिपुरारी पूजन सिंह को पराजय मिली अौर बसपा के रामकृष्ण यादव जीते। रामलहर में भी भाजपा का प्रत्याशी जीत नहीं दर्ज करा सका। इसी तरह 2014 के चुनाव में इस सीट पर मोदी लहर का असर नहीं दिखा। भाजपा प्रत्याशी रमाकांत यादव सपा के मुलायम सिंह यादव से हार गए। इस बार मुकाबला सपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव अौर भोजपुरी स्टार भाजपा प्रत्याशी दिनेश लाल यादव निरहुआ के बीच है।

हर चुनाव में यहां दलित, यादव व मुस्लिम मतदाता ही जीत हार का फैसला करते रहे हैं। आंकड़ों को देखें तो इसी यादव, दलित, मुस्लिम में से किसी दो के गठजोड़ को जो भी उम्मीदवार अपने पाले में करने में सफल रहा उसी के सिर जीत का सेहरा बंधा। आाजादी के बाद के दो चुनाव के बाद सीमांकन से आजमगढ़ नाम से संसदीय सीट बनी।

ये भी पढ़े :  गोरखपुर का कोई व्यक्ति जो बाहर रह रहा है उसके लिए बड़ी खबर

जातिगत समीकरण से ही 1962 से लगातार इस सीट पर या तो यादव प्रत्याशी विजयी हुआ या फिर उपविजेता रहा। कई बार तो ऐसा रहा कि यादव उम्मीदवार ही यादव से लड़ा। इस तगड़े जातिगत समीकरण का ही जलवा रहा कि 1962 से अब तक हुए 14 आम चुनाव अौर दो उपचुनाव में बारह बार यादव जाति के उम्मीदवारों ने अपना परचम लहराते हुए लोकसभा पहुंचे। तीन बार मुस्लिम प्रत्याशियों ने कामयाबी हासिल की।

ये भी पढ़े :  ब्रेकिंग::-मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने दिया किसानों को राहत,जनहानि में भी 4 लाख का ऐलान

कभी कोसल साम्राज्य का हिस्सा रहे आजमगढ़ को प्रशासनिक रूप से ब्रिटिश हुकूमत ने 1832 में जनपद बनाया। बेहद संवृद्ध व गौरवशाली इतिहास वाले जनपद की इस संसदीय क्षेत्र का राजनीतिक इतिहास भी कम ओजपूर्ण नहीं रहा है। 1994 में आजमगढ जिला मण्डल मुख्यालय घोषित हुआ।

तमसा नदी के तट पर स्थित आजमगढ़ उत्तर प्रदेश के पूर्वी भाग में स्थित है। ऐतिहासिक द़ष्टि से भी यह स्थान काफी महत्वपूर्ण था। यह जिला मऊ, गोरखपुर, गाजीपुर, जौनपुर, सुल्तानपुर और अम्बेडकर जिले की सीमा से लगा हुआ है। याायावर साहित्यकार राहुल सांकृत्यायन, नाट्य सम्राट लक्ष्मीनरायन मिश्र, कवि सम्राट अयोध्या सिंह उपाध्याय हरिऔध, शायर कैफी आजमी, डा तुलसीराम ,छन्नूलाल मिश्र, जैसे मनीषी इस मजबूत सांस्कृतिक परंपरा के वाहक रहे हैं।

वर्ष सांसद पार्टी

1962 राम हरख यादव कांग्रेस

1967 चंद्रजीत यादव कांग्रेस

1971 चंद्रजीत यादव कांग्रेस

1977 रामनरेश यादव भारतीय लोकदल

1978 मोहसिना किदवई कांग्रेस (उपचुनाव)

1980 चंद्रजीत यादव जनता पार्टी सेक्युलर

\1985 संतोष सिंह कांग्रेस

1989 राम कृष्ण यादव बसपा

1991 चंद्रजीत यादव जनता पार्टी

1996 रमाकांत यादव समाजवादी पार्टी

1998 अकबर अहमद डंपी बसपा

1999 रमाकांत यादव समाजवादी पार्टी

2004 रमाकांत यादव बसपा

2008 अकबर अहमद डंपी बसपा (उपचुनाव)

2009 रमाकांत यादव भाजपा

2014 मुलायम सिंह यादव समाजवादी पार्टी

आजमगढ़ में मतदाता

कुल मतदाता 17.70 लाख

महिला 8.08 लाख

पुरुष 9.63 लाख

अन्य 74

संसदीय क्षेत्र की विधानसभाएं

गोपालपुर, सगड़ी, मुबारकपुर, आजमगढ, मेंहनगर

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में कई IPS बदले गए,दिनेश कुमार गोरखपुर के नए एसएसपी.

कई IPS के तबादले हुए जिसमे गोरखपुर के एसएसपी जोगेंद्र कुमार को झाँसी का नया डीआईजी बनाया...

बड़े पैमाने पर हुआ सीओ का तबादला,125 सीओ किये गए इधर से उधर….

उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर सीओ यानी उपाधीक्षकों के तबादले किये गए।।125 उपाधीक्षकों का तबादला किया...

तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंसी बहू, सिद्धि के लिए दे दी अपने ही ससुर की बलि

उत्तर प्रदेश के कौशांबी में तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंस कर एक बहू ने अपने ही ससुर...
%d bloggers like this: