Monday, July 22, 2019
Uttar Pradesh

आजम खान के बचाव में उतरा बेटा अब्दुल्लाह, कहा- एकतरफा है कार्रवाई, मुस्लिम होने की वजह से लगा बैन….

समाजवादी पार्टी के नेता और रामपुर से उम्मीदवार आज़म खान पर चुनाव आयोग की कार्रवाई पर बेटे अब्दुल्ला आज़म खान ने सवाल उठाए हैं. अब्दुल्ला ने प्रेस कांफ्रेंस कर चुनाव आयोग पर एकतरफा कार्रवाई के आरोप लगाए और कहा, ”मुस्लिम होने के चलते बैन लगाया गया. उन्होंने कहा कि कार्रवाई की पूरी प्रक्रिया नहीं की गई. हमसे कोई सफाई नहीं मांगी गई, न नोटिस दिया गया. सीधे कार्रवाई कर दी गई.” अब्दुल्ला रामपुर की स्वार सीट से एसपी विधायक हैं.

अब्दुल्ला ने कहा, ”इससे पहले 2014 में भी आज़म साहब पर ऐसी ही कार्रवाई की गई थी. मायावती जी और आज़म जी पर कार्रवाई के साथ योगी जी पर बैन दिखावे के लिए लगाया गया है. जयाप्रदा कहती हैं कि मैं दानव का अंत करने जा रही हूं. उसका कोई संज्ञान नहीं लिया जाता है.

उन्होंने कहा कि हम उम्मीद करते हैं चुनाव आयोग आपने ऐसे बयान का संज्ञान लिया है जिसमें किसी का नाम नहीं लिया गया.अब दुगनी मज़बूती से चुनाव लड़ेंगे. ”
निर्वाचन आयोग ने जयाप्रदा के बारे में रविवार को दिये गये खान के आपत्तिजनक बयान को चुनाव आचार संहिता उल्लंघन माना और कड़ी फटकार लगायी. साथ ही अगले तीन दिन तक प्रचार करने से रोक दिया है. यह दूसरा मौका है जब आजम खान को आयोग द्वारा प्रचार करने से प्रतिबंधित किया गया हो.

बीजेपी अध्यक्ष अमित शाह ने ट्विटर पर कहा, ‘‘ आजम खान का जया प्रदा के खिलाफ दिया गया बेहूदा बयान ना सिर्फ उनका बल्कि देश की करोड़ों मांओं और बहनों का अपमान है. यह देश की महाशक्ति (महिला शक्ति) का तिरस्कार है.’’

साथ ही उन्होंने कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी, सपा अध्यक्ष अखिलेश यादव और बसपा सुप्रीमो मायावती से सवाल किया कि क्या वह खान के बयान का समर्थन करते हैं?

हालांकि आजम ने एक दिन बाद सफाई देते हुये कहा कि उन्होंने अपने भाषण में किसी का नाम नहीं लिया और अगर किसी का नाम लिया हो तो वह चुनाव नहीं लड़ेंगें.

अब रामपुर की राजनीति में भी बुर्का उतर आया है. आज़म खान के विधायक बेटे अब्दुल्ला ने अब बुर्के को लेकर सवाल उठाया है.

अब्दुल्ला ने कहा कि जो आज तक नहीं हुआ, वो प्रशासन इस चुनाव में करने जा रहा है. बुर्का, हिजाब हटाकर महिलाओं के चेहरे देखे जाएंगे. संस्कृति की धज्जियां उड़ाई जाएंगी.
बता दें कि पहले चरण के मतदान के समय यूपी के मुजफ्फरनगर से बीजेपी प्रत्याशी संजीव बालियान ने बड़ा आरोप लगाते हुए कहा था कि बुर्के की आड़ में फर्जी वोटिंग हो रही है. हालांकि चुनाव आयोग ने इस आरोप का खंडन किया है. उत्‍तर प्रदेश के मुख्य निर्वाचन अधिकारी एल वेंकटेश्वर लू ने कहा इस तरह का बयान भ्रम फैलाने वाला है, इसमें कोई सच्चाई नहीं है.

Advertisements
%d bloggers like this: