Sunday, June 13, 2021

आजादी के आंदोलन रैलियों में जोश भरने का कार्य करती थी राष्ट्रीय गीत ‘वंदेमातरम’:कुलपति प्रो0 सुरेंद्र दुबे

महराजगंज के नगर पंचायत आनंद नगर में गैस सिलेंडर फटा, छः लोग जख्मी

Maharajganj: महाराजगंज जिले की नगर पंचायत आनंद नगर के धानी ढाला पर जमीर अहमद के मकान में सुबह 6:30 बजे खाना...

69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों का बड़े पैमाने पर अव्हेलना को लेकर आज़ाद समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष ने एसडीएम को सौंपा...

Maharajganj: 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों की बड़े पैमाने पर अवहेलना की गयी है जिसमें OBC वर्ग...

तेज रफ्तार कार से ऑटो की भिड़ंत, घायलों को पहुंचाया गया अस्पताल।

फरेंदा (महराजगंज): जनपद में हर रोज हो रहे सड़क हादसे चिंता का बड़ा सबब बनते जा रहे हैं। फरेंदा कस्बे के उत्तरी...

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...

फिल्‍मी स्‍टायल में कुछ इस तरह लाल जोड़े में दुल्हन का रूप धारण कर प्रेमिका की शादी में पहुंच गया प्रेमी और खुल गयी...

भदोही. जिले में एक युवक ने प्रेमिका से मिलने का ऐसा प्लान बनाया कि मामला खुलने के बाद लोगों ने दांतो तले...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

राष्ट्र सेविका समिति पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रवेश एवं प्रबोध शिक्षा वर्ग के बौद्धिक सत्र के चतुर्थ दिन प्रो0 सुरेंद्र दुबे कुलपति सिद्धार्थ विश्वविद्यालय,कपिलवस्तु ने “वंदे मातरम् भारत की प्राण शक्ति” विषय पर सेविकाओं के मध्य इसके महत्व एवं संरचना पर चर्चा की।। प्रोफेसर सुरेंद्र दुबे ने कहा कि हम भारत माता को मां के समान मानते हैं और प्रकृति का निराला उपहार मां है। मां की इसी स्वरूप का वर्णन बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय ने बंगला भाषा में 7 नवंबर 1876 में बंगाल के कांतल पाड़ा गांव में वंदे मातरम की रचना की ।।सन 1882 में वंदे मातरम बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय के प्रसिद्ध उपन्यास ‘आनंद मठ’ में सम्मिलित हुआ।। मूल रूप से वंदे मातरम के प्रारंभिक 2 पद संस्कृत में थे शेष गीत बांग्ला भाषा में थे।।दिसंबर 1905 में कांग्रेस कार्यकारिणी के बैठक में गीत को राष्ट्रगीत का दर्जा मिला, बंग-भंग आंदोलन में वंदे मातरम राष्ट्रीय नारा बना।।सन 1906 में वंदे मातरम देवनागरी लिपि में प्रस्तुत किया गया।।कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में गुरुदेव रवींद्र नाथ टैगोर ने इसका संशोधित रूप प्रस्तुत किया।। 1950 में वंदे मातरम राष्ट्र गीत बन गया।।सन 2002 के बी बी सी के सर्वेक्षण के अनुसार विश्व का दूसरा सर्वाधिक लोकप्रिय गीत है।।बंगाल के चले आजादी के आंदोलन में रैलियों में जोश भरने के लिए यह गीत गाया जाने लगा।।

ये भी पढ़े :  गोरखपुर कि इस होनहार प्रतिभा को सलाम, इंडिया बुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड में दर्ज कराया नाम,मेलोडिका पर 4 घण्टे तक बजाया था किशोर कुमार के 100 गानों को...
ये भी पढ़े :  जितनी बार नियम तोड़ेंगे, उतनी बार देना होगा ज्यादा जुर्माना...

ब्रिटिश हुकूमत इसकी लोकप्रियता से संशकित हो उठी और इस पर प्रतिबंध लगाने पर विचार करना शुरू कर दिया।। यह गीत और इसके शब्द विशेषतः बंगाल सामान्यतः सारे देश में ब्रिटिश साम्राज्यवाद के खिलाफ राष्ट्रीय विरोध के प्रतीक बन गए।। यह शब्द शक्ति का ऐसा स्रोत बन गया, और ऐसा अभिवादन बन गया जो स्वतंत्रता संग्राम की याद दिलाता रहेगा और जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी की सार्थकता को सिद्ध करता हुआ भारतीय जनमानस में प्राण वायु की भांति अजस्र धारा की तरह प्रवाहित होता रहा है।।।

चर्चा सत्र में उपस्थित लोकतंत्र सैनानी गोरक्ष प्रांत के सह संघचालक देवरिया हाईकोर्ट के वकील के विष्णु गोयल के द्वारा अखंड भारत की राजनैतिक और सांस्कृतिक मानचित्र को समझाते हुए वर्तमान भारत के वास्तविक स्वरूप का निरूपण किया गया।। वर्ग में उपस्थित क्षेत्र कार्यवाही का शारदा पांडे द्वारा अतिथियों का आभार ज्ञापन किया गया।।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...

शहीद नवीन सिंह के परिवार को पवन सिंह ने दिया सहयोग।

जम्मू कश्मीर में शहीद हुए गोरखपुर निवासी...

ब्रेकिंग:- गोरखपुर, देवरिया समेत इन जिलों में जारी रहेगा कर्फ़्यू

-कोरोना कर्फ्यू को लेकर नई गाइडलाइन-कुल 20 जिलों में फिलहाल कोई छूट नहीं-लखनऊ समेत 20 जिलों में कोई छूट नहीं-लखनऊ, मेरठ, सहारनपुर...
%d bloggers like this: