Saturday, September 25, 2021

आजादी के आंदोलन रैलियों में जोश भरने का कार्य करती थी राष्ट्रीय गीत ‘वंदेमातरम’:कुलपति प्रो0 सुरेंद्र दुबे

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

राष्ट्र सेविका समिति पूर्वी उत्तर प्रदेश प्रवेश एवं प्रबोध शिक्षा वर्ग के बौद्धिक सत्र के चतुर्थ दिन प्रो0 सुरेंद्र दुबे कुलपति सिद्धार्थ विश्वविद्यालय,कपिलवस्तु ने “वंदे मातरम् भारत की प्राण शक्ति” विषय पर सेविकाओं के मध्य इसके महत्व एवं संरचना पर चर्चा की।। प्रोफेसर सुरेंद्र दुबे ने कहा कि हम भारत माता को मां के समान मानते हैं और प्रकृति का निराला उपहार मां है। मां की इसी स्वरूप का वर्णन बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय ने बंगला भाषा में 7 नवंबर 1876 में बंगाल के कांतल पाड़ा गांव में वंदे मातरम की रचना की ।।सन 1882 में वंदे मातरम बंकिम चंद्र चट्टोपाध्याय के प्रसिद्ध उपन्यास ‘आनंद मठ’ में सम्मिलित हुआ।। मूल रूप से वंदे मातरम के प्रारंभिक 2 पद संस्कृत में थे शेष गीत बांग्ला भाषा में थे।।दिसंबर 1905 में कांग्रेस कार्यकारिणी के बैठक में गीत को राष्ट्रगीत का दर्जा मिला, बंग-भंग आंदोलन में वंदे मातरम राष्ट्रीय नारा बना।।सन 1906 में वंदे मातरम देवनागरी लिपि में प्रस्तुत किया गया।।कांग्रेस के कलकत्ता अधिवेशन में गुरुदेव रवींद्र नाथ टैगोर ने इसका संशोधित रूप प्रस्तुत किया।। 1950 में वंदे मातरम राष्ट्र गीत बन गया।।सन 2002 के बी बी सी के सर्वेक्षण के अनुसार विश्व का दूसरा सर्वाधिक लोकप्रिय गीत है।।बंगाल के चले आजादी के आंदोलन में रैलियों में जोश भरने के लिए यह गीत गाया जाने लगा।।

ये भी पढ़े :  मंदिर-मस्जिद के लाउडस्पीकर से सुनाई देंगे सरकारी योजनाओं के विज्ञापन, योगी सरकार की योजना
ये भी पढ़े :  ट्रेन से कटकर युवक की गई जान

ब्रिटिश हुकूमत इसकी लोकप्रियता से संशकित हो उठी और इस पर प्रतिबंध लगाने पर विचार करना शुरू कर दिया।। यह गीत और इसके शब्द विशेषतः बंगाल सामान्यतः सारे देश में ब्रिटिश साम्राज्यवाद के खिलाफ राष्ट्रीय विरोध के प्रतीक बन गए।। यह शब्द शक्ति का ऐसा स्रोत बन गया, और ऐसा अभिवादन बन गया जो स्वतंत्रता संग्राम की याद दिलाता रहेगा और जननी जन्मभूमिश्च स्वर्गादपि गरीयसी की सार्थकता को सिद्ध करता हुआ भारतीय जनमानस में प्राण वायु की भांति अजस्र धारा की तरह प्रवाहित होता रहा है।।।

चर्चा सत्र में उपस्थित लोकतंत्र सैनानी गोरक्ष प्रांत के सह संघचालक देवरिया हाईकोर्ट के वकील के विष्णु गोयल के द्वारा अखंड भारत की राजनैतिक और सांस्कृतिक मानचित्र को समझाते हुए वर्तमान भारत के वास्तविक स्वरूप का निरूपण किया गया।। वर्ग में उपस्थित क्षेत्र कार्यवाही का शारदा पांडे द्वारा अतिथियों का आभार ज्ञापन किया गया।।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...
%d bloggers like this: