Sunday, September 27, 2020

आज दुग्गल साहब कोरोना विशेषज्ञ बने हैं: योगेन्द्र यादव के अनुसार देश में 15 करोड़ संक्रमित हो चुके होंगे

जिलाधिकारी को साथी अफसर ने ही बता दिया भ्रष्ट, बैठा धरने पर, हुआ निलंबित…

यूपी के प्रतापगढ़ जिले में तैनात एसडीएम विनीत उपाध्याय के डीएम आवास पर धरने पर बैठने के मामले ने तूल पकड़ लिया...

गोरखपुर टाइम्स के खबर का हुआ असर, 24 घंटे के अंदर मुख्य आरोपी को पुलिस ने भेजा जेल…

महाराजगंज:- गोरखपुर टाइम्स की खबर का हुआ असर 24 घंटे के अंदर मुख्य आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल ।थाना...

मोहद्दीपुर गोलीकांड में शामिल वांछित अभियुक्त विनय सिंह को पुलिस ने किया गिरफ्तार

गोरखपुर। कैंट थाना क्षेत्र के मोहद्दीपुर में हुए मारपीट और फायरिंग के मामले में शामिल वांछित अभियुक्त विनय...

दबिश देने पहुंची पुलिस पर मनबढ़ ने असलहा ताना…

महराजगंज:- सोनौली क्षेत्र के मुख्य मार्ग स्थित गांधी चौक पर शुक्रवार को उस समय सनसनी फैल गई, जब एक लड़की को परेशान...

नशा मुक्त होने पर सोच समझ कर अच्छा कार्य करने से पारिवारिक लाभ होगा-डीएम…

महराजगंज:-  जिलाधिकारी डा0 उज्ज्वल कुमार द्वारा कलेक्ट्रेट बुद्धा सभागार में नशा मुक्त भारत अभियान अन्तर्गत भारत सरकार के सामाजिक न्याय एंव अधिकारिता...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

योगेंद्र यादव, कोरोना

— आज दुग्गल साहब कोरोना विशेषज्ञ बने हैं: योगेन्द्र यादव के अनुसार देश में 15 करोड़ संक्रमित हो चुके होंगे लेख आप ऑपइंडिया वेबसाइट पे पढ़ सकते हैं —

सीएए और एनआरसी पर सरकार को लगातार कोसने वाले योगेंद्र यादव अब कोरोना विशेषज्ञ बन गए हैं। उन्हें सरकारी डेटा में तो खामियाँ नज़र आ ही रही हैं, साथ ही वो उलटे-सीधे गुणा-भाग कर के कोरोना वायरस संक्रमण के आँकड़ों को लेकर भी लोगों को डरा रहे हैं। उन्होंने ‘इंडियन कॉउन्सिल ऑफ मेडिकल रिसर्च (ICMR)’ के डेटा को लेकर अजीबोगरीब दावे किए। ट्वीट थ्रेड से लेकर अख़बारों में लेख तक, उन्होंने हर जगह अफवाह फैलाई।

आईसीएमआर के सर्वे को लेकर योगेंद्र यादव ने दावा किया कि इसमें 0.73% जनसंख्या के कोरोना पॉजिटिव होने की बात कही गई है। साथ ही उन्होने अनुमान लगाया कि अगर सर्वे में 133 करोड़ जनसंख्या को दायरे में लिया गया है तो भारत की कुल 15 करोड़ लोग कोरोना की चपेट में हैं। ‘दैनिक भास्कर’ में लेख लिख कर भी उन्होंने अपनी इस बात को दोहराई। आइए बताते हैं कि यादव 15 करोड़ के आँकड़े तक कैसे पहुँचे।

उन्होंने 133 करोड़ में से 0.73% कोरोना पॉजिटिव लोगों की संख्या का अंदाज़ा लगाने के लिए इसे गुना कर के 97 लाख का आँकड़ा निकाला। इसके बाद उन्होंने हॉटस्पॉट सिटीज में 15-30% लोगों के कोरोना पॉजिटिव होने की बात एक ख़बर के हवाले से कही। इसके बाद उन्होंने 5 करोड़ की जनसंख्या में से 75 लाख के कोरोना पॉजिटिव होने की बात कही। इस तरह से उन्होंने अनुमान लगाया कि 30 अप्रैल तक 1.72 करोड़ लोग संक्रमित थे।

इसके बाद बड़ी चालाकी करते हुए उन्होंने 30 अप्रैल और अभी के डेटा की तुलना कर के पाया कि अब तक संक्रमितों की संख्या 8.55 गुना बढ़ चुकी है। उन्होंने अपने आँकड़े को भी 8.55 गुना कर दिया, जिससे वो 15 करोड़ के आँकड़े तक पहुँचे। ये एक हास्यास्पद गणित का खेल था क्योंकि ख़ुद आईसीएमआर के सर्वे का सैंपल साइज काफ़ी छोटा था, जिससे सवा अरब से ज्यादा की जनसंख्या के बारे में अनुमान लगाया ही नहीं जा सकता।

ये भी पढ़े :  क्या लालकृष्ण आडवाणी के प्रधानमंत्री बनने की अब भी कोई संभावना बची है?
ये भी पढ़े :  सुप्रीम कोर्ट से तेजस्वी को झटकाः बंगला भी खाली करना होगा, 50 हजार रुपये जुर्माना भी लगा....

सबसे पहली बात तो ये कि ये सैम्पल रैंडम लोगों के बीच से इकठ्ठा नहीं किया गया। जिन्हें कोरोना होने की सम्भावना थी या लक्षण थे या फिर जो कोरोना पॉजिटिव के संपर्क में आए थे, उनका सैम्पल लिया गया था। इसमें पूरी तरह से स्वस्थ जनसंख्या को घुसेड़ कर योगेंद्र यादव ने पूरे गणित को इधर से उधर कर दिया। मान लीजिए कि अगर इलाक़े में 10 कुएँ हैं और सबकी गहराई का औसत योगेंद्र यादव की ऊँचाई से कम है तो क्या वो उस कुएँ में कूद जाएँगे जिसकी गहराई उनसे काफ़ी ज्यादा है। तब वो औसत देखेंगे या फिर उस ख़ास कुएँ की गहराई?

यही खेल उन्होंने जनता के सामने भी किया है। उन्होंने यहाँ चुनावी गणित लगा दिया। उन्होंने पोटेंशियल कोरोना संक्रमितों के आँकड़े को स्वस्थ लोगों के आँकड़े में घालमेल कर दिया। यहाँ एक बार गौर करने लायक है कि योगेंद्र यादव के आँकड़ों के हिसाब से अब तक लाखों लोगों की मौत हो जानी चाहिए थी, जो नहीं हुई है। उन्होंने डेथ रेट में यह गणित नहीं लगाया क्योंकि इससे उनकी पोल खुलने का डर था।

‘दैनिक भास्कर’ में योगेंद्र यादव का लेख

मोदी सरकार को घेरने के लिए फर्जी डेटा का खेल खेलने वाले योगेंद्र यादव महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे से सवाल नहीं पूछ रहे जबकि अकेले मुंबई में कोरोना के मरीजों की संख्या 1 लाख के पार चली गई है। पश्चिम बंगाल में स्थिति सबसे ज्यादा गड़बड़ है और वहाँ गई केंद्र सरकार की टीम ने ही आँकड़ों में हेराफेरी की बात कही थी। दिल्ली में स्थिति दिन पर दिन बदतर होती जा रही है। योगेंद्र यादव इन तीनों ही राज्यों से सवाल क्यों नहीं पूछ रहे? देखिए, मृत्यु दर को लेकर उन्होंने कैसे ‘दैनिक भास्कर’ में लिखे लेख में सरकार को क्रेडिट देने से इनकार कर दिया। लेख का अंश:

ये भी पढ़े :  IED ब्लास्ट में BJP विधायक मंडावी की मौत, 5 जवान शहीद...

हमारे देश में कोरोना इतना जानलेवा नहीं है जितना दुनिया के बाकी देशों में। अब सरकारी और दरबारी विशेषज्ञ इसी आँकड़ें की आड़ ले रहे हैं। सच यह है कि इसमें सरकार का कोई कमाल नहीं है। या तो हमारे यहाँ आई कोरोना की प्रजाति कम घातक है, या हमारी गर्मी, बीसीजी के टीके या लक्कड़-पत्थर हज़म प्रतिरोध शक्ति के चलते बचाव हो रहा है।

So we had 1.72 cr cases on 30 April
Official count on 30 April: 34,863
Official count on 11 June: 2,98,283
Increase since 30 April: 8.55 times
Assuming that total count grew at same rate as official count, total cases today =
1.72 cr x 8.55 = 14.7 cr
(Should be lower)
6/9 pic.twitter.com/JBnPU7mx6s

— Yogendra Yadav (@_YogendraYadav) June 12, 2020

यहाँ उन्होंने बड़ी चालाकी से दिल्ली, चेन्नई और अहमदाबाद का नाम तो लिया लेकिन कोलकाता और मुंबई का नाम नहीं लिया। योगेंद्र यादव अपने काल्पनिक संक्रमितों के आँकड़े को लेकर तो सरकार को दोष देना ही चाहते हैं लेकिन मृत्य दर कम होने को लेकर कहते हैं कि ये सरकार का कमाल थोड़े है। इस दोहरे रवैये को उनके गड़बड़ गणित से भी ऊपर रखा जा सकता है। यानी भारत में कोरोना के कारण ज्यादा जाने नहीं गई हैं तो ये उनके हिसाब से ‘कोरोना की महानता’ है।

ये भी पढ़े :  रॉबर्ट वाड्रा करने आए थे मुंबा देवी के दर्शन, लोगों ने उनके सामने लगाए मोदी-मोदी के नारे....

अगर आपको अभी भी लग रहा योगेंद्र यादव का गणित सही है तो आपको जानना ज़रूरी है कि गुमराह कैसे किया जाता है। भारत में अब तक संक्रमित हुए लोगों की संख्या 3.09 लाख है। मृतकों की संख्या 8895 है। यानी, कुल संक्रमितों में से 2.89% की मौत हुई है। अगर योगेंद्र यादव के आँकड़ों की बात करें तो कुल 44 लाख मौत का आँकड़ा बैठता है इसी प्रतिशत के हिसाब से। क्या ये संभव है। सोचिए।

शेष Opp India पर…

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

कृषि बिल: संसद के बाद अब सड़क पर चलेगी लड़ाई, कांग्रेस नवंबर तक करेगी प्रदर्शन…

कृषि बिल के विरोध में कांग्रेस बड़े अभियान की तैयारी कर रही है. कांग्रेस अपने आंदोलन को संसद से सड़क तक ले...

आमिर हुसैन के नेतृत्व सपा कार्यकर्ताओं का प्रदर्शन, एसडीएम को ज्ञापन सौंपा…

महाराजगंज। कोरोना काल में हुए भ्रष्टाचार तथा पुलिसिया उत्पीड़न व किसान बिल के विरोध में आज जनपद...

सपा की बैठक में जनसमस्याओं को लेकर राज्यपाल को ज्ञापन भेजने का निर्णय…

महाराजगंज: समाजवादी पार्टी जनपद महाराजगंज की एक महत्वपूर्ण बैठक नवनियुक्त जिला अध्यक्ष आमिर हुसैन की अध्यक्षता में की गई बैठक में राष्ट्रीय...
%d bloggers like this: