Wednesday, May 12, 2021

आज होगी मां दुर्गा की तृतीय शक्ति देवी चंद्रघंटा की आराधना….

भीषण सड़क हादसा, कार से टकराई तेज रफ्तार ट्रैक, चार की दर्दनाक मौत, कार पुरी तरह छतिग्रस्त।

फरेन्दा (महराजगंज): जिले के फरेन्दा में करहिया पुल के पास भीषण सड़क हादसे मौके पर ही 4 लोगों की दर्दनाक मौत...

यूपी: सपा के इस दिग्गज नेता का कोरोना से निधन, पार्टी में शोक की लहर

यूपी: Samajwadi Party leader Pandit singh dies due to corona. कोरोना (Coronavirus in UP) के कारण आम आदमी के साथ-साथ राजनीतिक क्षेत्र...

क्रिकेट सुरेश रैना ने बीमार मौसी के लिए मांगा ऑक्सीजन, सोनू सूद बोले- 10 मिनट में पहुंच जाएगा

सोनू सूद अपनी फाउंडेशन के तहत आम जनता के साथ-साथ भारतीय सेलेब्स की मदद भी कर रहे हैं. भारत के मशहूर क्रिकेटर...

गोरखपुर दक्षिणांचल से उठी आवाज हमें भी चाहिए कोविड अस्पताल,मुख्यालय है 60 km दूर

कोरोना जैसी गंभीर बीमारी के दूसरे फेज में जो स्थितियां नजर आ रही हैं वह बेहद खतरनाक हैं पूर्वांचल की हृदय स्थली...

कोरोना महामारी से मुक्ति हेतु RSS कार्यकर्ताओ ने किया हवन-पूजन,जगत कल्याण के लिए की प्रार्थना…

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवा विभाग सेवा भारती गोरक्ष प्रान्त के आह्वान पर कल शीलताष्टमी के अवसर पर स्वयंसेवको ने...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

पिण्डजप्रवरारूढ़ा चण्डकोपास्त्रकेर्युता.
प्रसादं तनुते मह्यं चंद्रघण्टेति विश्रुता॥
माँ दुर्गा की तृतीय शक्ति का नाम चंद्रघंटा है। नवरात्रि विग्रह के तीसरे दिन इनका पूजन किया जाता है। माँ का यह स्वरूप शांतिदायक और कल्याणकारी है। इनके माथे पर घंटे के आकार का अर्धचंद्र है, इसीलिए इन्हें चंद्रघंटा कहा जाता है। इनका शरीर स्वर्ण के समान उज्ज्वल है, इनके दस हाथ हैं। दसों हाथों में खड्ग, बाण आदि शस्त्र सुशोभित रहते हैं। इनका वाहन सिंह है। इनकी मुद्रा युद्ध के लिए उद्यत रहने वाली है। इनके घंटे की भयानक ध्वनि से दानव, अत्याचारी, दैत्य, राक्षस डरते रहते हैं।

क्या है रहस्य देवी चंद्रघंटा की आराधना का

नवरात्र की तीसरे दिन की पूजा का अत्यधिक महत्त्व है। इस दिन साधक का मन मणिपुर चक्र में प्रविष्ट होता है। माँ चंद्रघंटा की कृपा से साधक को अलौकिक दर्शन होते हैं, दिव्य सुगन्ध और विविध दिव्य ध्वनियाँ सुनायी देती हैं। ये क्षण साधक के लिए अत्यंत सावधान रहने के होते हैं। माँ चन्द्रघंटा की कृपा से साधक के समस्त पाप और बाधाएँ विनष्ट हो जाती हैं। इनकी अराधना सद्य: फलदायी है। इनकी मुद्रा सदैव युद्ध के लिए अभिमुख रहने की होती हैं, अत: भक्तों के कष्ट का निवारण ये शीघ्र कर देती हैं। इनका वाहन सिंह है, अत: इनका उपासक सिंह की तरह पराक्रमी और निर्भय हो जाता है। इनके घंटे की ध्वनि सदा अपने भक्तों की प्रेत-बाधादि से रक्षा करती है। दुष्टों का दमन और विनाश करने में सदैव तत्पर रहने के बाद भी इनका स्वरूप दर्शक और अराधक के लिए अत्यंत सौम्यता एवं शान्ति से परिपूर्ण रहता है।
इनकी अराधना से प्राप्त होने वाला सदगुण एक यह भी है कि साधक में वीरता-निर्भरता के साथ ही सौम्यता एवं विनम्रता का विकास होता है। उसके मुख, नेत्र तथा सम्पूर्ण काया में कान्ति-गुण की वृद्धि होती है। स्वर में दिव्य, अलौकिक, माधुर्य का समावेश हो जाता है। माँ चन्द्रघंटा के साधक और उपासक जहाँ भी जाते हैं लोग उन्हें देखकर शान्ति और सुख का अनुभव करते हैं। ऐसे साधक के शरीर से दिव्य प्रकाशयुक्त परमाणुओं का दिव्य अदृश्य विकिरण होता है। यह दिव्य क्रिया साधारण चक्षुओं से दिखलायी नहीं देती, किन्तु साधक और सम्पर्क में आने वाले लोग इस बात का अनुभव भलीभांति कर लेते हैं साधक को चाहिए कि अपने मन, वचन, कर्म एवं काया को विहित विधि-विधान के अनुसार पूर्णत: परिशुद्ध एवं पवित्र करके उनकी उपासना-अराधना में तत्पर रहे। उनकी उपासना से हम समस्त सांसारिक कष्टों से विमुक्त होकर सहज ही परमपद के अधिकारी बन सकते हैं। माँ चंद्रघंटा की कृपा से साधक की समस्त बाधायें हट जाती हैं। भगवती चन्द्रघन्टा का ध्यान, स्तोत्र और कवच का पाठ करने से मणिपुर चक्र जाग्रत हो जाता है और सांसारिक परेशानियों से मुक्ति मिल जाती है।

ये भी पढ़े :  उत्तर प्रदेश में क्यों छुपाए जा रहे आँकड़े,स्थिति और होगी भयावह...
ये भी पढ़े :  सांसद रवि किशन ने किया भोजपुरी फिल्म "ठीक हैं" का मुहूर्त,निरहुआ और आम्रपाली भी गोरखपुर पहुँचे शूटिंग करने....

माँ चंद्रघंटा की पूजा विधि क्या है ?

– माँ चंद्रघंटा की पूजा लाल वस्त्र धारण करके करना श्रेष्ठ होता है
– माँ को लाल पुष्प,रक्त चन्दन और लाल चुनरी समर्पित करना उत्तम होता है
– इस दिन इस चक्र पर “रं” अक्षर का जाप करने से मणिपुर चक्र मजबूत होता है और भय का नाश होता है
– अगर इस दिन की पूजा से कुछ अद्भुत सिद्धियों जैसी अनुभूति होती है तो उस पर ध्यान न देकर आगे साधना करते रहनी चाहिए

विशेष प्रसाद ?

– आज दूध या दूध से बनी मिठाई का भोग लगाना चाहिए
– इसे स्वयं भी ग्रहण करें और दूसरों को भी दें
– वर्तमान में चल रहा दुःख दूर हो जाएगा

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर दक्षिणांचल से उठी आवाज हमें भी चाहिए कोविड अस्पताल,मुख्यालय है 60 km दूर

कोरोना जैसी गंभीर बीमारी के दूसरे फेज में जो स्थितियां नजर आ रही हैं वह बेहद खतरनाक हैं पूर्वांचल की हृदय स्थली...

कोरोना महामारी से मुक्ति हेतु RSS कार्यकर्ताओ ने किया हवन-पूजन,जगत कल्याण के लिए की प्रार्थना…

राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के सेवा विभाग सेवा भारती गोरक्ष प्रान्त के आह्वान पर कल शीलताष्टमी के अवसर पर स्वयंसेवको ने...

कौड़ीराम के बासूडिहा में उठी कोविड आइसोलेशन केंद्र बनाने की माँग..

कोविड महामारी को देखते हुए बासुडीहा में आइसोलेशन केंद्र बनाने की माँग उठी है ।गोरखपुर टाइम्स के सत्य चरण लक्क़ी से बात...
%d bloggers like this: