Monday, October 18, 2021

आज होती है संकट का नाश करने वाली कालरात्रि देवी की पूजा,पढ़िए एक बहुत प्रचलित कहानी,यह है माँ काली की महिमा…..

Mrj: अधिकरियो के रहमो-करम पर दबंगों द्वारा चकनाले की जमीन पर बिना मान्यता प्राप्त विद्यालय का किया जा रहा है संचालन, बच्चों का भविष्य...

Maharajganj/Dhani: युवा समाजसेवी अजय कुमार का कहना है कि धानी ब्लाक के अन्तर्गत एक विद्यालय साधु शरण गंगोत्री देवी लेदवा रोड बंगला...

साष्टांग प्रणाम यात्रा पे निकला बांसी से लेहड़ा मंदिर – भक्त रामशब्द लोधी

Maharajganj/ SiddharthNagar: बांसी क्षेत्र के अंतर्गत राम गोहार गाँव से रामशब्द लोधी ने लगातार तेरह वर्षों से नवमी में सष्टांग प्रणाम यात्रा...

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

मां पार्वती काल अर्थात् हर तरह के संकट का नाश करने वाली है इसीलिए कालरात्रि कहलाती है।
आदि शक्ति जगदंबा का विकराल स्वरूप हैं मां काली. इनकी उपासना का अलग ही महत्व है. कहते हैं दुष्टों और राक्षसों के दमन के लिए ही देवी मां ने यह संहारक अवतार लिया था।।
देवी का सातवां स्वरूप हैं मां कालरात्रि. मां कालरात्रि का रंग काला है और ये त्रिनेत्रधारी हैं. मां कालरात्रि के गले में कड़कती बिजली की अद्भुत माला है. इनके हाथों में खड्ग और कांटा है और इनका का वाहन ‘गधा’ है. मां कालरात्रि को शुभंकरी भी कहते हैं.
संसार में व्याप्त दुष्टों और पापियों के हृदय में भय को जन्म देने वाली मां हैं मां कालरात्रि. मां काली शक्ति सम्प्रदाय की प्रमुख देवी हैं. इन्हें दुष्टों के संहार की अधिष्ठात्री देवी भी कहा जाता है. इनके स्वरूप से जुड़ी एक कहानी बहुत प्रचलित है…

ये भी पढ़े :  गोरखनाथ मंदिर से पर्यटकों को लुभाने की तैयारी, 13 करोड़ से शुरू हुआ काम.....

मां कालरात्रि से जुड़ी कहानी…
असुरों के राजा रक्तबीज का वध करने के लिए देवी दुर्गा ने कालरात्रि का अवतार लिया था. मां काली निरंतर संहार करती हुई विनाशलीला रच रही थीं. इनके भयंकर स्वरूप और उतपात से सृष्टि में हाहाकार मच गया था.
ऐसे में मां काली को प्रत्यक्ष रूप में रोकने की शक्ति स्वयं आदिदेव महादेव में भी नहीं थी. तभी देवताओं के अनुरोध पर महाकाली के क्रोध को शांत करने के लिए शिव ने उनकी राह में लेटने की युक्ति लगाई थी, ताकि चराचर ब्रह्माण्ड के स्वामी और अपने पति परमेश्वर को अपने पांव के नीचे पाकर देवी शांत हों और अपने मूल रूप में वापस आएं.

ये भी पढ़े :  गोरखपुर का यह युवा प्रधान बदल रहा है अपने गाँव की तश्वीर, किया एक और सराहनीय कार्य

मां काली की महिमा
शक्ति का महानतम स्वरुप महाविद्याओं का होता है. दस महाविद्याओं के स्वरुपों में ‘मां काली’ प्रथम स्थान पर हैं. शुम्भ-निशुम्भ के वध के समय मां काली का रंग काला पड़ गया. मां काली के शरीर से निकले तेज पुंज से उनका रंग काला हो गया. इनकी उपासना से शत्रु, भय, दुर्घटना और तंत्र-मंत्र के प्रभावों का समूल नाश हो जाता है. मां काली अपने भक्तों की रक्षा करते हुए उन्हें आरोग्य का वरदान देती हैं.

शनि ग्रह शांत
ज्योतिष में शनि ग्रह का संबंध मां कालरात्रि से माना जाता है. ऐसी मान्यता है कि शनि की समस्या में इनकी पूजा करना अदभुत परिणाम देता है. मां कालरात्रि के पूजन से शनि का प्रभाव कम होता है और साढ़े साती का असर नहीं होता.

मां काली की पूजा के नियम
मां काली की पूजा दो प्रकार से होती है. पहली सामान्य पूजा और दूसरी तंत्र पूजा.
सामान्य पूजा कोई भी कर सकता है, लेकिन तंत्र पूजा बिना गुरू के संरक्षण और निर्देशों के नहीं की जा सकती.
मां काली की उपासना का सबसे उपयुक्त समय मध्य रात्रि का होता है.
इनकी उपासना में लाल और काली वस्तुओं का विशेष महत्व होता है.
शत्रु और विरोधियों को शांत करने के लिए मां काली की उपासना अमोघ है.
किसी गलत उद्देश्य से मां काली की उपासना कतई नहीं करनी चाहिए.
मंत्र जाप से ज्यादा प्रभावी होता है मां काली का ध्यान करना.
तो आप भी इन नियमों को ध्यान में रखकर ही शक्ति के इस स्वरूप की आराधना कीजिए औऱ सत्कर्म की राह पर चलने की कोशिश कीजिए. क्योंकि आप जितना ज्यादा बुराई से दूर होते जाएंगे, मां काली के उतने ही करीब होते जाएंगे. फिर संसार की हर विपत्ति से आपकी सुरक्षा करेंगी मां काली.

वीडियो न्यूज़ के लिए हमारे चैनल को सब्सक्राइब करेंं 👈 

ये भी पढ़े :  सांसद रवि किशन की सराहनीय पहल, एक ही दिन में बाहर रहने वाले 30 हजार लोगों ने किया गोरखपुर वापस आने के लिए रजिस्ट्रेशन,रवि किशन ने मदद हेतु सीएम योगी को भेजा पत्र के साथ लिस्ट....

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...
%d bloggers like this: