Saturday, July 24, 2021

इस आसन से होती है शरीर की 72000 नाड़ियाँ ठीक, जाने इसकी सही विधि

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

वज्रासन को वीरासन भी कहते हैं। इस आसन में शरीर वज्र की तरह मजबूत व शक्तिशाली होता है, इसलिए इसे वज्रासन कहते हैं। हठयोग में इस आसन का बहुत महत्व है क्योंकि इस आसन को करने से आध्यात्मिक शक्ति का विकास होता है। इस आसन का अभ्यास स्त्री-पुरुष दोनों समान रूप से अधिक समय तक आसनी से कर सकते हैं। वज्रासन को भोजन करने के बाद भी किया जा सकता है। घुरण्ड ऋषि ने इसके बारे में कहा है कि जो भी इस विधि से वज्रासन को करते हैं उसका शरीर दृढ़ व शक्तिशाली बन जाता है तथा उसकी कुण्डलिनी शक्ति का विकास करने में लाभकारी होता है।

बड़ा ही सरल और हमारे सेहत के लिए महत्वपूर्ण है , जिसे हमें अपने दिनचर्या में निश्चयरुप से सामिल कर लेनी चाहिए। इसे नित्य अभ्यास करने के लिए विशेषरुप से समय निकालने में अगर किसी भी प्रकार की परेशानिया हो रही हो तो घबड़ाने की आवश्यकता नहीं है , इसे किसी भी समय किसी भी जगह अर्थात् घर के अन्दर या बाहर या बिस्तर पर अभ्यास किया जा सकता है। सबसे बड़ें मजे की बात तो यह है कि इसे खाली पेट या भोजनोपरान्त दोंनो ही समय में अभ्यास करनी चाहिए , सिर्फ थोड़ा सा अंतर हो जाता है- भोजनोपरान्त पेट को ढ़िला और खाली पेट में पेट को टाईट रखना चाहिए।

ये भी पढ़े :  शिवम त्यागी के अनुसार ऐसे करे कोरोना वायरस से बचाव.......
ये भी पढ़े :  प्रकृति का संदेश समझे मनुष्य,प्राकृतिक संसाधनों के दोहन के बजाय संतुलित विकास आवश्यक-शिवम

इसे भोजनोपरान्त इसलिए पेट को ढ़िला रखा जाता है कि भोजन आराम से हजम हो सके, पेट को आराम मिल सके। लाभ के दिशा में सब समानरुप से है।

वज्रासन के लिए सबसे पहले चटाई पर सामान्य स्थिति में बैठ जाएं। अब अपने दायें पैर को घुटनों से मोड़कर पीछे की ओर ले जाएं और दायें नितम्ब के नीचे लगाएं। एड़ी को शरीर से सटाकर तथा पंजे को ऊपर की ओर रखें। इस में घुटने से पैर की अंगुलियों तक का भाग फर्श से बिल्कुल सटाकर रखें। फिर बाएं पैर को भी घुटने से मोड़कर पीछे की ओर नितम्ब से लगाएं। दोनों घुटनों को मिलाकर रखें तथा तलवों को अलग-अलग रखें। अब अपने दोनों हाथों को तानकर घुटनों पर रखें और अपने पूरे शरीर का भार एड़ी व पंजो पर डालकर बैठ जाएं। अपने कमर, रीढ़ की हड्डी, सिर आदि को बिल्कुल सीधा व तान कर रखें। इस स्थिति में आने के बाद दृष्टि (आंखों) को नाक के अगले भाग पर टिकाकर सामान्य रूप से सांस लें और छाती को फुलाएं। वज्रासन की इस स्थिति में 10 से 15 मिनट तक रहें।

यह पाचन शक्ति को मजबूत करता है तथा भोजन को जल्द हजम करने में सहायक होता है जिससे अन्न का रस इतना शुद्ध हो जाता की हड्डियाँ व नाड़ियां सहित पूरा शरीर वज्र के समान मजबूत हो जाता है। इस आसन का नाभि पर लाभकारी प्रभाव पड़ता है (जो कि 72000 नाड़ि का केन्द्र है)।

ये भी पढ़े :  लॉकडाउन में बालों के झड़ने से हैं परेशान तो काम आएंगे ये 4 घरेलू टिप्स

पेट की अंतड़ियों पर दबाव पड़ने से इसकी विकृति दूर होती है। यह पेट की गैस , दर्द आदि को भी खत्म करता है। युवावस्था में इस आसन में बैठकर कंघी करने से बाल सफेद नहीं होते हैं। यह आसन पीलिया रोग ठीक करता है। इससे खून का बहाव ठीक रहता है जिससे शरीर निरोग व सुन्दर बना रहता है। इस आसन को करने से स्त्रियों के मासिकधर्म सम्बन्धी दोष दूर होते है।

ये भी पढ़े :  Coronavirus पर बड़ी जीत? वायरस को रोकने में कामयाब हुई वैक्सीन, दिखा गजब का असर

दोपहर व रात के भोजन के बाद इस आसन को नासिकारंध्र में प्रश्वास लेते हुए करने से भोजन आसानी से पचता है। वज्रासन में प्राणायम किया जाए तो श्वास, दमा , तपेदिक, श्वास फूलना , फेफड़े तथा छाती के अनेक रोग दूर होते हैं। इस आसन को करने से वीर्य पुष्ट होकर स्तंभन शक्ति बढ़ता है जिससे कुण्डलिनी जागरण की संभावना बढ़ती है। यह मन से कामवासना को खत्म करता है तथा मन को ब्रह्मचार्य की ओर आकर्षित करता है।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

Maharajganj: संदिग्ध परिस्थितियों में महिला का गहरे कुएं में मिला शव, जांच में जुटी पुलिस।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद के थाना क्षेत्र बृजमनगंज अंतर्गत ग्रामसभा मिश्रौलिया के खास टोले पर एक कुएं में एक महिला का शव मिलने...

कोरोना मरीज को नहीं लौटाएगा कोई अस्पताल, सरकार उठाएगी पूरा खर्चा: सीएम योगी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कोरोना संक्रमितों की मदद के लिए अहम आदेश दिया. उन्होंने सख्त हिदायत देते...

Maharajganj: अवैध रूप से चल रहे हॉस्पिटलो पर हुआ छापामारी, माडर्न अपोलो हॉस्पिटल हुआ सील।

महाराजगंज जिले की फरेंदा कस्बे में अवैध रूप से चल रहे हॉस्पिटलो पर हुआ छापामारी माडर्न अपोलो हॉस्पिटल हुआ सील
%d bloggers like this: