Monday, October 18, 2021

उतावलेपन की राजनीति में राहुल ने लांघी हर सीमा…

Mrj: अधिकरियो के रहमो-करम पर दबंगों द्वारा चकनाले की जमीन पर बिना मान्यता प्राप्त विद्यालय का किया जा रहा है संचालन, बच्चों का भविष्य...

Maharajganj/Dhani: युवा समाजसेवी अजय कुमार का कहना है कि धानी ब्लाक के अन्तर्गत एक विद्यालय साधु शरण गंगोत्री देवी लेदवा रोड बंगला...

साष्टांग प्रणाम यात्रा पे निकला बांसी से लेहड़ा मंदिर – भक्त रामशब्द लोधी

Maharajganj/ SiddharthNagar: बांसी क्षेत्र के अंतर्गत राम गोहार गाँव से रामशब्द लोधी ने लगातार तेरह वर्षों से नवमी में सष्टांग प्रणाम यात्रा...

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

राजनीति में सफल होने के लिए जोश के साथ होश की कितनी जरूरत होती है, यह बात कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी को अब समझ में आ जानी चाहिए। खुद को सही साबित करने के चक्कर में उन्होंने सुप्रीम कोर्ट को भी नहीं बख्शा और यह गलतबयानी कर दी कि कोर्ट ने राफेल मामले में कांग्रेस के ‘चौकीदार चोर है’ के आरोप पर मुहर लगा दी। कोर्ट ने इसका सीधे तौर पर खंडन करते हुए जवाब मांगा है। जाहिर है कि अब कांग्रेस अध्यक्ष की ओर से लीपापोती होगी और यह भी बताना होगा कि अपनी राजनीति के लिए उन्होंने कोर्ट का नाम क्यों लिया? सुनवाई के बाद कोर्ट उन्हें अवमानना का दोषी मानती है या बख्श देती है यह तो बाद का सवाल है। फिलहाल यह बड़ा सवाल खड़ा हो गया है कि क्या बोफोर्स का बदला लेने के लिए वह राफेल सौदे को किसी भी तरह कलंकित करना चाहते हैं? क्या सचमुच राजनीति में उनके पास चुनाव लड़ने को कोई बड़ा मुद्दा नहीं बचा है?

ये भी पढ़े :  कंगना हमारी शान,कुछ हुआ तो संजय राउत तेरी आँखे निकालकर हाथ काटकर फेंक देंगे:

यह समझना ज्यादा जरूरी है कि राहुल बार-बार चौकीदार चोर है के नारे क्यों लगा रहे हैं। दरअसल, संप्रग की पिछली सरकार भ्रष्टाचार को लेकर ही सबसे बदनाम थी। कुछ मामलों में खुद राहुल और कांग्रेस के शीर्ष नेता भी घिर चुके हैं। हाल के दिनों में लगातार जिस तरह आयकर छापे में कांग्रेस और कांग्रेस नेताओं का काला धन पकड़े जाने का दावा किया जा रहा है, उससे स्थिति और बिगड़ गई है। बोफोर्स का भूत तो अभी तक कांग्रेस के सिर से नहीं उतर पाया है। हालांकि उस मामले में भी विपक्ष की ओर से कभी तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के लिए ‘चोर’ शब्द का इस्तेमाल नहीं किया गया था, लेकिन राहुल ने इससे परहेज नहीं किया।

चुनाव की बात हो तो भ्रष्टाचार एक ऐसा मुद्दा होता है जो सरकार और व्यक्ति को सवालों के घेरे में खड़ा करता है। राफेल की पूरी सच्चाई क्या है यह कोर्ट बताएगी। शुरुआती तौर पर राफेल सौदे को क्लीन चिट देने के बाद सुप्रीम कोर्ट पुनर्विचार के लिए तैयार हो गया है, लेकिन राहुल का उतावलापन ही उनपर भारी पड़ गया। शायद वह किसी भी तरह यह साबित कर देना चाहते हैं कि राजनीति में ईमानदारी के लिए जगह नहीं है। ध्यान रहे कि दो साल पहले तक कांग्रेस में नरेंद्र मोदी पर सीधा प्रहार करने की सख्त पाबंदी थी। उनका अनुभव था कि प्रहार से मोदी और निखर जाते हैं और उल्टा असर कांग्रेस पर पड़ता है, लेकिन लगातार फेल हो रही कांग्रेस के अध्यक्ष ने वह रणनीति भी बदली। वह यह भूल गए हैं कि मोदी ‘टेफलॉन कोटेड’ हैं। कम से कम उनकी ईमानदार छवि को खरोंच नहीं लग सकती है। राहुल के नारे कांग्रेस से बाहर नहीं जा पा रहे हैं। उनके सहयोगी भी उनके इस नारे को अपनाने से दूर भाग रहे हैं।

ये भी पढ़े :  कर्नाटक: स्वास्थ्यकर्मियों पर हमला करने वाले 126 दंगाइयों का कॉन्ग्रेस MLA जमीर अहमद ने किया भव्य स्वागत, दिए ₹10000

इस क्रम में राहुल ने धीरे-धीरे अपनी यह छवि बना ली है कि वह किसी संवैधानिक संस्था की भी नहीं सुनेंगे। सीएजी ने राफेल सौदे को खरा करार दिया है। ईवीएम पर चुनाव आयोग बार-बार अपनी स्थिति स्पष्ट कर चुका है। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दे दिया है, लेकिन कांग्रेस उसे भी स्वीकार करने को तैयार नही हैं। राहुल को यह समझ लेना चाहिए कि सुप्रीम कोर्ट राजनीतिक अखाड़ा नहीं है। राजनीति में जनता का कठघरा होता है और कोर्ट में कानून का कठघरा।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

Maharajganj: तेज तर्रार नेता नितेश मिश्र भाजपा छोड़ थामा सपा का दामन, आपने सैकड़ों समर्थकों के साथ ली सदस्यता

Maharajganj/Dhani: धानी ब्लॉक के डेढ़ सौ लोगो ने पूर्व भाजपा नेता नीतेश मिश्र के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी की सदस्यता लिया। प्राप्त...

भाजपा युवा मोर्चा गोरखपुर क्षेत्र के क्षेत्रीय कार्यकारिणी की हुई घोषणा,सूरज राय बने क्षेत्रीय उपाध्यक्ष

Gorakhpur: आज भारतीय जनता युवा मोर्चा गोरखपुर क्षेत्र की क्षेत्रीय कार्यकारिणी की घोषणा हुई।।युवा मोर्चा के क्षेत्रीय अध्यक्ष पुरुषार्थ सिंह ने आज...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...
%d bloggers like this: