Thursday, September 24, 2020

कहाँ जाएँ मध्य वर्गीय विद्यालय और कोचिंग संस्थान,सबकी टूट रही कमर

अयोध्या में रामलीला को योगी सरकार की मिली मंजूरी

बॉलीवुड के कलाकार करेंगे रामलीला का मंचन.आमलोगों के लिए नहीं होगी एंट्री.सोसल मीडिया पर होगा रामलीला का...

गोरखपुर के डीएम के विजयेंद्र पांडियन हुए कोरोना पॉजिटिव इनको मिली डीएम की जिम्मेदारी…

डीएम के विजयेंद्र पांडियन कोरोना पाजिटिव मिले। एंटीजन जांच में हुई पुष्टि। rtpcr के लिए भेजा गया नमूना। होम आइसोलेट हुए। सीडीओ...

कैन्ट थानान्तर्गत मारपीट व फायरिंग में संलिप्त दो अभियुक्तों के ऊपर एसएसपी ने 25-25 हजार रूपये धनराशि के पुरस्कार की घोषणा ….

गोरखपुर। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गोरखपुर द्वारा अपराध एवं अपराधियों पर अंकुश लगाये जाने हेतु किये जा रहे कार्यवाही...

अभी-अभी गोरखपुर एसएसपी ने की बड़ी कार्रवाई 4 उप निरीक्षक का किया तबादला इनको मिली जिम्मेदारी….

अभी-अभी गोरखपुर एसएसपी ने की बड़ी कार्रवाई 4 उप निरीक्षक का किया तबादला इनको मिली जिम्मेदारी….

CM सिटी के गोरखपुर से वाराणसी NH-29 सड़क बड़ी महामारी का शिकार,चलें सम्भल कर 2019 में बनने वाली सड़क को न जाने कितने वर्ष...

CM सिटी के गोरखपुर से वाराणसी NH-29 सड़क बड़ी महामारी शिकार,चलें सम्भल कर न जाने कितने वर्ष लगेंगे बनने में ….

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

मध्यम_वर्गीय_विद्यालयों_की_पीड़ा…..

मैं अपनी इस पोस्ट से विद्यालयों की एक गंभीर समस्या से आपको अवगत करवाना चाहता हूँ। जितने भी बड़े स्तर के विद्यालय संचालित होते है वो तो अपना सभी शुल्क एडवांस में ही ले लेते है,जो कि इस वर्ष भी हुआ ही होगा।और लॉक डाउन के दौरान भी ऑनलाइन क्लास के नाम पर इन्होंने फीस जमा भी करवा लिया होगा ।परंतु महोदय जितने भी मध्यम स्तर एवम ग्रामीण क्षेत्रो से जुड़े विद्यालय है उनके पास किसी भी वर्ष फीस समय से नही आती।हर वर्ष साल भर की लगभग 60 से 70 प्रतिशत फीस फसी ही रहती है जिसकी बस एक ही उम्मीद नजर आती है कि इस 60 से 70 प्रतिशत फीस का कुछ हिस्सा वार्षिक परीक्षा के दौरान निकल आएगा,जिसमे से भी लगभग 20 से 30 प्रतिशत फीस नही मिल पाती है या ये कहे डूब जाती है तो कोई गलत नही होगा। इस वर्ष की समस्या तो ऐसे विद्यालयों की और भी विकट है ,मैं समझता हूँ कोई भी विद्यालय इससे अछूता नही होगा।होली एवम अन्य कई कारणों से इस वर्ष वार्षिक परीक्षा ऐसे सभी विद्यालयों में थोड़ी लेट हो गयी।अब फीस तो फसी ही है।शासनादेश के अनुसार सभी बच्चों को बिना परीक्षा के पास कर दिया गया।अब बच्चे पास तो फीस की उम्मीद भी न के बराबर फिर शासनादेश आया अप्रैल मई जून की फीस के लिए हम कोई दबाव नही देंगे।सही है सर नही देंगे।सभी शिक्षकों की सैलरी भी देनी है,वो तो देनी ही है सर वो हमारे कर्मचारी है और ये हमारा फर्ज है इस संकटकालीन स्थिति में।

मगर विद्यालय प्रबंधन और कोचिंग संस्थान इस वर्ष अपने अन्य खर्चो को किस प्रकार मैनेज करे कृपया इस पर भी गौर किया जाए….

अभिभावक व कोचिंग संस्थानों के बच्चे तो इतने समझदार है कि अगर फीस लम्बी बाकी है तो वो दूसरे स्कूल में अपने बच्चों को ले जाएंगे।दूसरा विद्यालय भी क्या करे उनको बच्चे लेने है बिना मार्कशीट/टी सी के ही एडमिशन ले लेंगे।अब समस्या एक और आ गयी हम फीस माँगे या अपने पुराने बच्चों को अपने विद्यालय में रोके।स्थिति ऐसी है कि इस वर्ष ऐसे विद्यालयों का अस्तित्व भी बचेगा या नही समझ नही आ रहा।मन के अंदर बाते तो काफी आ रही है लिखने पर काफी लंबा लिख दिया जाएगा।और तो और ऐसे विद्यालयों में ऑनलाइन क्लास कदाचित सम्भव ही नही है…

आज कल एक नारा और चारो ओर सुनाई दे रहा,जब पढ़ाई नही तो फीस नही।तो महोदय ऐसे विद्यालयों पर एक रहम ऐसे लोग ही कर दे कि ऐसे विद्यालयों को मार्च तक कि फीस ही दिलवा दीजिये,क्योंकि मार्च तक तो ऐसे विद्यालयों ने पढ़ाया ही है…

स्थिति चिंतनीय है,कृपया इस ओर विशेष ध्यान दिया जाए।ये समस्या किसी एक विद्यालय की नही अपितु मध्यम एवम ग्रामीण क्षेत्रो से जुड़े सभी विद्यालयों की होगी।ऐसे विद्यालय प्रभंधन के पास पूर्ण रूप से कोष का अभाव हो चुका है।अस्तित्व बचाना भी मुश्किल है।अब समस्या ये है कि सब्जी तो बेच नही सकते,ठेला तो लगा नही सकते या ….

अब आप ही अपनी कुछ राय दीजिये ऐसे विद्यालय के अध्यापक एवम अन्य स्टाफ कौन सा रोजगार करे…

ये भी पढ़े :  गोरखपुर शहर हुआ हाई अलर्ट 3 जोन और 12 सेक्टर में बांटा गया शहर....
ये भी पढ़े :  अभी-अभी:भाजपा एमएलसी देवेंद्र सिंह भीषण सड़क हादसे में हुए घायल,स्थिति नाजुक…..

पाठक सरदार जसप्रीत प्रबंधक खालसा विद्यालय गोरखपुर तथा अन्य प्रबंधकों से बातचीत के आधार पर

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर के डीएम के विजयेंद्र पांडियन हुए कोरोना पॉजिटिव इनको मिली डीएम की जिम्मेदारी…

डीएम के विजयेंद्र पांडियन कोरोना पाजिटिव मिले। एंटीजन जांच में हुई पुष्टि। rtpcr के लिए भेजा गया नमूना। होम आइसोलेट हुए। सीडीओ...

कैन्ट थानान्तर्गत मारपीट व फायरिंग में संलिप्त दो अभियुक्तों के ऊपर एसएसपी ने 25-25 हजार रूपये धनराशि के पुरस्कार की घोषणा ….

गोरखपुर। वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक गोरखपुर द्वारा अपराध एवं अपराधियों पर अंकुश लगाये जाने हेतु किये जा रहे कार्यवाही...

अभी-अभी गोरखपुर एसएसपी ने की बड़ी कार्रवाई 4 उप निरीक्षक का किया तबादला इनको मिली जिम्मेदारी….

%d bloggers like this: