Saturday, September 25, 2021

कहानी उस मजदूर की जो बन गया प्रोफेसर, 3 बार की असफलता भी नहीं तोड़ सकी हौसला …

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

आज मजदूर दिवस है। इस मौके पर जानिए बिहार के एक ऐसे मजदूर की कहानी जो प्रोफेसर बन गया। तमाम मुश्किल हालात को कैसे मात देकर यह मुकाम हासिल किया जानिए खुद अमृत राज की जुबानी। ‘मेरे पिताजी मजूदरी करते थे। परिवार की माली हालत अच्छी नहीं थी। मैं भी उनके साथ मजदूरी करता था। मुझे याद है मैंने दो-चार उनके साथ दिहाड़ी मजदूरी पर गया।

सफलता में हर बार आड़े आई बीमारी

मजदूरी से प्रोफेसर बनने की मेरी कहानी की शुरुआत जनवरी 2017 से हुई। जब मैंने नेट जेआरएफ के लिए प्रवेश लिया तब भयंकर फीवर की चपेट में था। 104 डिग्री का बुखार हो गया था। पढ़ाई भी नहीं हो पा रही थी। नतीजा यह निकला कि पहले प्रयास में फेल हो गया, मगर हिम्मत नहीं हारी। नवंबर 2017 में फिर कोशिश की। इस बार भी परीक्षा से एक सप्ताह पहले डेंगू हो गया था। परीक्षा की पहली रात 104 डिग्री बुखार था। पूरी रात नहीं सो पाया। हालांकि परीक्षा दी, मगर इस बार भी फेल हो गया।

एक तरफ जिंदगी से जंग, दूसरी तरफ प्रोफेसर का ख्वाब

हर बार की तरह हौसला बनाए रखा। मेहनत जारी रखी और जून 2018 में तीसरा प्रयास किया। इस बार भी जिंदगी दगा कर गई। परीक्षा से पहले चेचक ने जकड़ लिया। परीक्षा में फिर फेल हुआ। अस्पताल गया। पता चला कोई गंभीर बीमारी है। मैं पूरी तरह से टूट चुका था। एक तरफ बीमारी से लड़ रहा था दूसरी ओर जेआरएफ से। तीन बार असफल होने के बाद भी निराश नहीं हुआ। समझ आया कि जिंदगी परेशानियों को दूसरा नाम है। परेशानियां उन्हें ही मिलती हैं जो उन्हें झेल सकते हैं और सकारात्मक सोच के साथ अपने सपनों को पूरा करने में जुटे रहते हैं।

ये भी पढ़े :  ऋषि कपूर के निधन पर 'दामिनी मीनाक्षी शेषाद्रि' का टूटा दिल, कहा- मेरा मन बहुत भारी है.....
ये भी पढ़े :  कारगिल में वतन पर मर मिटने वाले सपूतों के आखिरी खत, पढ़िए क्या-क्या लिखा था?

कौन हैं अमृत राज

‘मेरा नाम अमृत राज है। बिहार के जहानाबाद के छोटे से गांव किशनपुर में जन्म हुआ है। जब मैं पैदा हुआ तब हमारे गांव में पढ़ाई लिखाई का माहौल नहीं था। माता-पिता दोनों मजदूरी करते थे। वे खुद भी नहीं पढ़े थे, मगर उन्होंने मुझे पढ़ने-लिखने का भरपूर अवसर दिया। कक्षा तीन की पढ़ाई मैंने गांव के सरकारी स्कूल में की।

 ननिहाल में रहकर की पढ़ाई

ननिहाल में रहकर की पढ़ाई

पढ़ाई के प्रति मेरी लगने को देखते हुए फिर मामा अपने शहर गुंसा में ले गए, क्योंकि वहां पढ़ाई का माहौल अच्छा था। वहां मामा ने फिर से मेरा दाखिला पहली कक्षा में करवाया। तब मुझे परिवार में मुन्नू कहकर बुलाते थे। स्कूल के शिक्षक जयप्रकाश ने मुझे अमृत राज नाम दिया। पांचवीं तक उसी स्कूल में पढ़ा। फिर दाउदपुर के हाई स्कूल में दसवीं तक की पढ़ाई पूरी की। इस दौरान में ननिहाल से घर जाता तो मां-बाप के साथ मिट्टी काटने की मजदूरी करने जाया करता था।

ये भी पढ़े :  दिल्‍ली हिंसा में 15 FIR दर्ज, गैंगस्टर लक्खा सिंह का नाम आया सामने

11वीं कक्षा में रहे टॉपर

फिर जहानाबाद के स्कूल से 11वीं साइंस से पढ़ाई की। टॉपर रहा तो 12वीं की फीस माफ हो गई। तब मेरी मैथ्स पर पकड़ अच्छी थी तो पटना के करतार कोचिंग से एनडीए की तैयारियों में जुट गया। उस समय भी मुझे चेचक और डेंगू ने जकड़ लिया। एनडीए में चयन नहीं हो सका। एनडीए की तैयारियों के दौरान टीचन एम रहमान से इतिहास की कोचिंग में चन्द्रगुप्त मौर्य से जुड़े एक सवाल पर उन्होंने इतिहास पर पकड़ भी बनाने कॉलेज में दाखिले की सलाह दी।

पटना कॉलेज से किया स्नातक

पटना कॉलेज से किया स्नातक

2013 में मैंने पटना कॉलेज में प्रवेश लिया। हॉस्टल में रहकर पढ़ाई की। वर्ष 2016 में इतिहास संकाय से स्नातक की डिग्री हासिल की। कॉलेज में प्रोफसर डेजी बनर्जी, प्रोफेसर नयाशंकर, प्रोफसर मोहम्मद इस्माइल का मार्गदर्शन बना और मैंने इन्हीं की तरह प्रोफेसर बनने की ठानी। उसके लिए मुझे नेट जेआरएफ करना था। इंदिरा गांधी खुला विश्वविद्यालय नई दिल्ली से वर्ष 2018 में इतिहास विषय से पोस्ट ग्रेजुएशन किया। फिर नेट की तैयारी में जुट गया और जनवरी 2017 से नेट की परीक्षा देनी शुरू की हैं वर्ष 2018 तक चार बार नेट की परीक्षा दी और हर बार फेल हो गया। वर्ष 2019 में मुझे सफलता मिल गई और मैं प्रोफेसर बन गया।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

सिद्धार्थ पांडेय बने भाजपा मीडिया सम्‍पर्क विभाग के क्षेत्रीय संयोजक…

उत्‍तर प्रदेश में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनावों की तैयारी में जुटी भाजपा संगठन को नए स्‍तर से मजबूत बनाने में...

शहीद के बेटे नीतीश 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट एलब्रुस पर फहराएंगे तिरंगा, लोकसभा अध्यक्ष ओम बिरला ने सौपा...

Gorakhpur: गोरखपुर के राजेन्द्र नगर के रहने वाले युवा पर्वतारोही नीतीश सिंह 15 अगस्त को यूरोप महाद्वीप की सबसे ऊंची चोटी माउंट...
%d bloggers like this: