Wednesday, August 4, 2021

योगी की तगड़ी कार्रवाई: कानपुर पुलिस पर गिरी गाज, IPS समेत 10 पुलिसकर्मी सस्पेंड

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

 

कानपुर: उत्तर प्रदेश में बढ़ते अपराध को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अपना लिया है। कानपुर में लैब असिस्टेंट संजीत यादव के अपहरण और हत्या के मामले में मुख्यमंत्री ने बड़ी कार्रवाई की है। सीएम योगी ने कानपुर के एएसपी व सीओ सहित 10 पुलिस कर्मियों को निलंबित कर दिया है। वहीं पूरे मामले की जांच एडीजी बीपी जोगदंड को सौंपी गई है।

एएसपी, सीओ समेत 10 पुलिसकर्मी सस्पेंड:

कानपुर अपहरण और हत्या के मामले में 10 पुलिसकर्मी निलंबित हुए हैं, जिसमें एक आईपीएस अधिकारी (एएसपी), एक पीपीएस अधिकारी (सीओ), एक इंस्पेक्टर, दो सब इंस्पेक्टर और पांच सिपाही हैं। IPS ऑफिसर अपर्णा गुप्ता, तत्कालीन डिप्टी एसपी मनोज गुप्ता, तत्कालीन एसओ बर्रा रणजीत राय, थाना एवं चौकी इंचार्ज राजेश कुमार समेत 5 सिपाहियों पर गाज गिरी।

क्या है पूरा मामला?

उत्तर प्रदेश का कानपुर जिला पिछले एक महीने से काफी सुर्खियों में है। बिकरू कांड के बाद बर्रा अपहरण कांड ने कानपुर पुलिस को कठघरे में लाकर खड़ा कर दिया है। इसके बाद यूपी पुलिस के कामकाज पर भी सवाल खड़े होने लगे हैं। बता दें कि बिकरू हत्याकांड के बीच कानपुर के बर्रा से एक खबर आई कि यहां पर लैब टेक्नीशियन संजीत यादव का करीब एक महीने पहले 22 जून की रात को  हॉस्पिटल से घर आने के दौरान अपहरण हो गया था। इस मामले में कानपुर पुलिस की भूमिका पर शुरू से ही सवालों खड़े किए जा रहे हैं।

ये भी पढ़े :  यूपी के शहीदों के परिजनों को दी जाएगी 50 लाख रुपए की मदद, योगी सरकार का बड़ा फैसला...
ये भी पढ़े :  यूपी के शहीदों के परिजनों को दी जाएगी 50 लाख रुपए की मदद, योगी सरकार का बड़ा फैसला...

दोस्तों ने किया था संजीत का अपहरण

करीब एक महीने बाद पुलिस ने इस मामले का खुलासा किया। संजीत के खुद उसके दोस्त थे। पुलिस ने इस मामले में पांच अभियुक्तों को गिरफ्तार किया है, सभी संजीत के दोस्त हैं। पूछताछ के दौरान आरोपियों ने यह कबूला है कि उन्होंने संजीत की हत्या कर उसका शव पांडु नदी में बहा दिया था। इस अपहरणकांड का मास्टरमाइंड ज्ञानेंद्र यादव था।

पैसे देने के बाद भी युवक को नहीं बचा पाई पुलिस

पूछताछ में आरोपितों ने चौंकाने वाला खुलासा किया कि उन्होंने फिरौती का बैग उठाया ही नहीं। उनका कहना है कि उन्होंने फिरौती के लिए कॉल तो की थी, लेकिन फिरौती का बैग नहीं उठाया। इसके बाद से पुलिस पर सवाल खड़े हो रहे हैं। आरोप है कि पुलिस ने ही फिरौती के पैसे अपहरणकर्ताओं को देने के लिए कहा था, लेकिन पैसे देने के बाद पुलिस अगवा युवक को बचा नहीं पाती और उसकी हत्या हो जाती है।

ये भी पढ़े :  फर्जी है लाल चौक पर ध्वजारोहण की तस्वीर, सोशल मीडिया पर मोदी इफेक्ट के नाम से आज जबरदस्त वायरल...

आखिर फिरौती का बैग कहां गया?

आरोपितों द्वारा फिरौती की रकम मिलने से इनकार करने के बाद सवाल ये उठता है कि आखिर फिरौती का बैग कहां गया? वहीं उत्तर प्रदेश में बढ़ते अपराध को लेकर मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कड़ा रुख अपना लिया है और ऐसा कहना जा रहा है कि सीएम योगी कानपुर IG मोहित अग्रवाल, ADG जेएन सिंह, SSP दिनेश पी की कार्यप्रणाली से नाराज हैं।

ये भी पढ़े :  कानपुर देहात: सोशल डिस्टेंसिंग के लिए SP ने लिया 'केबिन बॉक्स' का सहारा

घटना को लेकर सीएम योगी ने जताई थी नाराजगी

इस पूरे मामले में पुलिस की लापरवाही साफ नजर आ रही है। मामले की गंभीरता को देखते हुए कानपुर अपहरण प्रकरण में सीओ गोविंद नगर मनोज गुप्ता , ए॰एस॰पी॰ अपर्णा गुप्ता , तत्कालीन एस॰ओ॰ बर्रा रणजीत राय थाना एवं चौकी इंचार्ज राजेश कुमार निलंबित कर दिया गया है। इस घटना को लेकर सीएम योगी ने नाराजगी भी जताई थी।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में कई IPS बदले गए,दिनेश कुमार गोरखपुर के नए एसएसपी.

कई IPS के तबादले हुए जिसमे गोरखपुर के एसएसपी जोगेंद्र कुमार को झाँसी का नया डीआईजी बनाया...

बड़े पैमाने पर हुआ सीओ का तबादला,125 सीओ किये गए इधर से उधर….

उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर सीओ यानी उपाधीक्षकों के तबादले किये गए।।125 उपाधीक्षकों का तबादला किया...

तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंसी बहू, सिद्धि के लिए दे दी अपने ही ससुर की बलि

उत्तर प्रदेश के कौशांबी में तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंस कर एक बहू ने अपने ही ससुर...
%d bloggers like this: