Friday, September 24, 2021

काशी में टूटते घरों के नीचे मिल रहे हजारों साल पुराने मंदिर, हिन्दू धर्म …

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

पीएम नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट काशी विश्वनाथ कॉरिडोर के तहत मणिकर्णिका व ललिता घाट से विश्वनाथ मंदिर तक 40-40 फीट के दो कॉरीडोर बनाने का काम तेजी से चल रहा है. इसके लिए यहां हो रहे ध्वस्तीकरण के दौरान बेहद चौंकाने वाली तस्वीरें सामने आ रही हैं. मंदिर क्षेत्र में टूट रहे मकानों से भगवान की मूर्तियों के साथ हजारों साल पुराने मंदिर भी निकल रहे हैं. जिसे देख विशेषज्ञ भी हैरान हो रहे हैं. हैरानी की बात यह है कि अब तक जो मंदिर मिले हैं उनमें से एक मंदिर काशी विश्वनाथ मंदिर जैसे ही दिख रहा है. ध्वस्तीकरण के दौरान प्राचीन मूर्तियों के साथ पुरातन कलाओं और शैली में निर्मित मंदिर भी मिल रहे हैं. यहां अब तक 43 मंदिर और विग्रह मिल चुके हैं. इनमें से कुछ 11वीं से 12वीं शताब्दी के भी बताए जा रहे हैं.

जानकारों की मानें तो काशी को दुनिया का सबसे प्राचीनतम और जीवंत नगरी यूं ही नहीं कहा जाता है. विश्वनाथ कॉरीडोर के तहत यहां चल रहे ध्वस्तीकरण के दौरान कई ऐसे मंदिर मिले हैं जिनके पांच हजार साल पुराने होने का दावा किया जा रहा है. इनमें से कई मंदिरों व अवशेष के चंद्रगुप्त काल के होने से साबित होता है कि काशी उस काल में भी जीवंत नगरी रही. इन्हीं मंदिरों में से एक में बिल्कुल काशी विश्वनाथ जैसा शिवलिंग निकला है. हालांकि विशेषज्ञ इसे काशी विश्वनाथ के शिवलिंग से बड़ा होने का दावा कर रहे हैं. यही नहीं एक मकान का मलबा हटाए जाने के दौरान एक सुरंगनुमा रास्ता भी मिला है. जिसमें एंट्री करने के बाद सीढ़ीनुमा ढलान मिला. फिलहाल विशेषज्ञ इसकी पड़ताल में जुटे हैं.

कॉरीडोर के लिए पुरानी काशी यानी पक्का महाल में अब तक खरीदे गए करीब 175 भवनों को ध्वस्त करने के लिए तीन हजार मजदूर लगाए गए हैं. ध्वस्तीकरण के दौरान मकानों के अंदर कैद या जमीन के नीचे दबे ऐसे कई मंदिर सामने आये हैं जो हजारों साल पहले गुम हो चुके थे. अद्भुत शिल्प कला और खूबसूरत नक्काशी वाले ये मंदिर चंद्रगुप्त काल से लगायत काशी विश्वनाथ मंदिर की स्थापना काल के समय के बताए जा रहे हैं. इसके अलावा भारतीय स्टाइल में रथ पर बना भगवान शिव का एक अद्भुत मंदिर मिला है, जिसमें समुद्र मंथन से लेकर कई पौराणिक गाथाएं उकेरी गई हैं. वहीं, इसी मंदिर के सामने दीवार से ढका भगवान शिव का एक और प्राचीन विशाल मंदिर मिला है.

ये भी पढ़े :  शादी के एक महीने बाद ही दुल्हन ने दिखाई अपनी असलियत, किया ऐसा काम.....
ये भी पढ़े :  जाने 20 अप्रैल से किन शर्तों पर मिल सकती है छूट....

काशी विश्वनाथ मंदिर के मुख्य कार्यपालक अधिकारी विशाल सिंह की मानें तो ध्वस्तीकरण में मिले कुछ मंदिर उतने ही पुराने हैं जितनी पुरानी काशी नगरी के होने का अनुमान इतिहासकार लगाते हैं. जिन मकानों में प्राचीन मंदिर मिल रहे हैं वहां काम रोककर पहले उसे संरक्षित करने के लिए वीडियोग्राफी करायी जा रही है. इसके लिए कंसलटेंट कंपनी ने एक दर्जन विशेषज्ञों की टीम लगाई है जो मंदिर प्रशासन के साथ मिलकर काम कर रही है.

कमिश्नर दीपक अग्रवाल ने बताया कि ध्वस्तीकरण का काम पूरा होने के बाद जितने भी मंदिर मिलेंगे उनका संकुल बनाया जाएगा. प्राचीन मंदिरों से सजने वाला यह संकुल अपने आप में अनूठा और अलग छटा बिखेरेगा. ध्वस्तीकरण में मिल रहे मंदिरों के अध्ययन की जिम्मेदारी पुरातत्व विभाग को सौंपा जा रहा है. साथ ही इन मंदिरों के स्थापना का वास्तविक काल की जानकारी करने के लिए कार्बन डेटिंग कराई जाएगी.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

पूर्वांचल में मदद की परिभाषा बदलने का ऐतिहासिक कार्य कर रहे हैं युवा नेता पवन सिंह….

युवा नेता पवन सिंह ने मदद करने की परिभाषा पूरी तरह बदल दी है. उन्होंने मदद का दायरा इतना ज्यादा बढ़ा दिया...

Maharajganj: तेज तर्रार नेता नितेश मिश्र भाजपा छोड़ थामा सपा का दामन, आपने सैकड़ों समर्थकों के साथ ली सदस्यता

Maharajganj/Dhani: धानी ब्लॉक के डेढ़ सौ लोगो ने पूर्व भाजपा नेता नीतेश मिश्र के नेतृत्व में समाजवादी पार्टी की सदस्यता लिया। प्राप्त...

स्वर्णकार समाज ने लोकसभा , विधानसभा में अपने प्रतिनिधित्व के लिए भरी हुँकार,जल्द प्रदेश व्यापी होगी सभा

स्वर्णकार समाज का स्वर लोकसभा एवं विधानसभाओं में मुखरित हो प्रतिनिधित्व सभी पंचायतों में हो इस विचार के साथ स्वर्णकार समाज...
%d bloggers like this: