Tuesday, August 3, 2021

काशी की ज्ञानवापी मस्जिद के नीचे मिले ‘भव्य हिन्दू मंदिर’ के सबूत फोटो देखे

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

गुरुवार को हुई खुदाई के दौरान मिले मस्जिद के नीचे भव्य हिन्दू मंदिर होने के अकाट्य सबूत काशी मुक्ति का आंदोलन होगा और तेज

काशी विश्वनाथ ज्ञानवापी मैदान गुरुवार को करीब पांच सौ साल पुराने मंदिर के अवशेष मिले हैं. यह अवशेष उस वक्त मिला जब काशी विश्वनाथ मंदिर कॉरिडोर निर्माण के लिए ज्ञानवापी मैदान में शृंगार गौरी के पास खोदाई की जा रही थी. आपको बता दें कि दो साल पहले भी ज्ञानवापी के पूर्वी हिस्से में की प्राचीन दीवार को हटाने के समय भी कुछ पुरातन इमारत के अवशेष मिले थे.

जानकारी के मुताबिक पुरातत्व विशेषज्ञों की मानें तो प्राप्त अवशेषों को देख कर आसानी से कहा जा सकता है कि यह 16वीं सदी के मंदिरों की स्थापत्य शैली से मेल खाते हैं. अवशेष में कलश और कमल के फूल साफ तौर पर दिख रहे हैं इस प्रकार के कलश और कमलदल 15वीं-16वीं शताब्दी के हिंदू देवी-देवताओं के मंदिरों में देखने को मिलते हैं.

ये भी पढ़े :  सिर्फ तस्वीर ही नही इनकी प्रेम कहानी भी आपके दिल को छू जाएगी ।

ज्ञानवापी मैदान के पश्चिमी हिस्से में जिस जगह पर यह अवशेष मिला है, वहीं एक सुरंग जैसा बड़ा सुराख भी दिखाई दिया है.  बिना जांच के कहना मुश्किल है कि वहां सुरंग है या नहीं, लेकिन पत्थर के जो अवशेष मिले हैं,  वह चार बेशरक सौ से पांच सौ साल पुराने हो सकते हैं. अवशेष की पूरी तरह टेस्टिंग करके ही उसकी प्राचीनता के बारे में सटीक जानकारी जुटाई जा सकती है। हो सकता है यह अवशेष उससे भी अधिक पुराने किसी मंदिर का हो.

ये भी पढ़े :  देवरानी-जेठानी ने क़ायम की मिसाल, एक साथ पास की पीसीएस की परीक्षा

जिला पुरातत्व अधिकारी सुभाष चंद्र यादव का कहना है कि पत्थर के अवशेष के स्थापत्य की शैली देख कर लगता है कि यह 15वीं-16वीं शताब्दी के आसपास का है. जहां तक सुरंग का सवाल है तो उसकी जांच किए बिना कुछ भी कह पाना आसान नहीं है. वहीं श्रीकाशी विश्वनाथ विशिष्ट विकास परिषद के सीईओ गौरांग राठी ने कहा कि गुरुवार की शाम ज्ञानवापी मैदान वाले हिस्से में एक पुराना स्ट्रक्चर मिला है.

द्वादश ज्योतिर्लिंगों में प्रमुख काशी विश्वनाथ मंदिर अनादिकाल से काशी में है। यह स्थान शिव और पार्वती का आदि स्थान है इसीलिए आदिलिंग के रूप में अविमुक्तेश्वर को ही प्रथम लिंग माना गया है। इसका उल्लेख महाभारत और उपनिषद में भी किया गया है। ईसा पूर्व 11वीं सदी में राजा हरीशचन्द्र ने जिस विश्वनाथ मंदिर का जीर्णोद्धार करवाया था उसका सम्राट विक्रमादित्य ने जीर्णोद्धार करवाया था। उसे ही 1194 में मुहम्मद गौरी ने लूटने के बाद तुड़वा दिया था। इतिहासकारों के अनुसार इस भव्य मंदिर को सन् 1194 में मुहम्मद गौरी द्वारा तोड़ा गया था। इसे फिर से बनाया गया, लेकिन एक बार फिर इसे सन् 1447 में जौनपुर के सुल्तान महमूद शाह द्वारा तोड़ दिया गया।

ये भी पढ़े :  ओवैसी शुद्ध रूप से स्वयं आंतकवादी है- बीजेपी विधायक सुरेंद्र सिंह

18 अप्रैल 1669 को औरंगजेब ने दुबारा एक फरमान जारी कर बचे हुए काशी विश्वनाथ मंदिर को ध्वस्त करने का आदेश दिया। यह फरमान एशियाटिक लाइब्रेरी, कोलकाता में आज भी सुरक्षित है। उस समय के लेखक साकी मुस्तइद खां द्वारा लिखित ‘मासीदे आलमगिरी’ में इस ध्वंस का वर्णन है। औरंगजेब के आदेश पर यहां का मंदिर तोड़कर एक ज्ञानवापी मस्जिद बनाई गई। 2 सितंबर 1669 को औरंगजेब को मंदिर तोड़ने का कार्य पूरा होने की सूचना दी गई थी। औरंगजेब ने प्रतिदिन हजारों ब्राह्मणों को मुसलमान बनाने का आदेश भी पारित किया था। आज उत्तर प्रदेश के 90 प्रतिशत मुसलमानों के पूर्वज ब्राह्मण है।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

वाराणसी में 9साल के बच्चे की हत्या, खेत में मिला शव…….

वाराणसी। सारनाथ थाना क्षेत्र के पैगंबपुर इलाके में फूलों के खेत में 9 वर्षीय बच्चे का शव...

बाबा विश्वनाथ के दरबार पहुंचे भोजपुरी के सुपरस्टार खेसारी लाल यादव,पूजा अर्चना के बाद काशी के कोतवाल से लिया आशीर्वाद

वाराणसी। भोजपुरी एक्टर खेसारी लाल यादव इस समय बनारस में हैं। खेसारी लाल यादव ने बनारस पहुँचते...
%d bloggers like this: