Friday, September 24, 2021

लड़कियों की तस्करी:दूसरे राज्यों के लड़के पैसे देकर शादी करते हैं, फिर लड़की को तीन-तीन बार बेच देते हैं

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

इस नाबालिग की हुलास गांव में शादी होने वाली थी। सही समय पर जानकारी मिलने से सोशल एक्टिविस्ट ने शादी रुकवा दी।

  • हरियाणा, पंजाब और यूपी के लड़के इस काम में शामिल, इनके जाल में फंसने वाली ज्यादातर लड़कियां लौट नहीं पातीं
  • 2008 में कोसी की बाढ़ के वक्त भी ऐसे मामले हुए थे, अब लॉकडाउन में झूठी शादियों का गिरोह सक्रिय

लॉकडाउन की ही बात है। बिहार के सुपौल जिले में आने वाले हुलास गांव में एक लड़का झूठी शादी कर रहा था, जबकि दिल्ली में पहले ही एक लड़की से लव मैरिज कर चुका था। लॉकडाउन में अपने गांव आया और दूसरा रिश्ता तय कर लिया। लड़की नाबालिग थी, लेकिन मां-बाप गरीब थे तो उन्होंने रिश्ता कर दिया। लड़के ने पहली शादी के बारे में नहीं बताया। ऐन मौके पर सामाजिक संस्था ग्राम विकास परिषद को पता चला तो उसने शादी रुकवा दी। लड़के को पुलिस के हवाले नहीं किया बल्कि, समझा-बुझाकर मामला खत्म करवा दिया।

फोटो में दिख रही लड़की (चेहरा ब्लर) नाबालिग है, लड़का बालिग। सोशल एक्टिविस्ट के दखल के बाद इनकी शादी रुकवाई गई।

बिहार में झूठी शादियों का ट्रेंड कई सालों से चल रहा है। पंजाब, हरियाणा, यूपी के लोग बिहार आते हैं। वहां पैसे देकर लड़कियों से शादी करते हैं और उन्हें अपने साथ ले जाते हैं। सबसे ज्यादा मामले पंजाब-हरियाणा के होते हैं। मुसीबतों के समय ये गिरोह ज्यादा सक्रिय हो जाता है, क्योंकि लोगों की मजबूरी का फायदा उठाने का मौका मिल जाता है। बिहार इन दिनों कोरोनावायरस के साथ ही बाढ़ का सामना कर रहा है। जिनके घर डूबे हैं वे सड़क पर रहने को मजबूर हैं। इन हालात में झूठी शादियों की आशंका और बढ़ गई है।

इस फोटो में दिख रही लड़की (चेहरा ब्लर) की उम्र सिर्फ 13 साल है। अधेड़ उम्र के आदमी से उसकी शादी करवाई जा रही थी।

पिछले 12 सालों से फेक मैरिज के खिलाफ लड़ रहीं मधुबनी की सामाजिक कार्यकर्ता हेमलता पांडे कहती हैं कि, हमने सिर्फ 2017 से 2019 के बीच ही मानव तस्करी के 13 मामले पकड़े और इसमें 32 लोगों की गिरफ्तारी हुई। ये ऐसे मामले थे, जिनमें पंजाब-हरियाणा-यूपी के लोग बिहार के गांव में आए और पैसों का लेनदेन कर गरीब लड़कियों से मंदिर में शादी कर ली।

ये भी पढ़े :  शपथ ग्रहण में परिवार को नहीं मिला न्योता, बहन बोलीं- मोदी का जीवन राष्ट्र को समर्पित.....

कई मामलों का सही समय पर खुलासा हो गया तो शादी तुड़वा दी गई। कुछ मामलों में यह भी पता चला कि जो लड़की शादी होकर गई है, वह हरियाणा में तीन-तीन परिवारों की बहू बनी हुई है। बहुत से मामलों में सामने आया कि लड़का कुछ साल लड़की को साथ रखता है, फिर किसी और को बेच देता है।

ये भी पढ़े :  कोरोना वायरस के कारण गिर रहे मुर्गे के कारोबार पर बोले मोदी सरकार के मंत्री:"मुर्गा और कोरोना का नही है कोई सम्बन्ध,अच्छे से पकाए व खाए...."

ये बिहार के गांवों के ही लड़के हैं, जो लड़कियों को खरीदने-बेचने वाले गिरोह में शामिल थे।

बिहार में यह काम नेटवर्किंग के जरिए चल रहा है। रोजगार के लिए यहां के लड़के पंजाब-हरियाणा जाते हैं। वहां के लड़कों से इनकी दोस्ती होती है। पैसों के लालच में ये ही उन लोगों को अपने गांव में लाते हैं। कुछ दिन साथ में रखते हैं, फिर किसी गरीब परिवार को देखकर शादी की बात करते हैं। लड़की के घरवालों को पैसा ऑफर किया जाता है। तरह-तरह के सपने दिखाए जाते हैं। जैसे, लड़का शहर में नौकरी-बिजनेस करता है और काफी पैसे वाला है। लड़की को खुश रखेगा। इतने में गरीब परिवार शादी के लिए हामी भर देता है।

पांडे के मुताबिक, मोटी रकम तो बीच वाला दलाल खा जाता है। परिवार को 20-25 हजार रुपए दे देते हैं और किसी मंदिर में शादी कर लड़की को लेकर फरार हो जाते हैं। लड़की के परिवार को लगता है कि, बेटी की शादी भी हो गई और पैसे खर्च होने की जगह मिल गए, इसलिए वे खुश हो जाते हैं। बाद में लड़की जिस दलदल में फंसती है, उसका अंदाजा कोई नहीं लगा सकता।

सामाजिक कार्यकर्ताओं की मदद से गांवों में बहुत सी झूठी शादियां रुकवाई गईं।

2008 में भी बिहार में कोसी की बाढ़ ने बहुत कुछ तबाह किया था। लाखों लोग सड़क पर आ गए थे। खाने-पीने तक का इंतजाम नहीं था। घर पानी में बह गए थे। तब भी ऐसे मामले ज्यादा होने लगे थे। तब ग्राम विकास परिषद संस्था ने एक सर्वे किया था। जिसमें 95 ऐसे मामले सामने आए थे, जिनमें पैसों का लेनदेन कर लड़कियों को हरियाणा-पंजाब ले जाया गया। परिषद के प्रोजेक्ट को-ऑर्डिनेटर राजेश कुमार झा के मुताबिक यह काम आज भी चल रहा है, लेकिन अब सब बहुत गुपचुप तरीके से होने लगा।

मानव तस्करी सिर्फ अंदरूनी राज्यों में ही नहीं हो रही बल्कि भारत-नेपाल बॉर्डर पर भी हो रही है। सिर्फ लड़की ही नहीं बल्कि लड़कों की भी तस्करी की जाती है। बहुत से ऐसे मामले भी हैं, जिनमें बिहार के लड़के नेपाल की लड़की को ब्याह कर ले आते हैं और फिर यहां किसी दलाल के जरिए हरियाणा-पंजाब भेज देते हैं और बीच में खुद दलाली खा लेते हैं। ऐसे ही जो दलाल नेपाल में सक्रिय हैं, वो खुद वहां की लड़कियों को काम का झांसा देकर बिहार लाते हैं और फिर यहां दलालों को बेच देते हैं। इन लोगों का टारगेट पिछ़ड़े गांव होते हैं, जहां लोग पढ़े-लिखे नहीं हैं और गरीबी ज्यादा है।

ये भी पढ़े :  पीएम नरेंद्र मोदी ने राजीव गांधी की पुण्यतिथि पर उन्हें श्रद्धांजलि दी

शादी करने वाले लड़के के साथ ही गिरोह में शामिल लोगों पर भी पुलिस ने कार्रवाई की है, लेकिन यह काम रुक नहीं रहा।

लॉकडाउन में ही नाबालिग बच्ची की शादी का मामला रामनगर में भी सामने आया। मां-बाप ने बेटी की शादी सिर्फ इसलिए करवा दी क्योंकि उनकी आर्थिक हालत ठीक नहीं थी। दोनों परिवारों ने आपसी सहमति से शादी की। लड़का बालिग था, लड़की नाबालिग। हालांकि, इस मामले में लड़का बाहर का नहीं था बल्कि बिहार का ही था। सुपौल में एक अखबार के लिए रिपोर्टिंग करने वाले प्रवीण कुमार मंडल ने बताया कि, जिन गरीब मां-बाप की तीन-चार लड़कियां होती हैं, वे लड़कियों की शादी इसी तरह कर देते हैं।

ये भी पढ़े :  इजरायली दूतावास के पास धमाका, मौके पर भारी पुलिसबल मौजूद

पिछले पांच सालों में यह ट्रेंड तेजी से बढ़ा है, क्योंकि गांव में लोगों के पास काम-धंधा ही नहीं है। अब घर कैसे चलाएं? कुछ मामले पता चलते हैं तो पुलिस को सूचना दे देते हैं, लेकिन आजकल सब बहुत गुपचुप हो जाता है। किसी को भनक ही नहीं लगती। सब होने के बाद गांव वालों को पता चल पाता है। लड़की का परिवार ना तो लड़के बारे में छानबीन करता है और ना ही उसका घर देखने जाता है। ऐसे लोग कम पढ़े-लिखे और बहुत गरीब होते हैं। इसलिए लड़का जो बातें करता है, वही इन्हें सही लगती हैं। दलाल ही लड़कों के रिश्तेदार बनकर आते हैं और सब तय करवा देते हैं।

ग्राम विकास परिषद के को-ऑर्डिनेटर राजेश कहते हैं हम 47 गांवों में अपना नेटवर्क बना चुके हैं। हमारी विजिलेंस कमेटी हैं। सेल्फ हेल्प ग्रुप हैं। किशोर-किशोरी समूह हैं। अब इन गांवों में कुछ भी होता है तो हमारे किसी ना किसी सदस्य को जानकारी मिल जाती है। जानकारी मिलते ही हम प्रशासन को इन्फॉर्म करते हैं। कई बार प्रशासन मदद करता है, कई बार नहीं करता।

जब मदद नहीं मिलती तो हम ग्रामीणों के साथ मिलकर खुद ही शादी रुकवा देते हैं। बाहर से आने वालों का पहला टारगेट नाबालिग लड़कियां होती हैं। हालांकि, बालिग लड़कियों के भी बहुत मामले आते हैं। अभी दलाल फिर सक्रिय हैं, क्योंकि गरीब लोग हाईवे पर रह रहे हैं। कोरोना के चलते कोई भीड़ नहीं है। ऐसे में दलालों का काम आसान हो गया है। इस माहौल को देखते हुए सामाजिक कार्यकर्ता भी सक्रिय हो गए हैं।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में जिला पंचायत अध्यक्ष के बाद अब चुने जाएंगे ब्लॉक प्रमुख, 8 को नामांकन, 10 जुलाई को मतदान

ब्लॉक प्रमुख पद के लिए 8 जुलाई को दिन में 11 बजे से शाम 3 बजे तक नामांकन पत्र दाखिल किए जा...

मोदी कैबिनेट में जल्‍द बड़ा फेरबदल, सिंधिया और वरुण गांधी सहित इन चेहरों को मिल सकती है जगह

टाइम्‍स नाउ की खबर के मुताबिक, मोदी कैबिनेट में जल्‍द फेरबदल का ऐलान हो सकता है। इस बार कई युवा चेहरों को...

अब दिल्ली में LG होंगे ‘सरकार’ केंद्र सरकार ने जारी की अधिसूचना, हो सकता है बवाल

दिल्ली में राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन अधिनियम (NCT) 2021 को लागू कर दिया गया है. इस अधिनियम में शहर की चुनी हुई...
%d bloggers like this: