Tuesday, July 27, 2021

कोरोना से जंग में आइआइटी ने चार दिन में बनाया पोर्टेबल वेंटीलेटर, डॉक्टरों की सुरक्षा का रखा ध्यान…..

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

कोरोना वायरस से जंग में आइआइटी कानपुर ने चार दिनों में पोर्टेबल वेंटिलेटर बनाकर एक लड़ाई जीतने में कामयाबी हासिल की है। देश-दुनिया में बढ़ते कोरोना वायरस से संक्रमित रोगियों की संख्या को देखते हुए आइआइटी छात्रों ने फिलहाल पोर्टेबल वेंटिलेटर का प्रोटोटाइप तैयार कर लिया है। जल्द ही मरीजों पर टेस्टिंग के बाद एक माह में एक हजार पोर्टेबल वेंटिलेटर बनाने का लक्ष्य है। इसमें डाॅक्टरों की सुरक्षा को देखते हुए कई विशेष फीचर भी इनबिल्ड हैं। देश दुनिया में वेंटिलेटर की मांग बढ़ी कोरोनो वायरस के रोगियों की संख्या को देखते हुए वेटिंलेटर की मांग तेजी से देश और दुनिया में बढ़ रही है। हाल ही में इटली में हजारों कोरोना संक्रमित लोगों की मौत और बड़ी संख्या में मरीजों के अस्पताल में भर्ती होने के चलते दूसरे देशों से वेंटिलेटर की मांग की गई थी, लेकिन खुद ही महामारी से जूझ अन्य देश आगे नहीं आए हैं। वहीं भारत में मरीजों की संख्या तेजी से बढ़ते देखकर भारतीय प्रौद्योगिकी संस्थान(आइआइटी) कानपुर और पुरातन छात्र आगे आए और उन्होंने चार दिन में पोर्टेबल वेंटीलेटर का प्रोटोटाइप मॉडल तैयार कर लिया है। अब इसे जल्द ही मरीजों पर टेस्ट किया जाएगा। संस्थान की खोज के बाद निदेशक प्रो. अभय करंदीकर ने टीम का हौसला अफजाई की है।
एक माह में बनाएंगे एक हजार पोर्टेबल वेंटिलेटर आइआइटी के पुरातन छात्र निखिल कुरेले और हर्षित राठौर ने आइआइटी के इनोवेशन एंड इन्क्यूबेशन हब के सहयोग से पोर्टेबल वेंटीलेटर का आइडिया विकसित किया था और इसे पेटेंट भी कराया। कोरोना वायरस के खतरे को देखते हुए हब के इंचार्ज प्रो.अमिताभ बंधोपाध्याय ने निखिल और हर्षित से बात की तो दोनों तैयार हो गए। आइआइटी के मकैनिकल इंजीनियरिंग के प्रो.समीर खांडेकर, प्रो.अरुण साहा, प्रो.जे रामकुमार, प्रो.विशाख भट्टाचार्य ने प्रोटोटाइप मॉडल बनाने में तकनीकी सहयोग की हामी भरी। दोनों पुरातन छात्र लॉक डाउन के चलते संस्थान नहीं आ सके। उन्होंने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग, स्काईप और अन्य तरीके से दिन रात एक कर प्रोटोटाइप मॉडल तैयार कर लिया। उनकी कंपनी ने कुछ अन्य संस्थाओं के सहयोग से जल्द से जल्द कई वेंटीलेटर बनाने का निर्णय लिया है। टीम का एक महीने के अंदर एक हज़ार पोर्टेबल वेंटीलेटर तैयार करने का लक्ष्य है।
डॉक्टरों की सुरक्षा का रखा ध्यान, मोबाइल से होगा संचालित कोरोना वायरस संक्रमित मरीज से डॉक्टरों को चपेट में आने का अधिक खतरा रहता है। इसमें सबसे ज्यादा संवेदनशील वेंटिलेटर होता है क्योंकि उसे संचालित करने के लिए बार बार छूना भी पड़ता है। इससे डॉक्टरों को खतरा रहता है, ऐसे में इस पोर्टेबल वेंटिलेटर में सुरक्षा का पूरा ध्यान रखा गया है। विशेषज्ञों के मुताबिक पोर्टेबल वेंटीलेटर मोबाइल फोन से संचालित होगा।ऐसे में इसे डाॅक्टर या स्वास्थ्य कर्मी निश्चित दूरी से चला सकता है। ऑक्सीजन के लिए दो ऑप्शन है, एक स्लो और दूसरा फ़ास्ट। इसमें आसानी से ऑक्सीजन सिलिंडर भी जोड़ा जा सकता है। यह बेहद हल्का और छोटा है। इसमें छोटी बैटरी भी लगी है, यदि कुछ देर बिजली आपूिर्त बंद भी हो जाएगी तो भी यह काम करता रहेगा। प्रो.अमिताभ बंदोपाध्याय के मुताबिक प्रोटोटाइप तैयार हो गया है, यह ऑटोमैटिक है। रविवार और सोमवार को इसकी मेडिकल टेस्टिंग कराई जाएगी। अब हो रहा अपग्रेड वर्जन पर काम आइआइटी के विशेषज्ञों ने पोर्टेबेल वेंटिलेटर का प्रोटोटाइप बनाने के बाद अपग्रेड वर्जन पर काम करना शुरू कर दिया है। इसे आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस से जोड़ा जा रहा है, इसमें रोगी की स्तिथि को देखते वेंटिलेटर स्वत: निर्णय लेगा कि किस मोड में ऑक्सीजन सप्लाई देनी है। इसके साथ ही कोरोना संक्रमित मरीज से वेंटिलेटर हटाने के बाद उसे सेनेटाइज करने के लिए भी ऑपशन दिया जा रहा है। इसकी लागत कुछ अधिक होगी लेकिन संक्रमण का खतरा कम रहेगा।

ये भी पढ़े :  मुंबई एयरपोर्ट पर तैनात CISF के 11 जवान कोरोना संक्रमित, 142 को रखा गया है क्वारंटाइन में.....

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में कई IPS बदले गए,दिनेश कुमार गोरखपुर के नए एसएसपी.

कई IPS के तबादले हुए जिसमे गोरखपुर के एसएसपी जोगेंद्र कुमार को झाँसी का नया डीआईजी बनाया...

बड़े पैमाने पर हुआ सीओ का तबादला,125 सीओ किये गए इधर से उधर….

उत्तर प्रदेश में बड़े पैमाने पर सीओ यानी उपाधीक्षकों के तबादले किये गए।।125 उपाधीक्षकों का तबादला किया...

तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंसी बहू, सिद्धि के लिए दे दी अपने ही ससुर की बलि

उत्तर प्रदेश के कौशांबी में तंत्र-मंत्र के चक्कर में फंस कर एक बहू ने अपने ही ससुर...
%d bloggers like this: