Saturday, July 24, 2021

क्या बच्चे के नाम में जीवन बीमा पॉलिसी लेनी चाहिए ?

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

अक्सर यह देखने को मिलता है कि लोग अपने बच्चे का बीमा पॉलिसी करवा लेते है | चाहे बीमा सलाहकार के कहने पर या फिर स्वयं के द्वारा किसी उद्देश्य को ले कर | पर क्या वास्तव में बच्चे का बीमा करवाना चाहिए या नहीं ? बीमा पॉलिसी लेने का मुख्य उद्देश्य वास्तव में यह होता है कि विषम परिस्थिति में आश्रितों की देखभाल के लिए एक निश्चित धनराशि की उपलब्धता रहेगी और यदि विषम परिस्थिति न भी उत्पन्न हो तो पूर्णावधि लाभ से बीमित व्यक्ति को अच्छी मदद मिल पायेगी, यानि कि हर हाल में बीमा उन्ही का होना चाहिए जिनके द्वारा पारिवारिक गृहस्ती चल रही है | इन सब के अलावा अन्य कारण भी हो सकते है की बच्चे की पॉलिसी लेने के, बजाय खुद की पालिसी ले | आएये कुछ तर्क देखते है जो यह प्रमाणित करना चाह रहे है कि बच्चे की पॉलिसी नही लेनी चाहिए :-
• बच्चे के नाम जीवन बीमा पॉलिसी लेने का एकमात्र उद्देश्य उसका भविष्य सुरक्षित करना होता है। और उसका भविष्य तभी सुरक्षित रह सकता है जबकी उसके माता – पिता का बीमा हो, जिससे बच्चे का भविष्य सुरक्षित रह पायेगा | क्योकि बच्चे के साथ कुछ होने पर वित्तीय समस्या नहीं उत्पन्न होती |
• बीमा हर हाल में बचत का आकर्षक जरिया नहीं हो सकता यह सिर्फ जोखिम के लिए ही रामबाण का कार्य करता है | रिटर्न चाहिये तो अच्छी जगह निवेश करें |
• अगर परिवार के घर चलाने वाले सदस्य की मृत्यु हो जाती है या वह कार्य करने में सक्षम नहीं रह पाता, तो बच्चे के नाम ली गई जीवन बीमा पॉलिसी ज्यादा मदद नहीं कर पाती । यहाँ तक की उसका प्रीमियम तय समय पर जमा भी नहीं हो पाता और पॉलिसी लैप्स हो जाती है | माता-पिता खुद के नाम जीवन बीमा पॉलिसी लेने से ही हर हाल में वित्तीय समस्या से मुक्ति मिल पायेगी | यह कर सकते है कि नॉमिनी बच्चे को बनाएं ।
• अगर बच्चे का बीमा करवाना ही चाहते है तो हैल्थ बीमा ले जिससे स्वास्थ्य सम्बन्धी खर्चो में आर्थिक मदद मिल जाएगी जिससे उसका इलाज कराना आसान होगा।
• बीमा में निवेश से रिटर्न कितना मिलता है इसका जरुर ध्यान रखें | जिस तरह से महगाई बढ़ रही है शायद बीमा उसे कवर करने के आधे के बराबर रिटर्न न दे सके | निवेश के लिहाज से शायद बच्चे के नाम बीमा पॉलिसी लेना सही लगता हो, लेकिन व्यावहारिक रूप से यह सही नहीं है।
• बीमा सलाहकार की ही बातों पर पूर्ण रूप से भरोसा न कर ले बल्कि अपनी जरुरतों के अनुरूप बीमा पॉलिसी ले | शायद आप यह सोच रहें हो की बच्चे के नाम जीवन बीमा लेना उसके भविष्य और शिक्षा के लिहाज से बेहतर निवेश साबित होगा। पर यह बात ध्यान रखें कि जीवन बीमा कोई बचत खाता नहीं है, जहां बच्चे की शिक्षा के लिए पैसे जमा रखे जाएं। शिक्षा के लिए पैसे जोड़ने के कई और आकर्षक विकल्प हैं, जो जीवन बीमा की तुलना में आपको ज्यादा रिटर्न देतें है ।
• छोटे बच्चे के नाम ली गई पॉलिसी में आगे चलकर नाम बदलवाने या सुधरवाने की भी जरुरत पड़ सकती है बीमा करवाने से पह्ले इसका जरुर ध्यान रखें ।
• यदि आप प्रीमियम देने में सक्षम है और बच्चे की पॉलिसी लेना चाहते है तो ऐसी पॉलिसी के चयन में यह जरुर देखें की आपका और उसका दोनों का जोखिम सयुंक्त रूप से कवर हो |
• टर्म बीमा पॉलिसी ले न की उपलब्ध अन्य आकर्षक दिखने वाली पालिसियां |

ये भी पढ़े :  पोस्टमैन से ले सकते है धन
ये भी पढ़े :  आधार से है अनेको लाभ, आप भी जानें ।

उपरोक्त समस्त बिन्दुओं के आधार पर यह कह सकते है की बीमा बच्चे की जगह पर घर के कमाने वाले व्यक्ति का लें, क्योकि आपके व्यक्तिगत जीवन पर कुछ घटना होने पर ही वित्तीय सहायता की जरुरत पड़ेगी जो बीमा के द्वारा उस समय पूर्ण किया जा सकता है | जबकि बच्चे की पॉलिसी लेने पर भविष्य में कोई आर्थिक समस्या में सहयोग नहीं मिलने वाली | अतः बीमा सिर्फ घर के कमाऊ व्यक्ति का ही प्राथमिक तौर पे होना चाहिए |

Dr. Ajay Kumar Mishra (Lucknow)

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

पालघर में नौसेना के नाविक को अगवा कर जिंदा जलाया,मौत…

तमिलनाडु: चेन्नई से 30 जनवरी को अगवा किए गए नौसेना के 26 वर्षीय नाविक को महाराष्ट्र के पालघर...

यूपी: पंचायत चुनावों का बजा बिगुल इलाहाबाद हाईकोर्ट ने किया तारीखों का ऐलान जाने कब होगा पंचायत चुनाव…

हाईकोर्ट ने यूपी सरकार को निर्देश दिया है कि 17 मार्च तक आरक्षण का कार्य पूरा कर...

पूर्वांचल: रामपुर जा रही प्रियंका गांधी के काफिले की कई गाड़ियां आपस में टकराई, बाल-बाल बची

हापुड़: रामपुर दौरे पर निकलीं कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी के काफिले में चल रहीं कई गाड़ियां...
%d bloggers like this: