Sunday, July 25, 2021

क्या लालकृष्ण आडवाणी के प्रधानमंत्री बनने की अब भी कोई संभावना बची है?

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

भारतीय जनता पार्टी के सबसे वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को इस बार टिकट नहीं मिला. लंबे समय से उनकी सीट रहे गांधीनगर से अब भाजपा अध्यक्ष अमित शाह उम्मीदवार हैं. कहा जा रहा है कि लालकृष्ण आडवाणी की सियासी पारी पर अब विराम लग गया है. जिस दिन भाजपा ने अपना घोषणापत्र जारी किया उस दिन अमित शाह आडवाणी से मिलने भी गए और यह बताया जा रहा है कि इस बैठक में उन्होंने आडवाणी को यह बताने की कोशिश की कि 75 साल से अधिक के लोगों को चुनाव नहीं लड़ाने का फैसला संसदीय बोर्ड का था और यह किसी खास व्यक्ति को लक्षित करके नहीं किया गया है.

लालकृष्ण आडवाणी का टिकट गुजरात के गांधीनगर से कटने के बाद यह माना जा रहा था कि अब वे कुछ बोलेंगे. माना जा रहा था कि भाजपा की अभी की राजनीति में अब उनके लिए पाने के लिए कुछ नहीं रह गया है और उनकी उम्र अब इतनी अधिक हो गई है कि उनके पास इंतजार करने का वक्त नहीं है. लालकृष्ण आडवाणी बोले भी, लेकिन अपने अंदाज में. जो लोग आडवाणी की राजनीतिक शैली को समझते हैं, उन्हें पता है कि वे संकेतों में बोलते हैं. अपनी इसी शैली के तहत उन्होंने एक ब्लाॅग में भाजपा की संस्कृति के बारे में लिखा. इसका सार यह है कि अभी का भाजपा नेतृत्व जिस तरह से अपने विरोधियों को दुश्मन बनाकर प्रस्तुत कर रहा है, आडवाणी ने उसे भाजपा की संस्कृति का हिस्सा नहीं माना. उन्होंने यह भी कहा कि विरोधियों को ‘राष्ट्र विरोधी’ कहना ठीक नहीं है.

लेकिन राजनीति में जो भी अनुभवी लोग हैं, वे सब लोग एक बात अक्सर कहते हैं कि राजनीति में कभी कोई खत्म नहीं होता. इस सोच के लोग यह मानते हैं कि आप जिस नेता को बिल्कुल खत्म मान लेंगे, वह भी खास राजनीतिक परिस्थितियों में उठकर खड़ा हो जाता है और सत्ता के शीर्ष पर भी पहुंच जाता है. भारतीय राजनीति में ऐसे कई उदाहरण हैं.

तो क्या लालकृष्ण आडवाणी के लिए राजनीति में फिर से उठ खड़ा होने की कोई संभावना अब भी बची है? जिन लोगों ने आडवाणी के साथ करीब से काम किया है वे मानते हैं कि उनका स्वभाव ‘नेवर से डाई’ यानी कभी भी हार मानने का नहीं है. यह तेवर आडवाणी में दिखा भी है. जब नरेंद्र मोदी को 2013 में भाजपा ने प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार बना दिया था तो उस वक्त दिल्ली के एक स्कूल के आयोजन में आडवाणी ने एक पुस्तक का हवाला देते हुए जो कहा था उसका सार यह है कि अगर आप में धैर्य और हौसला हो तो कठिन समय भी निकल जाता है.

ये भी पढ़े :  Plurals के जनरल सेक्रेटरी की कम्पनी ने बिना नोटिस दिए कर्मचारियों को निकाला, पुष्पम करती हैं लाखों जॉब्स देने के दावे

इसलिए बहुत से लोग मानते हैं कि 2013 से लगातार पार्टी में उपेक्षा झेल रहे भाजपा के प्रमुख ‘शिल्पकारों’ में से सबसे प्रमुख लालकृष्ण आडवाणी अगर चुप हैं तो यह उनकी विकल्पहीनता नहीं नहीं बल्कि इच्छा है. पहले लोग कह रहे थे कि आडवाणी को पीछे करके नरेंद्र मोदी आगे आए हैं तो वे आडवाणी को राष्ट्रपति बना देंगे. लेकिन नरेंद्र मोदी ने यह भी नहीं किया. जिस बैठक में राष्ट्रपति पद के उम्मीदवार का नाम तय हुआ उसमें आडवाणी का किसी ने नाम तक नहीं लिया. फिर भी वे चुप रहे. अब टिकट कट गया. फिर भी आडवाणी चुप हैं.

लेकिन सवाल यह उठता है कि चुप्पी से उनको क्या हासिल होगा? जानकारों का एक वर्ग मानता है कि लालकृष्ण आडवाणी के जिस रुख को ‘चुप्पी’ माना जा रहा है, राजनीति में उसके लिए ‘धैर्य’, ‘सब्र’ और ‘परिपक्वता’ जैसे शब्द इस्तेमाल किए जाते हैं. दरअसल, लोकसभा चुनावों को लेकर अब तक की विपक्ष की जो रणनीति दिख रही है, उसमें उन्हें भी यह मालूम है कि वे खुद सरकार बनाने की स्थिति में नहीं आ सकते. इसलिए हर जगह कांग्रेस और क्षेत्रीय दलों ने ऐसा ताना-बाना तैयार किया है, जिससे भाजपा की सीटें कम हों. 2014 में भाजपा को अपने दम पर स्पष्ट बहुमत मिला था. अब विपक्ष की पूरी कोशिश यह है कि भाजपा की कम से कम 100 सीटें कम हो जाएं.

अगर यह स्थिति बनती है तो फिर से भाजपा की राजनीति के केंद्र में लालकृष्ण आडवाणी के आने की संभावना बन जाएगी. उनकी उम्र 91 साल है. लेकिन अच्छी बात यह है कि वे स्वस्थ हैं. उन्हें कोई गंभीर बीमारी नहीं है. खान-पान और परहेज के मामले में उन्हें अटल बिहारी वाजपेयी से बेहतर बताया जाता है. स्वास्थ्य को लेकर वे शुरू से सजग रहे हैं, इस वजह से इस उम्र में भी वे कोई गंभीर स्वास्थ्य संबंधी दिक्कत का सामना नहीं कर रहे हैं.

दुनिया में कई ऐसे उदाहरण हैं जिनमें लालकृष्ण आडवाणी से भी अधिक उम्र के लोगों ने सत्ता का संचालन किया है. मलेशिया में महातिर मोहम्मद 92 साल की उम्र में प्रधानमंत्री बने. 1977 में भारत में ही मोरारजी देसाई 81 साल की उम्र में प्रधानमंत्री बने थे. इस लिहाज से देखें तो उम्र और स्वास्थ्य आडवाणी के लिए कोई बड़ी समस्या नहीं है.

जाहिर है कि मोदी-शाह से नाराज इन वर्गों को जब भी यह लगेगा कि यह जोड़ी कमजोर हो रही है या हो सकती है तो ये सभी वर्ग मुखर होकर इन्हें और कमजोर करने की कोशिश करेंगे. ऐसी स्थिति में मोदी के विकल्प के तौर पर भाजपा के अंदर और मीडिया में दो नाम चल रहे हैं. एक नाम है नितिन गडकरी का और दूसरा राजनाथ सिंह का.

ये भी पढ़े :  The World Don't Move to the Beat of Just One Drum

लेकिन भाजपा की आंतरिक राजनीति को समझें तो पता चलता है कि नितिन गडकरी के नाम पर नरेंद्र मोदी सहमत नहीं होंगे. अगर सीटें कम भी होती हैं तो भी नरेंद्र मोदी इतने कमजोर नहीं हो जाएंगे कि अगले प्रधानमंत्री के चयन में उनकी अनदेखी की जाए. ऐसी स्थिति में नरेंद्र मोदी की पसंद राजनाथ सिंह हो सकते हैं. लेकिन मोदी के कार्यकाल में राजनाथ सिंह की जो स्थिति रही है, उसे देखते हुए यह उन्हें भी मालूम होगा कि उन्हें प्रधानमंत्री बनाकर ‘रिमोट कंट्रोल’ से चलाने का काम नरेंद्र मोदी खुद करेंगे.

भाजपा में राजनाथ सिंह को भी बेहद धैर्यवान माना जाता है. उनकी राजनीति को जो लोग समझते हैं, वे यह मानेंगे कि ऐसी स्थिति में वे इसके लिए काम करेंगे कि नरेंद्र मोदी और कमजोर हों और नेतृत्व नितिन गडकरी के हाथ में न चला जाए. राजनाथ सिंह का नाम आते ही नितिन गडकरी भी उन्हें रोकने की कोशिश करेंगे क्योंकि इन दो में से किसी एक को नेतृत्व मिला तो भविष्य की भाजपा का नेतृत्व कुछ सालों के लिए निश्चित हो जाएगा.

सहयोगी दलों को भी लालकृष्ण आडवाणी से कोई दिक्कत नहीं होगी. क्योंकि इन्हें यह लगेगा कि बतौर प्रधानमंत्री आडवाणी उनके काम में अतिरिक्त दखल नहीं देंगे और काम करने की आजादी देंगे. वहीं विपक्ष को भी यह लगेगा कि उसने नरेंद्र मोदी को बाहर कर दिया और आडवाणी के रहते हुए सहयोगियों के भरोसे चलने वाली भाजपा सरकार बहुत दिन टिक नहीं पाएगी और ऐसे में तैयारी के साथ वह भविष्य के चुनावों में भाजपा को पटखनी दे सकता है. नरेंद्र मोदी को रोकने के लिए आडवाणी का समर्थन देने कुछ वैसे क्षेत्रीय दल भी सामने आ सकते हैं, जो अभी कांग्रेस के साथ हैं.

कुल मिलाकर देखा जाए तो आडवाणी के लिए फिर से अनुकूल राजनीतिक परिस्थितियां बन सकती हैं. बशर्ते भाजपा की तकरीबन 100 सीटें कम हो जाएं और कांग्रेस को जोड़-तोड़ करके भी सरकार बनाने भर सीटें नहीं मिलें.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

ब्लाक प्रमुख चुनाव परिणाम: भाजपा के परिवारवाद का डंका, इन मंत्रियों और विधायकों के बहू-बेटे निर्विरोध जीते

लखनऊ: देश की राजनीति में परिवारवाद की जड़ें काफी गहरी हैं। कश्मीर से कन्याकुमारी तक वंशवाद और परिवारवाद की जड़ें और भी...

शिवपाल यादव ने दी भतीजे अखिलेश यादव को नसीहत, बोले- प्रदर्शन नहीं, जेपी-अन्ना की तरह करें आंदोलन

Lucknow: लखीमपुर में महिला प्रत्याशी से अभद्रता की कटु निंदा करते हुए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने...
%d bloggers like this: