Sunday, September 27, 2020

क्रांतिकारी बिस्मिल के बलिदान स्थली गोरखपुर जेल में मनाई गई उनकी 123वी जयंती…..

गोरखपुर टाइम्स के खबर का हुआ असर, 24 घंटे के अंदर मुख्य आरोपी को पुलिस ने भेजा जेल…

महाराजगंज:- गोरखपुर टाइम्स की खबर का हुआ असर 24 घंटे के अंदर मुख्य आरोपी को पुलिस ने गिरफ्तार कर भेजा जेल ।थाना...

मोहद्दीपुर गोलीकांड में शामिल वांछित अभियुक्त विनय सिंह को पुलिस ने किया गिरफ्तार

गोरखपुर। कैंट थाना क्षेत्र के मोहद्दीपुर में हुए मारपीट और फायरिंग के मामले में शामिल वांछित अभियुक्त विनय...

दबिश देने पहुंची पुलिस पर मनबढ़ ने असलहा ताना…

महराजगंज:- सोनौली क्षेत्र के मुख्य मार्ग स्थित गांधी चौक पर शुक्रवार को उस समय सनसनी फैल गई, जब एक लड़की को परेशान...

नशा मुक्त होने पर सोच समझ कर अच्छा कार्य करने से पारिवारिक लाभ होगा-डीएम…

महराजगंज:-  जिलाधिकारी डा0 उज्ज्वल कुमार द्वारा कलेक्ट्रेट बुद्धा सभागार में नशा मुक्त भारत अभियान अन्तर्गत भारत सरकार के सामाजिक न्याय एंव अधिकारिता...

महाराजगंज: शिक्षा मित्र संघ का एक प्रतिनिधिमंडल नवागत बीएसए से मिल समस्याओं से कराया अवगत…

महाराजगंज :- उत्तर प्रदेश प्राथमिक शिक्षक संघ जनपद इकाई महाराजगंज के जिलाअध्यक्ष सदानंद पांडेय, राधे श्याम गुप्ता व अन्य पदाधिकारी गण ने...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

अखिल भारतीय क्रांतिकारी संघर्ष मोर्चा एवं गुरुकृपा संस्थान के संयुक्त तत्वावधान में गोरखपुर के ऐतिहासिक बलिदान स्थल मण्डलीय कारागार पर पंडित रामप्रसाद बिस्मिल की 123वीं जयंती मनायी गयी।कोविड-19 के सुरक्षा को ध्यान में रखकर एवं सोशल डिस्टेंसिंग का पालन करते हुए नगर निगम गोरखपुर प्रशासन द्वारा सेनीटाइज किया गया और संस्था के अध्यक्ष बृजेश राम त्रिपाठी के द्वारा मूर्ति की साफ-सफाई की गई और उनकी जयंती के पूर्व संध्या पर बिस्मिल कक्ष में दीप जलाकर आरती किया गया कार्यक्रम को अति संक्षेप में मनाया गया।

संगठन प्रमुख श्री त्रिपाठी ने कहा कि क्रांति की प्रेरणास्थल है गोरखपुर जेल, आजादी की देवी यहीं से होकर गुजरती हैं।राम और अज्ञात के नाम से विख्यात ‘बिस्मिल’ से मिलने गोरखपुर जेल पहुंचीं उनकी मां ने डबडबाई आंखें देखकर उनसे पूछा था, ‘तुझे रोकर ही फांसी चढ़ना था तो क्रांति की राह क्यों चुनी?’
1897 में आज के ही दिन यानी 11 जून को उत्तर प्रदेश के शाहजहांपुर जिले में माता मूलारानी और पिता मुरलीधर के पुत्र के रूप में जन्मे क्रांतिकारी रामप्रसाद बिस्मिल के बारे में आज की तारीख में यह तो सर्वज्ञात है कि अंग्रेजों ने ऐतिहासिक काकोरी कांड में मुकदमे के नाटक के बाद 19 दिसंबर, 1927 को उन्हें गोरखपुर की जेल में फांसी पर चढ़ा दिया था, लेकिन बहुत कम ही लोग जानते हैं कि इस सरफरोश क्रांतिकारी के बहुआयामी व्यक्तित्व में संवेदशील कवि, शायर, साहित्यकार व इतिहासकार के साथ एक बहुभाषाभाषी अनुवादक का भी निवास था और लेखन या कविकर्म के लिए उसके ‘बिस्मिल’ के अलावा दो और उपनाम थे- ‘राम’ और ‘अज्ञात’.
इतना ही नहीं, 30 साल के जीवनकाल में उसकी कुल मिलाकर 11 पुस्तकें प्रकाशित हुईं, जिनमें से एक भी गोरी सत्ता के कोप से नहीं बच सकीं और सारी की सारी जब्त कर ली गयीं. हां, इस लिहाज से वह भारत तो क्या, संभवतः दुनिया का पहला ऐसा क्रांतिकारी थे, जिन्होंने क्रांतिकारी के तौर पर अपने लिए जरूरी हथियार अपनी लिखी पुस्तकों की बिक्री से मिले रुपयों से खरीदे थे।।इतिहास के जानकार के मुताबिक, ‘बिस्मिल’ के क्रांतिकारी जीवन की शुरुआत 1913 में अपने समय के आर्य समाज और वैदिक धर्म के प्रमुख प्रचारकों में से एक भाई परमानंद , जो कि अमेरिका स्थित कैलीफोर्निया में अपने बचपन के मित्र लाला हरदयाल की ऐतिहासिक गदर पार्टी में सक्रियता के बाद हाल ही में स्वदेश लौटे थे, गिरफ्तार कर प्रसिद्ध गदर षड्यंत्र मामले में फांसी की सजा सुनाये जाने के बाद हुई।।परमानंद भाई को सुनाई गई इस क्रूर सजा से उद्वेलित राम प्रसाद बिस्मिल ने ‘मेरा जन्म’ शीर्षक से कविता तो रची ही, साथ ही ब्रिटिश साम्राज्य के समूल विनाश की प्रतिज्ञा कर I WISH DOWN FALL OF THE BRITISH UMPAIRE क्रांतिकारी बनने का फैसला कर लिया तो इसके लिए जरूरी हथियार अपनी पुस्तकों की बिक्री से प्राप्त रुपयों से ही खरीदे थे।
इस अवसर पर सत्यजीत सिंह, सुशील शुक्ला, हृदयेश तिवारी, रामानंद, मनीष, शिव नारायण उपस्थित थे।

ये भी पढ़े :  महिलाओं की सुरक्षा के लिए हुआ कार्यशाला का आयोजन

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

मोहद्दीपुर गोलीकांड में शामिल वांछित अभियुक्त विनय सिंह को पुलिस ने किया गिरफ्तार

गोरखपुर। कैंट थाना क्षेत्र के मोहद्दीपुर में हुए मारपीट और फायरिंग के मामले में शामिल वांछित अभियुक्त विनय...

जिले में पहली बार किसी अपराधी का घर पुलिस ने किया जब्त….

गोरखपुर। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के निर्देश पर लगातार अपराधियों पर कड़ी से कड़ी कार्रवाई करते...

बिग ब्रेकिंग:-देवरिया को देँगेँ CM योगी जबरदस्त तोहफ़ा, आज आयेंगें गोरखपुर….

देवरिया में CM योगी का आज दौरा होने वाला है वह लगभग 2.30 बजे शुगर मिल ग्राउड पर पहुँचेंगे यही नहीं...
%d bloggers like this: