Thursday, August 22, 2019
National

गांव-गांव तक बिजली पहुंचाने में बिहार बना नंबर-1, मोदी सरकार ने भी माना नीतीश का लोहा….

ऊर्जा मंत्री बिजेंद्र यादव ने दावा किया कि अगले वर्ष तक बिहार में 20 हजार मेगावाट तक बिजली की उपलब्धता हो जाएगी। उन्होंने कहा कि ग्रामीण विद्युतीकरण में बिहार देश का पहला राज्य बन गया है जहां तेजी से काम हो रहा है। सूबे के ऊर्जा मंत्री बिजेन्द्र प्रसाद यादव ने कहा कि 2019 तक बिहार में करीब 30 हजार मेगावाट तक बिजली की उपलब्धता हो जाएगी। उन्होंने कहा कि हमने जीरो से काम शुरू किया था आज 20 हजार के आंकड़ा को छूने वाले हैं।

ऊर्जा मंत्री ने कहा कि केन्द्र सरकार ने भी माना है कि बिहार में बिजली के क्षेत्र में द्रूत गति से काम हो रहा है। ग्रामीण विद्युतीकरण में बिहार देश का अव्वल राज्य बन गया है। राष्ट्रीय स्तर की बैठक में देश की तकनीकि समितियां ने भी माना कि बिहार में बिजली उत्पादन के क्षेत्र में बड़े काम की जरूरत है। उत्पादन के मामले में आत्मनिर्भरता के साथ आधारभूत संरचनाओं पर तेजी से काम हो रहा है।

उन्होंने बताया कि सहरसा सहित किशनगंज, पूर्णियां, कटिहार, दरभंगा, मोतिहारी और मुज्जफ्फरपुर में 400 के.बी. पावर ग्रिड की स्थापना होने जा रहा है। कई जगह निर्माण कार्य अंतिम चरण में है कुछ जगहों पर शुरू होना है। ये सभी ग्रिड नेशनल ग्रिड से जुड़ जाएगा। सहरसा में बनने वाले 400 के.बी पावर ग्रिड खगड़िया और बेगूसराय से जुड़ेगा। ग्रिड निर्माण के लिए स्थल चयन की प्रक्रिया चल रही है। मंत्री ने कहा कि इस ग्रिड के बनने और नेशनल ग्रिड से जुड़ने के बाद कोसी सीमांचल सहित मिथिलांचल क्षेत्रों में बिजली आपूर्ति की समस्या दूर हो जाएगी।

एक प्रश्न के जवाब में मंत्री ने कहा कि सरकार कृषि और मत्यस्य पालन को उद्योग के रूप में विकसित करने जा रही है। मछली पालन पर 3200 करोड़ राशि का प्रावधान किया गया है। सुपौल में बैम्बो टिशू कल्चर की स्थापना की गयी है।

Advertisements
%d bloggers like this: