Thursday, June 24, 2021

गोरखपुर के बाजारों में पहुंचा काले रंग वाला मुर्गा ‘कड़कनाथ’, जानिए क्या है कीमत.….

BJP ने खेला बड़ा दांव, पूर्व सीएम की बहू साधना सिंह को दिया टिकट

बीजेपी ने गोरखपुर के जिला पंचायत अध्यक्ष के प्रत्याशी के लिए मौजूदा विधायक फतेह बहादुर सिंह की पत्नी साधना सिंह को अपना उम्मीदवार...

भोजपुरी एक्टर खेसारीलाल यादव ने की अखिलेश यादव से मुलाकात, फोटो ट्वीट कर लिखी ये बड़ी बात

खेसारीलाल कई मौकों पर बीजेपी का विरोध कर चुके हैं. फिर चाहे वह किसान आंदोलन हो या अन्य मुद्दे. उन्होंने खुलकर केंद्र...

महाराजगंज में दो मासूम बच्‍चों की गड्ढे में डूबने से मौत, खेलने के दौरान हुआ हादसा

Maharajganj: महाराजगंज जनपद के बृजमनगंज नगर पंचायत क्षेत्र सहजनवां बाबू रोड पर मंगलवार को एक गड्ढे में डूबने से दो बच्चों मौत...

मोदी कैबिनेट में जल्‍द बड़ा फेरबदल, सिंधिया और वरुण गांधी सहित इन चेहरों को मिल सकती है जगह

टाइम्‍स नाउ की खबर के मुताबिक, मोदी कैबिनेट में जल्‍द फेरबदल का ऐलान हो सकता है। इस बार कई युवा चेहरों को...

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

गोरखपुर: कड़कनाथ मुर्गे का नाम सुनकर जुबान पर उसका स्वाद आना लाज़मी है. लेकिन, ये सीएम सिटी के लोगों की पहुंच से अभी तक दूर रहा है. मध्य प्रदेश के आदिवासी बहुल इलाके में मिलने वाला ये मुर्गा अब गोरखपुर के बाजारों में भी उपलब्ध है. मुर्गा खाने के शौकीन अब इसका स्वाद भी ले सकते हैं.

मध्य प्रदेश के आदिवासी बहुल क्षेत्र झाबुआ और धार जिले में पाए जाने वाला ‘कड़कनाथ’ मुर्गा अब अपने शहर में भी बिकने लगा है. शहर के रेती चौक मदीना मस्जिद के पास फैमिली चिकन शॉप में ‘कड़कनाथ’ ₹1200 में बिक रहा है.

दुकान के मालिक ज़ियाउल्लाह उर्फ मुन्नू ने बताया कि मध्य प्रदेश से ‘कड़कनाथ’ मुर्गा मंगाया गया है. पहली बार तीस मुर्गे का आर्डर दिया गया है. मुर्गे दुकान पर उपलब्ध हैं. ‘कड़कनाथ’ की कीमत ₹1200 है. एक मुर्गे में करीब डेढ़ किलो गोश्त निकलेगा. ‘कड़कनाथ’ को ‘कालीमासी’ भी कहते हैं.

ये भी पढ़े :  परीक्षा तिथि को आगे बढ़ाने के लिए अखिल भारतीय विद्यार्थी परिषद ने सौपा गोरखपुर विश्वविद्यालय के कुलपति को ज्ञापन....

उन्होंने बताया कि इसका गोश्त, चोंच, कलंगी, जुबान, टांगे, नाखून चमड़ी सभी काले होते है. इसमें प्रोटीन प्रचुर मात्रा में होता है. वहीं वसा बहुत कम होता है. यही वजह है कि इसे औषधीय गुणों वाला मुर्गा माना जाता है. बीमार और ऐसे लोग जिन्हें डॉक्टर ने फैटी मांस खाने से मना किया है, वे इसे खा सकते हैं. इसके गोश्त में फैट नहीं होता है. ये प्रोटीन और आयरन से भरपूर होता है.

ये भी पढ़े :  एसएसपी ने किया फेरबदल,दो नए थानों पर हुई प्रभारी की तैनाती..

ज़ियाउल्लाह ने बताया कि जैसे-जैसे मांग बढ़ेगी, उस हिसाब से ऑर्डर मंगवाया जाएगा. ‘कड़कनाथ’ की मांग सर्दियों के दिनों में देश ही नहीं, विदेशों में भी होती है. हमेशा याद रहने वाले लजीज स्वाद आदि के लिए पहचाने जाने वाले कड़कनाथ प्रजाति के मुर्गों की मांग काफी बढ़ गई है. वे कहते हैं कि देखते हैं गोरखपुर में इसकी कितनी डिमांड होती है.

उन्होंने बताया कि कड़कनाथ मुर्गे की प्रजाति के तीन रूप होते हैं. पहला जेड ब्लैक होता है. इसके पंख पूरी तरह से काले होते हैं. इस मुर्गे का आकार पेंसिल की तरह होता है. इस शेड में कड़कनाथ के पंख पर नजर आते है. गोल्डन कड़कनाथ मुर्गे के पंख पर गोल्डन छींटे दिखाई देती हैं. उन्होंने बताया कि उनके यहां ‘बटेर’ भी तीन रंग में बिक रही है. एक बटेर की कीमत ₹70 है. इसे बरेली से मंगवाया जा रहा है.

‘कड़कनाथ’ मुर्गे की तासीर गर्म होती है. इसे ऐसी ग्रेवी के साथ पकाया जाता है, जिसकी तासीर ठंडी हो. इसमें मुर्गे को पहले उबाला जाता है और ग्रेवी को अलग से बनाया जाता है. इसमें घी, हींग जीरा मेथी, अजवाइन के साथ ही धनिया पाउडर डाला जाता है. इसके बाद दोनों को मिलाकर मुर्गे को पकाया जाता है. यह पकने में आम मुर्गे ज्यादा वक्त लेता है. हालांकि इसका मांस काफी नर्म होता है. अच्छी तरह पकने के बाद इसका मांस आसानी से खाया जा सकता है.

ये भी पढ़े :  मुख्यमंत्री के शहर में चल रहा नगर निगम के ठेकेदारों द्वारा अवैध वसूली का कारनामा,अधिकारी-ठेकेदार मस्त व्यवसायी त्रस्त….
ये भी पढ़े :  गोरखपुर कलेक्ट्रेट में प्रवेश करने से पहले पढ़ लें ये खबर, डीएम ने बदल दिया है नियम

‘कड़कनाथ’ मुर्गे को रोस्टेड तरीके से भी बनाया जा सकता है. इस विधि में चिकन पीसेस को गर्म मसालों में मिलाकर एक नर्म कपड़े से लपेटा जाता है. इसे आटे से अच्छी तरह से लपेटकर कवर किया जाता है. इसके बाद इसे आंच या अंगारों पर रखकर भूना जाता है. 15-20 मिनट तक भूनने के बाद आटे और कपड़े की परत हटाकर खाया जाता है. पकने के बाद ये खूब स्वादिष्ट लगता है.

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

BJP ने खेला बड़ा दांव, पूर्व सीएम की बहू साधना सिंह को दिया टिकट

बीजेपी ने गोरखपुर के जिला पंचायत अध्यक्ष के प्रत्याशी के लिए मौजूदा विधायक फतेह बहादुर सिंह की पत्नी साधना सिंह को अपना उम्मीदवार...

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...
%d bloggers like this: