Friday, June 25, 2021

गोरखपुर के रेस्टोरेंट संचालकों की पीड़ा:साहब!!हमारा व्यापार बर्बाद हो रहा,एक पैसे की कमाई नही,पूंजी तोड़ देना पड़ रहा वेतन-बिल व किराया….

यूपी में सरकार बनने पर 5 साल में बनेंगे 5 मुख्यमंत्री, 1 साल में बनेंगे 4 डिप्टी सीएम, बड़ा ऐलान

लखनऊ. हमेशा अपने बयानों से चर्चा में बने रहने वाले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा SBSP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने...

यूपी- मुख्य सचिव ने की गोरखपुर के विकास कार्यों की समीक्षा बैठक

लखनऊ: मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने गोरखपुर के विकास कार्यों की परियोजनावार गहन समीक्षा की है. उन्होंने 10 करोड़ रुपये से...

BJP ने खेला बड़ा दांव, पूर्व सीएम की बहू साधना सिंह को दिया टिकट

बीजेपी ने गोरखपुर के जिला पंचायत अध्यक्ष के प्रत्याशी के लिए मौजूदा विधायक फतेह बहादुर सिंह की पत्नी साधना सिंह को अपना उम्मीदवार...

भोजपुरी एक्टर खेसारीलाल यादव ने की अखिलेश यादव से मुलाकात, फोटो ट्वीट कर लिखी ये बड़ी बात

खेसारीलाल कई मौकों पर बीजेपी का विरोध कर चुके हैं. फिर चाहे वह किसान आंदोलन हो या अन्य मुद्दे. उन्होंने खुलकर केंद्र...

महाराजगंज में दो मासूम बच्‍चों की गड्ढे में डूबने से मौत, खेलने के दौरान हुआ हादसा

Maharajganj: महाराजगंज जनपद के बृजमनगंज नगर पंचायत क्षेत्र सहजनवां बाबू रोड पर मंगलवार को एक गड्ढे में डूबने से दो बच्चों मौत...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

कोरोना महामारी के चलते पूरा भारत 42 दिन से लॉकडाउन है।।आवश्यक सेवाएं छोड़ दे तो सभी तरह के व्यापार बन्द है ।।इन सब के बीच होटल व रेस्टोरेन्ट व्यापारीयो पर दोहरी मार पड़ रही।।एक तरफ उनका व्यापार रसातल में चला गया है दूसरी तरफ अपने कारीगरों को वेतन देना पड़ रहा साथ ही किराया और बिजली बिल भी।। अमूमन एक रेस्टोरेंट में 15 से 20 या उससे अधिक कर्मचारी काम करते जिनका वेतन लगभग डेढ़ लाख तक बनता है।।मार्च से ही धंधा पूर्ण रूप से बन्द है।। अभी तक लगभग हर रेस्टोरेन्ट चालक 2-4 लाख तक तो घर से दे चुके है।।कुछ की तो पूंजी भी टूटने लगी है।। इन सब के बीच प्रशासन भी उनके ऊपर दोहरी मार गिरा रहा।।उन्हें ना पास दे रहा ना होम डिलवरी करने दे रहा।।आम दिनों में रमजान के महीने में होम डिलवरी की बम्पर मांग रहती थी पर प्रशासन के मार से होम डिलवरी सिस्टम भी नही चल पा रहा ।।इस संदर्भ में गोरखपुर टाइम्स ने 4 रेस्टोरेन्ट संचालको से बात की तो उन्होंने अपना दर्द बयां किया।।

ये भी पढ़े :  इंटरनेट पर तेजी से हो रही वायरल, जिसे देखकर आप भी हो जायेगे आश्चर्य चकित

रँगरेजा रेस्टोरेंट की संचालक सुप्रिया द्विवेदी ने बताया जब से लॉक डाउन हुआ है तब से हमारा व्यापार ठप्प है एक पैसे की आमदनी नही है।। हमारे वहां लगभग 30 स्टाफ काम करते है इनको वेतन हमें अपने घर से देना पड़ रहा है।। दूसरी ओर बिजली का बिल और रेस्टोरेन्ट का किराया मिला दे तो लगभग 3 लाख से ऊपर हमे देना पड़ रहा।। जमा पूंजी टूट रही है।।सरकार को हमारे लिए राहत पैकेज देना चाहिए।।

ये भी पढ़े :  जीवन मे आध्यात्म की जरूरत

येल्लो चिल्ली रेस्टोरेंट के संचालक गौरव जसवल ने कहा हमारी हालत तो बहुत खराब है।। मार्च से ही व्यापार पूर्ण रूप से ठप्प है कमाई एक आने की नही है।।किराया भाड़ा बिजली का बिल लेकर लाखो लग जाते है।। डेढ़ से दो लाख रुपये कारीगरों व कर्मचारियों के वेतन में चले जाते है।।हमारी तो पूजी टूट रही।। सरकार हमे भी राहत दे नही तो व्यापार बन्द करना पड़ सकता है।। साथ ही उन्होंने कहा जो कर्मचारी बाहर के है उन्हें खाने रहने की व्यवस्था करनी पड़ रही है।।पास के लिए अप्लाई किया तो रिजेक्ट हो गया।।

गोरखनाथ में संचालित रेस्टोरेन्ट के संचालक वैभव ने बताया हमने 40 लाख रुपये लगा व्यापार शुरू किया।। करीब दो साल से व्यापार घाटे में था अब जाकर कुछ फायदे में आया था।। इस लॉकडाउन में उससे भी बुरा हाल कर दिया।। उन्होंने बताया वो चार बार ऑनलाइन पास का आवेदन कर चुके है और चारो बार उनका आवेदन रद्द कर दिया गया।। उन्होंने कहा हमे जेब से 1 लाख रुपये कारीगरों को सेलरी देनी पड़ रही चुकी कारीगर बाहरी है तो उनके रहने खाने की व्यवस्था में भी 20 हजार और खर्च हो रहे कमाई जीरो है । उन्होंने कहा सरकार हमारे बिलो को माफ करे साथ ही ऑनलाइन व्यापार करने की अनुमति दे उसके साथ ही पास की व्यवस्था दे ।

ये भी पढ़े :  गोरखपुर में सिर्फ 6 घंटे में ध्वस्त कर दिए गए 50 से अधिक पक्के निर्माण...

क्लास बंक रेस्टोरेंट के संचालक राहुल ने बताया कि हमारा व्यापार मार्च से ही कम होने लगा था और 22 तारीख के बाद से पूर्ण रूप से ठप्प हो गया।। लाखो रुपये घर से जा रहा।।कारीगर मज़दूर वेटर को वेतन दे रहे।। सरकार को हमे भी छूट देनी चाहिए नही तो व्यापार टूट जाएगा।।सरकार बिजली बिल,किराया और पिछले दो माह का जीएसटी माफ कर हमें कुछ राहत दे सकती है।।

ये भी पढ़े :  जीवन मे आध्यात्म की जरूरत

अगर रेस्टोरेंट संचालकों के दर्द को शासन व प्रशासन नही समझता है और उन्हें ढील या राहत नही मिलती है तो कई रेस्टोरेंट बन्द होने के कागार पर आ जाएंगे।। गोरखपुर में रेस्टोरेन्ट वाले लगभग 5000 से ऊपर को रोजगार दे रखे है।। अगर व्यापार टूटा तो भारी बेरोजगारी आ जायेगी।।इसलिए शासन-प्रशासन को इनकी पीड़ा को संज्ञान में ले उचित राहत प्रदान करनी चाहिए।।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

BJP ने खेला बड़ा दांव, पूर्व सीएम की बहू साधना सिंह को दिया टिकट

बीजेपी ने गोरखपुर के जिला पंचायत अध्यक्ष के प्रत्याशी के लिए मौजूदा विधायक फतेह बहादुर सिंह की पत्नी साधना सिंह को अपना उम्मीदवार...

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...
%d bloggers like this: