Friday, June 25, 2021

गोरखपुर चिडिय़ाघर, कड़ा प्रशिक्षण, मनोवैज्ञानिक स्थिति जांचने के बाद दर्शकों के सामने आएंगे जानवर…..

यूपी में सरकार बनने पर 5 साल में बनेंगे 5 मुख्यमंत्री, 1 साल में बनेंगे 4 डिप्टी सीएम, बड़ा ऐलान

लखनऊ. हमेशा अपने बयानों से चर्चा में बने रहने वाले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा SBSP) के राष्ट्रीय अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने...

यूपी- मुख्य सचिव ने की गोरखपुर के विकास कार्यों की समीक्षा बैठक

लखनऊ: मुख्य सचिव राजेन्द्र कुमार तिवारी ने गोरखपुर के विकास कार्यों की परियोजनावार गहन समीक्षा की है. उन्होंने 10 करोड़ रुपये से...

BJP ने खेला बड़ा दांव, पूर्व सीएम की बहू साधना सिंह को दिया टिकट

बीजेपी ने गोरखपुर के जिला पंचायत अध्यक्ष के प्रत्याशी के लिए मौजूदा विधायक फतेह बहादुर सिंह की पत्नी साधना सिंह को अपना उम्मीदवार...

भोजपुरी एक्टर खेसारीलाल यादव ने की अखिलेश यादव से मुलाकात, फोटो ट्वीट कर लिखी ये बड़ी बात

खेसारीलाल कई मौकों पर बीजेपी का विरोध कर चुके हैं. फिर चाहे वह किसान आंदोलन हो या अन्य मुद्दे. उन्होंने खुलकर केंद्र...

महाराजगंज में दो मासूम बच्‍चों की गड्ढे में डूबने से मौत, खेलने के दौरान हुआ हादसा

Maharajganj: महाराजगंज जनपद के बृजमनगंज नगर पंचायत क्षेत्र सहजनवां बाबू रोड पर मंगलवार को एक गड्ढे में डूबने से दो बच्चों मौत...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

शहीद अशफाकउल्ला खां प्राणि उद्यान (Gorakhpur Zoo) में आने वाले जानवरों को दर्शकों के सामने आने से पहले कड़ा प्रशिक्षण दिया जाएगा।

गोरखपुर, डॉ. राकेश राय। शहीद अशफाकउल्ला खां प्राणि उद्यान (Gorakhpur Zoo) में आने वाले जानवर यहां पहुंचने के बाद सीधे दर्शकों के अवलोकनार्थ नहीं लाए जाएंगे। दर्शकों के सामने लाने से पहले उनके मन-मिजाज को समझा जाएगा और फिर स्थानीय माहौल में रहने का उन्हें प्रशिक्षित किया जाएगा। इस दौरान उनकी गहन चिकित्सीय जांच भी की जाएगी। इसे लेकर चिडिय़ाघर प्रशासन ने कार्ययोजना तैयार कर ली है। ट्रेनिंग के लिए चिडिय़ाघर में क्वैरेंटाइन सेंटर तैयार किया जा रहा है। हर जानवरों की प्रशिक्षण अवधि कम से कम 21 दिन की होगी।

जानवरों को लाने की चल रही है तैयारी

चिडिय़ाघर में जानवरों को लाने की तैयारी जोरशोर से चल रही है। हर वह कोशिश की जा रही है कि यहां आने के बाद जानवरों को किसी तरह की दिक्कत न हो। क्वैरेंटाइन सेंटर ऐसी ही दिक्कतों को दूर करने के लिए बनाया जा रहा है। सेंटर में जानवरों की प्रकृति और स्वभाव का अध्ययन किया जाएगा। साथ ही उनके खानपान और चिकित्सीय जरूरत यानी टीका आदि का चार्ट तैयार किया जाएगा। यह सारे कार्य केंद्रीय चिडिय़ाघर प्राधिकरण के मानक के अनुरूप किए जाएंगे। अंत में उन्हें स्थानीय वातावरण के अनुकूल रिहाइश के लिए प्रशिक्षित किया जाएगा।

ये भी पढ़े :  जानिए कैसा होगा आज आप दिन....
ये भी पढ़े :  गोरखपुर के व्यापारियों ने नरेंद्र मोदी को दोबारा प्रधानमंत्री बनाने के लिए बिल पर 'नमो अगेन' छपवाया...

मनोवैज्ञानिक स्थिति का होगा आकलन

प्रशिक्षण के दौरान जानवरों की मनोवैज्ञानिक स्थिति के आकलन के लिए सीसीटीवी कैमरे का इस्तेमाल किया जाएगा। कैमरे में रिकार्ड की गई जानवरों की गतिविधियों का अध्ययन कर उनके लिए उपयुक्त माहौल बनाया जाएगा। हालांकि सभी जानवर किसी न किसी चिडिय़ाघर से ही लाए जा रहे हैं, बावजूद इसके दर्शकों से प्रभावित न होने के लिए भी उन्हें स्थानीय माहौल के अनुरूप प्रशिक्षित किया जाएगा। इसके लिए बाकायदा दो दर्जन जू-कीपर्स की तैनाती की तैयारी की जा रही है। 15 जू-कीपर्स की लखनऊ और कानपुर चिडिय़ाघर में इसे लेकर ट्रेनिंग भी शुरू हो चुकी है। जू-कीपर अपनी जिम्मेदारी का निर्वहन ठीक से कर रहे हैं या नहीं, इसकी त्रिस्तरीय मॉनीटरिंग की जाएगी।

चिडिय़ा घर में बनाए जा रहे पांच क्वैरेंटाइनन सेंटर

जानवरों की प्रकृति के मुताबिक चिडिय़ाघर में फिलहाल पांच क्वैरेंटाइन सेंटर बनाए जा रहे हैं। बब्बर शेर, बाघ और तेंदुआ के लिए विशेष तौर से सेंटर तैयार किया जा रहा है। इसके अलावा हिरन प्रजाति, छोटे जानवरों, सियार-लोमड़ी और पक्षियों के लिए अलग से सेंटर बनाया जा रहा है।

प्रशिक्षित किए जाएंगे सेंटर के पशु चिकित्सक

ये भी पढ़े :  गोरखपुर:कच्चीबाग के महाराज को लगा महाछप्पन भोग का प्रसाद.....

क्वैरेंटाइन सेंटर में सर्वाधिक महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले पशु चिकित्सक को प्रदेश के लखनऊ, कानपुर और इटावा लायन सफारी में प्रशिक्षित किया जा सकेगा। जिससे कि वह चिडिय़ाघर में रहने वाले जानवरों की चिकित्सीय जरूरतों को जान और समझ सकें। साथ ही विषम परिस्थितियों में उन्हें नियंत्रित करने का गुर भी सीख सकें। बीते दिनों एक पशु चिकित्सक की तैनाती चिडिय़ाघर के लिए की गई।

निरीक्षण के बाद बाड़े में डाले जाएंगे जानवर

क्वैरेंटाइन सेंटर से जानवरों को चिडिय़ाघर के बाड़े में तब डाला जाएगा, जब केंद्रीय चिडिय़ाघर प्राधिकरण (सीजेडए) की टीम निरीक्षण करके अपनी सकारात्मक रिपोर्ट देगी। टीम अगर कोई कमी बताती है कि सेंटर में जानवरों के रहने की अवधि बढ़ा दी जाएगी और कमियों को दुरुस्त किया जाएगा।

ये भी पढ़े :  हटाए गए पादरी बाजार चौकी इंचार्ज,एसएसपी डॉ सुनील गुप्ता ने किया 8 उप निरीक्षकों का तबादला....

जानवरों की हर तरह से दुरुस्तगी तय होने के बाद ही उन्हें दर्शकों के अवलोकनार्थ बाड़े में डाला जाए, इसके लिए ही क्वैंरेंटाइन सेंटर तैयार किया जा रहा है। निर्माण कार्य पूरा होने के बाद जब कार्यदायी संस्था इसे चिडिय़ाघर को सौंप देगी तो जानवरों को गोरखपुर लाने की प्रक्रिया शुरू हो जाएगी। – संजय कुमार मल्ल, सहायक वन संरक्षक, शहीद अशफाकउल्लाह खां प्राणि उद्यान, गोरखपुर। 

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

BJP ने खेला बड़ा दांव, पूर्व सीएम की बहू साधना सिंह को दिया टिकट

बीजेपी ने गोरखपुर के जिला पंचायत अध्यक्ष के प्रत्याशी के लिए मौजूदा विधायक फतेह बहादुर सिंह की पत्नी साधना सिंह को अपना उम्मीदवार...

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...
%d bloggers like this: