Wednesday, August 4, 2021

गोरखपुर में कूड़ा फेंकने की जमीन पर कर दी प्‍लाटिंग ….

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

प्राइवेट कालोनाइजर्स की मनमानी और जीडीए की अनदेखी से सैकड़ों लोगों की जिंदगी भर की कमाई लुट रही है। ताजा मामला पिपराइच रोड पर करीब 21 एकड़ में विकसित एक प्राइवेट कालोनाइजर्स द्वारा धोखे में रखकर आवासीय जमीन बेचने का है। कालोनाइजर्स ने महायोजना में कूड़ा फेंकने के लिए आरक्षित जमीन को आवासीय बता कर दर्जनों लोगों को बेच दिया है। जीडीए ने कालोनाइजर्स के साथ बिना मानचित्र के मकान बनाने वाले दर्जन भर लोगों को नोटिस भेजा है।

कालोनाइजर्स ने वर्ष 2015 में पिपराइच रोड पर करीब 21 एकड़ में आवासीय योजना विकसित किया था। जीडीए की तरफ से कोरमपूर्ति में कालोनाइजर्स के प्रोपराइटर को नोटिस भी भेजा गया। लेकिन न तो जीडीए ने कड़ाई की और न ही जमीन बेचने का काम ही ठप हुआ। इसके बाद 7 सितम्बर 2017 को आवासीय योजना में निर्मित दर्जन भर आवास के ध्वस्तीकरण को लेकर नोटिस भेजा गया। तबसे इस मामले में सुनवाई जीडीए में चल रही है। जीडीए के बार फिर धारा 27 के तहत कालोनाइजर्स को नोटिस भेजने की तैयारी में है।

ये भी पढ़े :  यूपी में गौ हत्या पर इस कानून के तहत अब मिलेगी सजा कानून हुआ पास

महायोजना में भू-प्रयोग कूड़ा फेंकने का स्थान

जिस जमीन पर आवासीय कालोनी विकसित की गई है, उसका भू-प्रयोग जीडीए की महायोजना 2021 में कूड़ा फेंकने का स्थान और खुला स्थान दर्ज है। अराजी संख्या 866, 867, 868, 871 का भू-प्रयोग महायोजना में कूड़ा निस्तारण की जमीन के रूप में दर्ज है। वहीं आराजी संख्या 875 कूड़ा और खुला स्थान तथा अराजी संख्या 951 चक रोड के रूप में दर्ज है।

ये भी पढ़े :  गोरखपुर में भारत बंद को लेकर पुलिस अलर्ट,सपा नेता ज़ियाउल इस्लाम को लिया हिरासत में

लैंडयूज की अनदेखी कर बेच रहे जमीन

प्राधिकरण क्षेत्र में बिना ले-आऊट के कालोनियां विकसित नहीं हो सकती हैं, इसके बाद भी शहर में खेती की जमीन पर दर्जनों कालोनियां जीडीए की अनदेखी के चलते विकसित हो रही हैं। शहर की तरफ आने वाली कोई सड़क नहीं है जिनपर अवैध तरीके से प्लाटिंग न हो रहा हो, कालोनियां न विकसित हो रही हों।

जीडीए वर्तमान में आवास के लिए भू-खंड देने की स्थिति में नहीं है। गुजरात माडल में पीपीपी के तहत किसानों से एग्रीमेंट कर भू-खंड मुहैया कराने की जीडीए की कवायद फेल हो चुकी है। पादरी बाजार से पिपराइच तक करीब आधा दर्जन कालोनियां बिना ले-आउट स्वीकृति के विकसित हो रही हैं। कसया रोड पर सुकरौली तक खेती की जमीन पर कालोनियां विकसित हो रही हैं। वाराणसी रोड पर महावीर छपरा तक जगह-जगह कालोनाइजर्स के बोर्ड नजर आ रहे हैं। देवरिया रोड पर मोतीराम अड्डा से आगे तक तो लखनऊ रोड पर सहजनवा तक प्लाटिंग हो रही है। देवरिया बाईपास पर सिक्टौर के दस किमी दायरे में प्लाटिंग हो रही है।

ये भी पढ़े :  खपरैल के मकान में रहने वाले मानीराम के पूर्व विधायक के घर पहुँचे DM गोरखपुर, दिया मदद का आश्वासन.....

जमीन खरीदने से पहले सर्तक रहें-

-आवास बनवाने के लिए शहर में जमीन खरीदने से पहले जीडीए से लैंडयूज जरूर जान लें।

-जीडीए से स्वीकृत आवासीय योजना में जमीन खरीदें।

-स्वीकृत आवासीय योजना में मानचित्र आसानी से स्वीकृत होगा और फीस भी कम लगेगी।

-जमीन का खसरा-खतौनी जरूर देख लें।

-जमीन खरीदने से पहले बाउंड्री करा लें, ताकि हर विवाद सामने आ जाएं।

ये भी पढ़े :  कभी भाजपा ने बनाया था राधामोहन को विधायकों का सचेतक आज उन्ही को मिला अनुशासन हीनता के लिए कारण बताओ नोटिस……

कालोनाइजर्स द्वारा ऐसी जमीनों पर योजना विकसित की जा रही है। कालोनाइजर्य को आवासीय योजना का ले-आउट एप्रूव कराना चाहिए। जमीन खरीदने से पहले लोग इस बात को सुनिश्चित कर लें कि भू-प्रयोग आवासीय है या नहीं। कालोनाइजर्स को नोटिस भेजी गई थी, एक बार फिर नये सिरे से नोटिस भेजी जा रही है। जिन्होंने लैंडयूज के विपरीत मकान निर्मित करा लिया है, उन्हें भी नोटिस भेजी गई है। जहां भी आवासीय लैंडयूज में विपरीत प्लाटिंग हो रही है, उनके खिलाफ कार्रवाई होगी।

राम सिंह गौतम, सचिव, जीडीए

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...
%d bloggers like this: