Sunday, June 16, 2019
Social Media

गोरखपुर में युवक की चाकू घोंपकर हत्या, विरोध में गोरखपुर-वाराणसी हाईवे जाम…

गोरखपुर में कुछ लोगों ने गांव के ही शशिकांत को राड से पीटकर घायल करने के बाद चाकू घोंपकर मौत के घाट उतार दिया। विरोध में लोगों ने गोरखपुर-वाराणसी हाईवे को जाम कर दिया है।

गोरखपुर के बड़हलगंज क्षेत्र के बैदौली खुर्द में सोमवार देर शाम कुछ लोगों ने गांव के ही शशिकांत को राड से पीटकर घायल करने के बाद चाकू घोंपकर मौत के घाट उतार दिया। हमले में उनके भाई जीतेंद्र गौड़ घायल हो गए। घटना की वजह रास्ते का पुराना विवाद बताया जा रहा है। हमलावरों के दूसरे समुदाय का होने की वजह से एहतियात के तौर पर गांव में पुलिस तैनात कर दी गई है। हत्‍या के विरोध में लोगों ने मंगलवार को गोरखपुर-वाराणसी हाईवे जाम कर दिया है।

बैदौली खुर्द निवासी नंदलाल के पुत्र शशिकांत और उनके भाई जीतेंद्र गांव के बाहर अपने बाग में गए थे। इसी बीच तेज हवा चलने लगी। इससे पेड़ से टूटकर गिर रहे आम के फल वे एकत्र कर रहे थे। इसी दौरान राड और लाठी-डंडे से लैस आधा दर्जन लोगों ने उन पर हमला कर दिया। दोनों भाइयों को घायल करने के बाद हमलावरों में से किसी ने शशिकांत के सीने में बाई तरफ चाकू से ताबड़तोड़ दो वार कर दिया।

हमलावरों के चंगुल से किसी तरह निकले जीतेंद्र के शोर मचाने पर गांव के लोग बाग में पहुंचे। हालांकि हमलावर फरार हो चुके थे। शशिकांत को स्थानीय स्वास्थ्य केंद्र ले जाया गया, जहां डाक्टरों ने मृत घोषित कर दिया। पुलिस के मुताबिक नंदलाल के परिवार का गांव के ही मजहर अंसारी के परिवार से वर्ष 2004 से रास्ते का विवाद चलता है। उसी रंजिश में शशिकांत की हत्या हुई है। वे चार भाइयों में सबसे छोटे थे। सबसे बड़े भाई जीतेंद्र, पत्नी और बच्‍चों के साथ गांव में रहते हैं। दो अन्य भाइयों के साथ शशिकांत गुवाहाटी में रहकर कमाते थे। कुछ दिन पहले ही घर आए थे। उनके पिता का पहले ही निधन हो चुका है।

आरोपितों के घर पर पथराव

स्वास्थ्य केंद्र पर डाक्टरों के शशिकांत को मृत घोषित कर देने के बाद आक्रोशित ग्रामीणों का एक समूह हमलावरों के घर पहुंच गया। उग्र लोगों ने उनके घरों पर पथराव शुरू कर दिया। सूचना पर पहुंची पुलिस ने समझा-बुझाकर लोगों को शांत कराया।

शव को पुलिस के हवाले करने से इन्कार

हमलावरों के विरुद्ध तत्काल कार्रवाई की मांग करते हुए परिजनों ने शव को पुलिस के हवाले करने से इन्कार कर दिया। गोला के उपजिलाधिकारी और क्षेत्राधिकारी उन्हें समझाने के प्रयास में जुटे थे लेकिन परिजन आरोपितों की गिरफ्तारी की मांग पर अड़े रहे। देर रात तक पुलिस, शव को कब्जे में नहीं ले पाई थी।

आरोपितों की तलाश में तीन थानों की पुलिस

स्थिति की संवेदनशीलता को देखते हुए आरोपितों की गिरफ्तारी के लिए तीन थानों की पुलिस लगाई गई है। पुलिस अधीक्षक दक्षिणी के निर्देश पर गोला, बड़हलगंज और गगहा थाने से गठित टीम हमलावरों की तलाश में उनके संभावित ठिकानों पर छापेमारी कर रही है, हालांकि समाचार लिखे जाने तक किसी हमलावर की गिरफ्तारी नहीं हो पाई थी। 

गोरखपुर-वाराणसी राजमार्ग जाम

रात डेढ़ बजे ग्रामीणों को समझाबुझाकर पुलिस ने शव को पोस्टमार्टम के लिए भेजा। रात भर गांव में पुलिस तैनात रही। सुबह होते ही गांव के लोग गांव के सामने ही गोरखपुर-वाराणसी राजमार्ग को जाम कर दिया। लोग हत्यारोपित की गिरफ्तारी व तत्काल विवादित रास्ता बनाने की मांग कर रहे हैं। मौके पर उपजिलाधिकारी अरुण कुमार सिंह व क्षेत्राधिकारी सतीश चंद्र शुक्ल सहित बड़हलगंज, गोला व गगहा थाने की पुलिस मौजूद है। गांव में तनाव व्याप्त है़। जाम करने वाले लोग पुलिस प्रशासन के खिलाफ जमकर नारेबाजी कर रहे है

Loading…

Advertisements
%d bloggers like this: