Thursday, August 22, 2019
Gorakhpur

गोरखपुर में होगी एक और पुलिस लाइन, जमीन की तलाश….

पुलिस कर्मियों का नियतन बढ़ रहा है। पुलिस विभाग की जरूरतें भी बढ़ रही हैं। पुलिस की सक्रियता भी दिन प्रतिदिन बढ़ाई जा रही है। अगर सब कुछ ऐसे ही चलता रहा तो एक और पुलिस लाइन की जरूरत पड़ सकती है। पुलिस मुख्यालय इलाहाबाद ने ऐसा महसूस किया है और 100 एकड़ जमीन की जरूरत बता दी है। पुलिस मुख्यालय की इस पहल पर गोरखपुर में अमल हो रहा है। जिला प्रशासन शहर से सटे इलाकों में अब 100 एकड़ जमीन तलाश रहा है।

गोरखपुर जिला मुख्यालय का क्षेत्रफल लगातार बढ़ रहा है। नित्य नए-नए प्रतिष्ठान स्थापित हो रहे हैं। गीडा विस्तार कर रहा है। रामगढ़ ताल परियोजना में भी निर्माण हो रहे हैं। शहर में चौराहे बढ़ रहे हैं और आबादी भी तेजी से बढ़ रही है। उत्तर प्रदेश शासन अब पुलिस कर्मियों का नियतन भी बढ़ा रहा है। जिले में पुलिस लाइन व 26वीं वाहिनी पीएसी कैम्प अब बीच शहर में हो गए हैं। अब गोरखपुर के साथ ही अन्य बड़े शहरों के लिए पुलिस मुख्यालय एक और पुलिस लाइन की जरूरत महसूस करने लगा है।

पुलिस मुख्यालय ने इसे गंभीरता से लिया है और पुलिस-प्रशासन को पत्र लिखा है। पुलिस मुख्यालय ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि जिला मुख्यालय से सटे इलाकों में 100 एकड़ जमीन तलाश कर पुलिस के नाम कराई जाए ताकि भविष्य की जरूरतों को देखते हुई पहले से ही तैयारियां कर ली जा सके। इस मामले में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक ने भी जिलाधिकारी को पत्र लिखा है। अपर जिलाधिकारी वित्त एवं राजस्व ने उप जिलाधिकारियों को 100 एकड़ जमीन तलाश करने की जिम्मेदारी भी सौंप दी है।

इकट्ठा न मिले 100 एकड़ तो 4 स्थानों पर देखें

पुलिस मुख्यालय ने पुलिस और प्रशासनिक अधिकारियों को थोड़ी सहूलियत भी दी है। कहा है कि यदि 100 एकड़ जमीन इकट्ठी न मिले तो 3 से 4 स्थानों पर तलाश की जाए। पुलिस मुख्यालय का कहना है कि जमीन तलाश करते समय इस बात का ध्यान दें कि वह सड़क से सटे हो।

पीएसी कैम्पिंग साइड बनाने के लिए भी 5 एकड़

आपातकालीन और आकस्मिक ड्यूटी के लिए पीएसी का अकसर देहात इलाकों में भी डिप्लायमेंट होता रहता है। पीएसी वाहिनी भीड़भाड़ वाले इलाके में होने की वजह से आने-जाने में दिक्कत होती है। पीएसी के कैम्पिंग साइड के लिए 5 एकड़ जमीन की जरूरत महसूस की जा रही है। सीओ ट्रैफिक के इस प्रस्ताव को जिलाधिकारी और एसएसपी ने गंभीरता से लिया है और इस पर अमल शुरू हो गया है।

फर्टिलाइजर में खुलेगा एनडीआरएफ कैम्प कार्यालय

जिले में अब एनडीआरएफ की स्थाई यूनिट होगी। इसके लिए प्रशासन स्तर से पहल की जा रही है। एनडीआरएफ कैम्प के लिए 5 एकड़ जमीन तलाशी जा रही थी। चरगांवा में अस्थाई रूप से रह रही यूनिट के लिए फर्टिलाइजर परिसर में 5 एकड़ जमीन देने का प्रस्ताव शासन को भेजा गया है। एडीएम वित्त एवं राजस्व विधान जयसवाल ने इसे लेकर बैठक की जिसमें एनडीआरएफ के अफसर मौजूद रहे।

Advertisements
%d bloggers like this: