Thursday, August 5, 2021

गोरखपुर : लॉकडाउन में कटे हाथ को लेकर बिहार से आया गोरखपुर, डॉक्टरों ने किया चमत्कार

Maharajganj: पत्रकारों के ऊपर हमले और मुकदमे की धमकियां बढ़ गई हैं, इसी तरह का घटना गोरखपुर टाइम्स के एक पत्रकार के साथ हों...

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय कमनाहा (पुरंदरपुर) विकास खण्ड धानी, जनपद महाराजगंज में ऑपरेशन कायाकल्प योजना से हो रहे मरम्मत कार्य को घटिया तरीके...

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

गोरखपुर. डॉक्टरों को धरती का भगवान यूं ही नहीं कहा जाता है. समय-समय पर ये अपना चमत्कार दिखाते हैं. ऐसा ही एक चमत्कार उत्तर प्रदेश (Uttar Pradesh) के गोरखपुर में देखने को मिला है. यहां डॉक्टरों की एक टीम ने युवक के कटे हाथ को जोड़ कर उसे नया जीवन दिया है. डॉक्टरों के कारण ही वो अब बेहतर तरीके से काम कर पा रहा है. दरअसल, 22 अप्रैल को बिहार (Bihar) के बगहा के रहने वाले विजय कुमार के यहां सरसों की पेराई मशीन चल रही थी. तभी खली साफ करते वक्त उनका हाथ वहां पर फंस गया, जिसके कारण हाथ कोहनी के पास से उखड़कर अलग हो गया. स्थानीय डॉक्टरों के सुझाव पर उन्होंने गोरखपुर के प्लास्टिक सर्जन नीरज नथानी से संपर्क किया, जिसके बाद डॉक्टर ने उन्हें कटे हाथ को पन्नी (पॉलीथिन) में रखकर बर्फ के बीच जल्द से जल्द गोरखपुर लाने की सलाह दी.

ये भी पढ़े :  आंधी तूफान से जनपद में कही पेड़ तो कही विद्युत पोल गिरकर हुए छतिग्रस्त

पश्चिमी चंपारण के बगहा के रहने वाले विजय को लॉकडाउन का भी लाभ मिला, सड़कें खाली थी जिसकी वजह से वो चार घंटे के अंदर गोरखपुर पहुंच गये. तब तक डॉक्टर नथानी अपनी पूरी टीम के साथ तैयारी कर उनका इंतजार कर रहे थे. मरीज जैसे ही गोरखपुर पहुंचा उसको सीधे ऑपरेशन थियेटर में ले जाया गया. यहां करीब आठ घंटे तक इनका इलाज चला. खून की थमनियों में धूल के कण चिपके थे. नर्व डैमेज थे इसलिए पहले हाथ को दस सेंटीमीटर काटकर छोटा किया गया और फिर उस हिस्से को जोड़ा गया.

ये भी पढ़े :  गोंडा में पेड़ पर जाकर लटक गई तेज रफ्तार अन‍ियंत्रित कार....

पिस कर कटा था हाथ
गोरखपुर के जिस सावित्री अस्पताल में ये ऑपरेशन हुआ उसके प्रबंधक और ऑर्थो सर्जन डॉक्टर ब्रिजेश जायसवाल का कहना है कि ये बहुत की कठिन ऑपरेशन था, हाथ शार्प नहीं कटा था बल्कि पिस कर कटा था जिसमें नर्व भी डैमेज हो गयी थी. हड्डी को जोड़ने के साथ नर्व को जोड़कर खून का संचार कराना बहुत बड़ी चुनौती थी, जिसमें हमारी टीम सफल रही. मरीज को आईसीयू में रखने के दौरान बहुत सावधानियां बरती गयीं. वहां पर एसी नहीं चलने दिया गया नहीं तो नर्व पर असर पड़ता. दस दिन बाद अब विजय को नॉर्मल वार्ड में शिफ्ट किया गया है.

बेहद रिस्की था ऑपरेशन

फिजीशियन डॉक्टर मनीष तिवारी का कहना है कि इस ऑपरेशन में जितना रिस्क भरा प्री-ऑपरेशन था उतना ही रिस्क पोस्ट ऑपरेशन के समय भी था. हाथ जोड़ देने के बाद अगले 48 घंटे बहुत ही क्रिटकल होते हैं. इस दौरान मरीज पर लगातार नजर बनाये रखना होता है. मरीज के परिजनों की सक्रियता और लॉकडाउन के कारण लगे कम समय के कारण भी यह ऑपरेशन सफल रहा. मरीज के जिस हाथ को जोड़ा गया उसमें रक्त संचार शुरू हो गया है. इलाजे के बाद विजय अब पूरी तरह से स्वस्थ्य हैं.

ये भी पढ़े :  सहजनवा तहसील पर डीएम व डीआईजी ने सुनी 153 फरियादियों की समस्याएं 15 का किया तत्काल निस्तारण

इलाज करने वाले डॉक्टरों का दावा
डॉक्टरों का दावा है कि पिछले महीने पंजाब में जिस पुलिस के दारोगा के कटे हाथ का ऑपरेशन चडीगढ़ पीजीआई ने किया था. यह मामला उससे भी जटिल था. हाथ पिस कर कटा था. साथ ही पीजीआई से बेहद कम संसाधन में यह सफल ऑपरेशन हुआ है. डॉक्टरों का कहना है कि अगर किसी भी व्यक्ति के साथ ऐसी दुर्घटना होती है और दो घंटे के अंदर उस कटे हुए हिस्से को बर्फ में लेकर अस्पताल आ जाते हैं तो ऑपरेशन कर शरीर के उस अंग को सफलतापूर्वक जोड़ने के चांस अधिक होते हैं.

ये भी पढ़े :  गोरखपुर के रहने वाले ITBP जवान ने की खुदकुशी ।

gorakhpur-hospital

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...
%d bloggers like this: