Tuesday, June 15, 2021

गोरखपुर-शेर को प्रतिदिन 14 किलो मांस, मगरमच्‍छ को एक किलो मछली; यह है चिडि़याघर के जानवरों का डाइट चार्ट…

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

महराजगंज के नगर पंचायत आनंद नगर में गैस सिलेंडर फटा, छः लोग जख्मी

Maharajganj: महाराजगंज जिले की नगर पंचायत आनंद नगर के धानी ढाला पर जमीर अहमद के मकान में सुबह 6:30 बजे खाना...

69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों का बड़े पैमाने पर अव्हेलना को लेकर आज़ाद समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष ने एसडीएम को सौंपा...

Maharajganj: 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों की बड़े पैमाने पर अवहेलना की गयी है जिसमें OBC वर्ग...

तेज रफ्तार कार से ऑटो की भिड़ंत, घायलों को पहुंचाया गया अस्पताल।

फरेंदा (महराजगंज): जनपद में हर रोज हो रहे सड़क हादसे चिंता का बड़ा सबब बनते जा रहे हैं। फरेंदा कस्बे के उत्तरी...

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

गोरखपुर चिडिय़ाघर में आने वाले जानवरों का डाइट चार्ट चिडि़याघर प्रशासन ने तैयार कर लिया है।

गोरखपुर चिडिय़ाघर के संरचनात्मक निर्माण कार्य को राजकीय निर्माण निगम अंतिम रूप देने में तेजी से जुटा हुआ है। वहीं दूसरी ओर वन विभाग की टीम भी जानवरों को चिडिय़ाघर में लाने की तैयारी में कमर कसी हुई है।

इस क्रम में चिडिय़ाघर प्रशासन ने वहां आने वाले जानवरों का डाइट चार्ट तैयार किया है। उसके मुताबिक चिडिय़ाघर में रहने वाले बब्बर शेरों और बाघों को प्रतिदिन 14 किलोग्राम मांस दिया जाएगा। सप्ताह में एक दिन उन्हें उपवास पर रखा जाएगा। तेंदुआ प्रतिदिन चार किलो मांस खाएगा। गर्मी के दिनों में यह मात्रा 10 और तीन किग्रा हो जाएगी।

तेंदुए को भैंसे का मांस

चिडिय़ाघर के क्षेत्रीय वन अधिकारी सुनील राव ने बताया कि डाइट चार्ट तैयार करने लिए बाकायदा लखनऊ और कानपुर चिडिय़ाघर के डाइट चार्ट का अध्ययन किया गया है। इसके अलावा जहां-जहां से जानवर लाए जाने हैं, वहां का डाइट चार्ट भी मंगाया गया है जिससे जगह बदलने पर जानवरों के खानपान में कोई फर्क न आए। उन्होंने बताया कि बाघ और तेंदुए के लिए भैंसे के मांस का इंतजाम किया जाएगा। दरियाई घोड़े और गैंडे को खाने के लिए हर दिन 80 किलो बरसीम दी जाएगी। इसके अलावा उनके डाइट चार्ट में केला, एनिमल फीड, गन्ना, आलू और सब्जी भी शामिल हैं।

ये भी पढ़े :  राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ शाखाओं के माध्यम से करता है राष्ट्रभक्त नागरिकों का निर्माण:अजित महापात्रा
ये भी पढ़े :  गोरखपुर में यहाँ बन रहा कुतुबमीनार से भी दोगुना ऊंचा यूरिया प्लांट का टॉवर.....

मगरमच्‍छ और घडिय़ाल को जिंदा मछली

मगरमच्‍छ और घडिय़ाल को प्रति दिन एक किलोग्राम जिंदा मछली दी जाएगी। चिडिय़ाघर में 180 जानवरों को लाए जाने के करार की प्रक्रिया पूरी कर ली गई है। तीन बाघ और तीन बब्बर शेरों को लाए जाने पर भी मुहर लग चुकी है। सभी तीन बब्बर शेर (एक नर व दो मादा) जूनागढ़ से लाए जाएंगे, जबकि कानपुर से दो और लखनऊ चिडिय़ाघर से एक बाघ को गोरखपुर चिडिय़ाघर लाया जाना तय हुआ है। कानपुर से चार और लखनऊ से दो तेंदुओं को लाने का करार भी हुआ है।

सापों को मिलेगा 10 दिन में एक जिंदा चूहा या खरगोश

चिडिय़ाघर में रहने वाले सांपों का पेट मेढ़क, खरगोश या चूहे से भरा जाएगा। उन्हें हर 10 दिन में इनमें से कोई एक जानवर जिंदा उपलब्ध कराया जाएगा। अजगर को एक महीने में चार जिंदा खरगोश दिए जाने की व्यवस्था की जाएगी।

भालू को बर्फ जमाकर दिए जाएंगे फल

भालू चूंकि शाकाहारी जानवर होता है, इसलिए उसके डाइट चार्ट में सब्जी, फल, शहद आदि को स्थान दिया गया है। फलों के टुकड़ों को बर्फ में जमाकर उन्हें दिया जाएगा। ऐसा उनके दांतों और नाखूनों को संरक्षित रखने के लिए किए जाने का प्रावधान है।

ये भी पढ़े :  गोरखपुर में जैमर ने जाम किया JIO का नेटवर्क....

जानवर और उनकी डाइट

  • शेर व बाघ : 14 किग्रा मांस (प्रतिदिन)
  • तेंदुआ : चार किग्रा मांस (प्रतिदिन)
  • लकड़बग्गा, लोमड़ी, भेडिय़ा : तीन किग्रा मांस (प्रतिदिन)
  • सियार : एक किग्रा (प्रतिदिन)
  • गैंडा व दरियाई घोड़ा : 80 किग्रा बरसीम, 2.5 किग्रा केला, सवा दो किलो एनिमल फीड, गन्ना- 70 पीस, आलू- दो किग्रा, सब्जी-2 किग्रा (प्रतिदिन)
  • मगरमच्‍छ व घडिय़ाल : एक किग्रा जिंदा मछली (प्रतिदिन)
  • भालू : तीन किग्रा सब्जी, डेढ़ दर्जन केला, तीन किलो फल, 800 ग्राम ब्रेड, आधा लीटर दूध, 100 ग्राम शहद (प्रतिदिन)
  • हिरन : छह किग्रा बरसीम, 10 किलो चारापत्ती, एक किलो एनिमल फीड, एक किग्रा सब्जी (प्रतिदिन)
  • बंदर : आधा किग्रा प्याज, 2 सेब (प्रतिदिन)
ये भी पढ़े :  कुछ ऐसा दिखेगा देवरिया में बनने वाला देवराहा बाबा मेडिकल कालेज...

चिडिय़ाघर में रहने वाले जानवरों को संयमित भोजन दिया जाता है, जिससे उनका स्वास्थ्य दुरुस्त रहे। ऐसे में गोरखपुर चिडिय़ाघर के जानवरों का डाइट चार्ट तैयार करने के लिए कई चिडिय़ाघरों के डाइट चार्ट का अध्ययन किया गया है। जानवरों के आने से पहले डाइट चार्ट के मुताबिक खानपान का इंतजाम सुनिश्चित कर लिया जाएगा। – संजय मल्ल, सहायक वन संरक्षक, अशफाकुल्लाह खां प्राणी उद्यान, गोरखपुर

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...

शहीद नवीन सिंह के परिवार को पवन सिंह ने दिया सहयोग।

जम्मू कश्मीर में शहीद हुए गोरखपुर निवासी...
%d bloggers like this: