Sunday, July 25, 2021

चमत्कार! जिस महिला की हुई कोरोना से मौत, उसने फोन कर कहा- मैं ठीक हूं, मुझे ले जाओ

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

महराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतर्गत SBI कृषि विकास शाखा के सामने से मोटरसाइकिल चोरी

Maharajganj: महाराजगंज जिले के फरेंदा थाने के अंतगर्त मंगलवार को बृजमनगंज रोड पर भारतीय स्टेट बैंक कृषि विकास शाखा के ठीक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

जानलेवा कोरोना वायरस इस समय पूरी दुनिया के लिए एक आफत बना हुआ है। दुनिया की महाशक्ति कहे जाने वाले कई देश आज इस वायरस के सामने घुटने टेकते हुए नजर आ रहे हैं। दुनिया के अलग-अलग देशों में कोरोना वायरस अभी तक 2 लाख से भी ज्यादा लोगों की जान ले चुका है। वहीं, 30 लाख से ज्यादा लोग अभी भी कोरोना वायरस की महामारी की चपेट में हैं। कोरोना वायरस के संकट के बीच कुछ हैरान कर देने वाली घटनाएं भी सामने आ रही हैं। एक चौंका देने वाला मामला उस वक्त सामने आया, जब कोरोना वायरस के कारण एक महिला की मौत हो गई और अंतिम संस्कार के कुछ दिन बाद वही महिला अस्पताल में जिंदा मिली।

क्या है पूरा मामला

मामला इक्वाडोर का है, जहां अल्बा मारुरी नाम की एक 74 वर्षीय महिला को बीते महीने यानी मार्च के आखिर में कोरोना वायरस जैसे लक्षण दिखने के बाद अस्पताल में भर्ती कराया गया। इलाज के दौरान महिला की हालत बिगड़ी तो अस्पताल ने उसे आईसीयू में शिफ्ट कर दिया। इलाज चल ही रहा था कि दो दिन बाद अस्पताल की तरफ से अल्बा की बहन ऑरा मारुरी के पास फोन आया और उन्हें बताया कि अल्बा की मौत हो चुकी है।

ये भी पढ़े :  किसान आंदोलन पर SC में सुनवाई : CJI बोले - केंद्र होल्ड पर रखे कृषि कानून, या हम लगाएंगे रोक

महिला की भतीजी ने की शव की पहचान लेकिन…

अल्बा की मौत की खबर सुनकर उनके परिजन शव लेने अस्पताल पहुंचे। अस्पताल प्रशासन ने कहा कि कोरोना वायरस के संक्रमण से बचने के लिए उन्हें शव से दूरी बनानी होगी और परिवार का कोई एक सदस्य शव को देखकर उनकी पहचान कर सकता है। इसके बाद अल्बा की भतीजी जेमी मोरला ने शव को देखकर अपनी आंटी के तौर पर पहचान की। शव की पहचान होने के बाद अल्बा का अंतिम संस्कार कर दिया गया और उनके परिजन अस्थियां लेकर वापस अपने घर लौट आए

ये भी पढ़े :  मुंबई में सड़क पर चार घंटे तड़पता रहा बुजुर्ग; न एम्बुलेंस आई, न इलाज मिल सका, सड़क पर ही दम तोड़ा

3 हफ्ते बाद खुद अल्बा ने किया घर पर फोन

अल्बा की मौत को तीन हफ्ते बीत चुके थे और परिजन अब अपने रोजमर्रा के काम में व्यस्त हो गए थे कि अचानक एक दिन घर में उसी अस्पताल से एक फोन आया। फोन पर बात की तो परिजनों के पैरों तले से जमीन खिसक कई। दरअसल, फोन करने वाली महिला कोई और नहीं, बल्कि खुद अल्बा थी। अल्बा ने फोन पर बताया कि अब वो पूरी तरह ठीक है और वो लोग उसे लेने अस्पताल आ जाएं। ये सुनकर अल्बा के परिजन हैरानी में पड़ गए, लेकिन जब वो अस्पताल पहुंचे तो उन्हें हकीकत का पता चला।

किसी चमत्कार से कम नहीं अल्बा का जिंदा होना’

दरअसल, अस्पताल प्रशासन की गलती से किसी और महिला के शव को अल्बा का शव बताकर परिजनों को सौंप दिया गया था। शव की पहचान को लेकर जब अल्बा की भतीजी से पूछा गया, तो उन्होंने बताया, ‘मैं काफी डरी हुई थी और करीब डेढ़ मीटर की दूरी से मैंने वो शव देखा था। इतनी दूर से मुझे बालों और स्किन को देखकर लगा कि वो मेरी आंटी का ही शव है।’ वहीं अल्बा की बहन का कहना है कि हम लोगों के लिए ये किसी चमत्कार से कम नहीं है। हम जिसे मरा हुआ मान चुके थे, आज वो हमारे बीच जिंदा है।

ये भी पढ़े :  आतंकी हमले के बाद श्रीलंका का बड़ा कदम, बुर्का-नकाब समेत चेहरा ढकने वाली सभी चीजें बैन....

जिसका अंतिम संस्कार हुआ, वो महिला कौन थी?

इस बारे में अस्पताल प्रशासन का कहना है, ‘तीन हफ्ते तक अल्बा कॉमा में थी और जो शव उनके परिजनों को गलती से सौंपा गया, वो किसी और महिला का था। अल्बा को जब होश आया तो उन्होंने अपने परिजनों से फोन पर बात करने की इच्छा जाहिर की।’ वहीं अल्बा के परिजन अब इस बात को लेकर परेशान हैं कि जिस महिला का उन्होंने अंतिम संस्कार किया और जिसकी अस्थियां घर में रखी हुईं है, वो कौन थी? अल्बा के परिजनों का कहना है कि वो उस महिला का पता लगाने की कोशिश कर रहे हैं ताकि उसके परिजनों को उसकी अस्थियां सौंप सकें।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में जिला पंचायत अध्यक्ष के बाद अब चुने जाएंगे ब्लॉक प्रमुख, 8 को नामांकन, 10 जुलाई को मतदान

ब्लॉक प्रमुख पद के लिए 8 जुलाई को दिन में 11 बजे से शाम 3 बजे तक नामांकन पत्र दाखिल किए जा...

मोदी कैबिनेट में जल्‍द बड़ा फेरबदल, सिंधिया और वरुण गांधी सहित इन चेहरों को मिल सकती है जगह

टाइम्‍स नाउ की खबर के मुताबिक, मोदी कैबिनेट में जल्‍द फेरबदल का ऐलान हो सकता है। इस बार कई युवा चेहरों को...

अब दिल्ली में LG होंगे ‘सरकार’ केंद्र सरकार ने जारी की अधिसूचना, हो सकता है बवाल

दिल्ली में राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन अधिनियम (NCT) 2021 को लागू कर दिया गया है. इस अधिनियम में शहर की चुनी हुई...
%d bloggers like this: