Thursday, January 21, 2021

चार चरणों में होगें यूपी पंचायत चुनाव, 28 जनवरी से 5 फरवरी के बीच कार्यक्रम देने पर विचार, देखे पूरी जानकारी।।

सर्दी से बचने को कमरे में जलाई थी अंगीठी, मौत की नींद सोया पूरा परिवार

बंद कमरे में अंगीठी जलाकर सोना एक परिवार के लिए जानलेवा साबित हुआ है। दिल्ली से सटे...

वकील साहब का चोरी हो गया मोबाइल, पुलिस नहीं दर्ज की एफआईआर, CJM का आदेश, थानेदार के खिलाफ दर्ज हो केस

वकील साहब का चोरी हो गए मोबाइल का एफआईआर दर्ज नहीं करना थानेदार को अब महंगा पड़ जाएगा। सीजेएम के आदेश पर...

जूनियर बालक कबड्डी टीम का चयन 21 को रीजनल स्टेडियम गोरखपुर में

जूनियर बालक कबड्डी टीम का चयन 21को कौड़ीराम, गोरखपुर। उत्तर प्रदेश राज्य जूनियर बालक कबड्डी प्रतियोगिता विक्रम इण्टर...

RPM स्कूल के प्रबंधक अजय शाही ने राममंदिर के लिए दिए 111101 रुपए,कई अन्य ने भी दिया अपना समर्पण…

अयोध्या में बनने वाले भव्य श्रीराममंदिर के निर्माण हेतु चलाए जा रहे श्रीरामजन्मभूमि निधि समर्पण अभियान के तहत आज आर पी एम...

यूपी: शफी ने नसीम को थी अपनी बीवी उधार,अब नसीम ने लौटाने से किया साफ इंकार यह रहा पूरा मामला

आपने लोगों को रूपये पैसे या फिर कोई गाड़ी या चीज़ उधार देते हुए सुना होगा लेकिन...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

उत्तर प्रदेश में होने वाले पंचायत चुनाव को 2022 के विधानसभा चुनाव का लिटमस टेस्ट माना जा रहा है। यूपी में ग्राम प्रधानों का कार्यकाल 25 दिसंबर की रात 12 बजे से खत्म हो रहा है और पंचायत चुनाव को लेकर अभी तक आधिकारिक घोषणा नहीं हुई है लेकिन इसे लेकर तैयारियां तेज हो गई हैं। यूपी को चार हिस्सों में बांटकर चुनाव कराने की तैयारी है। हालांंकि, इसे अभी अंतिम रूप नहीं दिया गया है। मौजूदा ग्राम प्रधानों के कार्यकाल पूरे होने जाने के चलते ग्राम पंचायत के वित्तीय और प्रशासनिक अधिकार सहायक विकास अधिकारी को सौंपे जाएंगे, जिन्हें पंचायत सचिव सहयोग करेंगे। उधर, पंचायती राज विभाग 28 जनवरी से पांच फरवरी के बीच चुनाव के संबध में संभावित कार्यक्रम कराने पर विचार कर रहा है। इसके बाद आयोग पंचायत चुनाव के लिए अधिसूचना जारी करेगा। क्षेत्र पंचायत, जिला पंचायत और ग्राम पंचायत चुनाव एक साथ कराए जाएंगे।

आयोग की मंशा 31 मार्च से पहले हो चुनाव यूपी के कुल 59,163 ग्राम पंचायतों के मौजूदा ग्राम प्रधानों का कार्यकाल 25 दिसंबर शुक्रवार को पूरा हो रहा है। 3 जनवरी, 2021 को जिला पंचायत अध्यक्ष जबकि 17 मार्च को क्षेत्र पंचायत अध्यक्ष का कार्यकाल पूरा हो रहा है। ऐसे में प्रदेश में एक साथ ग्राम प्रधान, ग्राम पंचायत सदस्य, 823 ब्लॉक के क्षेत्र पंचायत सदस्य और 75 जिले पंचायत के सदस्यों के 3200 पदों पर चुनाव कराए जाने हैं। राज्य सरकार की मंशा है कि 31 मार्च से पहले चुनाव कराते हुए पंचायतों का गठन करा लिया जाए। ताकि अप्रैल में होने वाली बोर्ड परीक्षाओं पर इसका असर न पड़े। इसके लिए फरवरी में अधिसूचना जारी की जा सकती है। इसी के साथ नगरीय सीमा के विस्तार से कम हुई ग्राम पंचायतें और क्षेत्र पंचायतों के पुनर्गठन के लिए परिसीमन का काम शुरू कर 15 जनवरी तक इसे पूरा करने की योजना है। जनवरी में ही चुनाव आरक्षण संबंधी कार्य भी पूरा करने की योजना बनाई गई है। आयोग ने 22 जनवरी तक मतदाताओं की सूची हर हाल में तैयार करने को कहा है।

ये भी पढ़े :  बड़े प्रशासनिक उलटफेर की तैयारी में सीएम योगी, बड़ी संख्या में इन IAS अधिकारियों का हो सकता हैं ट्रांसफर, लिस्ट में इनका भी नाम।।
ये भी पढ़े :  असहायों को निरन्तर खाद्य सामग्री देकर समाजसेवी जीत रहे हैं जनता का दिल

74 जिलों की 58656 ग्राम पंचायत भंग उत्तर प्रदेश के एक जिले को छोड़कर बाकी सभी 74 जिलों की 58656 ग्राम पंचायतें रात 12 बजे से भंग हो जाएंगी। सिर्फ गौतमबुद्ध नगर में ग्राम पंचायत का कार्यकाल चलता रहेगा। इसको लेकर आदेश जारी कर दिया गया है। अपर मुख्य सचिव पंचायतीराज मनोज कुमार सिंह ने ग्राम पंचायतों में प्रशासकों की नियुक्ति के लिए जिलाधिकारियों को नामित किया है। एडीओ से निचले स्तर के अधिकारी प्रशासक नहीं बनाए जा सकते। गौतमबुद्ध नगर में ग्राम प्रधानों का कार्यकाल न समाप्त करने का कारण है कि यहां की 88 पंचायतों का कार्यकाल अभी पूरा नहीं हुआ है। यहां मई 2016 में चुनाव हुए थे। यहां की ग्राम पंचायतों का कार्यकाल 14 जून, 2021 को समाप्त हो जाएगा। साथ ही गोंडा जिले की 10 ग्राम पंचायतों का भी कार्यकाल पूरा नहीं हुआ है।

एडीओ पंचायत संभालेंगे ग्राम पंचायत की कमान। ग्राम पंचायतों की कमान सहायक विकास अधिकारी पंचायत के हाथों में होगी। उनके पास ग्राम पंचायतों और उसके ग्राम प्रधानों और समितियों के समस्त अधिकार होंगे। उधर, जिला प्रशासन की ओर से प्रशासक नियुक्त करने की तैयारी की जा चुकी है लेकिन प्रधानों का संगठन शासन के अधिकारियों से मिलकर कार्यकाल बढ़वाने के प्रयास में लगा है। लेकिन पंचायती राज निदेशक की ओर से बुधवार को जारी पत्र में इस बात के साफ संकेत हैं कि कार्यकाल नहीं बढ़ेगा। निदेशक किंजल सिंह की ओर से जारी पत्र में 25 दिसंबर की रात 12 बजे से प्रधानों के वित्तीय अधिकार पर रोक लगाने को कहा गया है। पत्र में कहा गया है कि तय समय के बाद किसी भी तरह का वित्त या 15वें वित्त का धन प्रधानों की ओर से जारी हुआ तो संबंधित सचिव, एडीओ पंचायत व जिला पंचायत राज अधिकारी जिम्मेदार होंगे।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

वकील साहब का चोरी हो गया मोबाइल, पुलिस नहीं दर्ज की एफआईआर, CJM का आदेश, थानेदार के खिलाफ दर्ज हो केस

वकील साहब का चोरी हो गए मोबाइल का एफआईआर दर्ज नहीं करना थानेदार को अब महंगा पड़ जाएगा। सीजेएम के आदेश पर...

यूपी: शफी ने नसीम को थी अपनी बीवी उधार,अब नसीम ने लौटाने से किया साफ इंकार यह रहा पूरा मामला

आपने लोगों को रूपये पैसे या फिर कोई गाड़ी या चीज़ उधार देते हुए सुना होगा लेकिन...

Maharajganj: फरेंदा पुलिस ने हत्या का किया खुलासा।

जनपद महराजगंज के फरेंदा कोतवाली में दिनांक 15 / 16-01-2021 को वादी हंसराज पुत्र स्व 0 सन्तू निवासी ग्राम उदितपुर टोला अलीनगर...
%d bloggers like this: