Thursday, October 21, 2021

चीन के विरुध भारत-अमेरीका के गठजोड़ के खिलाफ रूस भी उतरा मैदान मे

Mrj: अधिकरियो के रहमो-करम पर दबंगों द्वारा चकनाले की जमीन पर बिना मान्यता प्राप्त विद्यालय का किया जा रहा है संचालन, बच्चों का भविष्य...

Maharajganj/Dhani: युवा समाजसेवी अजय कुमार का कहना है कि धानी ब्लाक के अन्तर्गत एक विद्यालय साधु शरण गंगोत्री देवी लेदवा रोड बंगला...

साष्टांग प्रणाम यात्रा पे निकला बांसी से लेहड़ा मंदिर – भक्त रामशब्द लोधी

Maharajganj/ SiddharthNagar: बांसी क्षेत्र के अंतर्गत राम गोहार गाँव से रामशब्द लोधी ने लगातार तेरह वर्षों से नवमी में सष्टांग प्रणाम यात्रा...

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

चीन और भारत के तनाव के बीच , यह खबर चिंता में डालने वाली है क़ी …बाल्टिक सागर में रूस द्वारा परमाणु पनडुब्बी उतार देने से अमेरिका और रूस में तनावपूर्ण स्थिति पैदा हो गई है।
यह खबर वैश्विक स्ट्र्ट्जिक परिदृश्य में बदलाव के संकेत दे रही हैं , जो वर्तमान तनाव पूर्ण स्थिति में भारत के लिए ठीक नहीं लग रही । यहां 1962 के युध्द पूर्व के हालत पर गौर करना जरूरी हैं । चीन से हमारे हार के कई कारक थे . उनमें उसे समय के वैश्विक राजनीतिक परिदृश्य ने बड़ी भूमिका निभाई थी । चीन ने बड़ी ही होशियारी से उस स्थिति का फायदा उठाया . हमारे तत्कलीन राजनेता उसे स्थिति का समय पूर्व आकलन नहीं कर सके . इसका पूरा फायदा चीन ने लिया.

1962 में सोवियत संघ ( रूस ) ने क्यूबा में मिसाइलें तैनात कर दी थी . इसे ‘ क्यूबन मिसाइल ` क्रायसिस के नाम से जानते है । इस संकट के कारण अमेरिका भी तनाव में था। भारत के नेतृत्व को चीन से युध्द के समय दोनों ही देशों से मदद क़ी उम्मीद थी । तत्कालीन सोवियत संघ ने नेहरूजी क़ी मदद क़ी अपील पर क्यूबा संकट का हवाला देते हुए , चीन को अपना वैचारिक भाई बता मदद करने से इनकार कर दिया । तब नेहरूजी ने अमेरिका के राष्ट्रपति जॉन केनडी को दो पत्र लिख कर फाइटर जेट के दो स्कर्ड्न क़ी मांग क़ी थी . उन्हों ने इन्कार तो नहीं किया , लेकिन क्यूबा संकट के कारण देने का निर्णय इतनी देर से हुवा क़ी उसकी उपयोगिता ही खत्म हो गई , हुवा यह था क़ी चीन को जैसे ही यह खबर लगी क़ी अमेरिका भारत को फाइटर जेट दे रहा है , वह पीछे लौट गया ।
भारत को जो खोना था , वह खो चुका था । वर्तमान में पूरी दुनिया में चीन के प्रति जिस तरह का आक्रोश हैं , वह हमारे लिए निश्चित रूप से रणनीतिक दृष्टि से बहुत अच्छा था , किसी जरूरत के व्यक्त अमेरिका और रूस दोंनो से सहयोग क़ी उम्मीद थी . अब दोंनो देश कोरिया संकट क़ी ही तरह आमने सामने है़ … स्थिति चीन के लिए 1962 क़ी तरह होती दिख रही है । अभी तक अंतर राष्टीय परिदृश्य जो भारत के पक्ष में था , वह बदलता दिख रहा है ।

ये भी पढ़े :  गोरखपुर :- आरपीएम के छात्र प्रवीण ने बढ़ाया ज़िले का मान,SDM बनकर करेंगें प्रदेश की सेवा

इसी बीच इक अन्य खबर आयी , जो हमारी चिंता को बढ़ाने वाली है । ट्रंप के साथ अप्रैल 2018- सितंबर 2019तक बतौर राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार काम कर चुके जान वॉल्टन ने इक इंटरव्यू में क़हा क़ी इसकी कोई गारंटी नहीं क़ी भारत चीन सीमा पर तनाव बढ़ता हैं तो राष्ट्रपति ट्रंप चीन के खिलाफ भारत का समर्थन करेगें । उनका यह कथन अमरीका के चरित्र को दर्शाता हैं। वह भारत के साथ अपने व्यापरिक हितों को लेकर हैं. इसका साफ मतलब हैं .युध्द जैसी किसी भी परिस्थति का सामना हमें अपने बलबूते ही करना हैं । इस पूरे परिस्थिति में सकून भरी बात यह हैं क़ी भारत हथियार के मामले 1962 क़ी तुलना में काफी सबल हैं । 1962से ही सबक लेकर वह लगातार वह इस परिस्थिति का सामना करने क़ी कोशिश कर रहा हैं। मोदी सरकार ने इसे नई धार दिया । हथियार के लिए तरसने जैसी बात नहीं हैं . युध्द के दौरान किसी से कुछ मांगने क़ी जरूरत नहीं आने वाली । यह बड़ा सकून हैं । साथ ही यह बात भी स्पष्ट होता जा रहा हैं क़ी युध्द के हालत में , चीन जो अठारह देशों से सीमा विवाद में उलझा हुवा हैं , उसका लाभ हमें , हमारी अपेक्षा के अनुरूप नहीं मिलने वाला ….फिर हमें हमारी देश क़ी सेना , उसकी योग्यता और छमता पर पूरा भरोसा हैं . जीत भारत कई ही होगी आश्वस्त रहें , सच जो हमारे साथ है……. भारत माता क़ी जय

ये भी पढ़े :  गोरखपुर:भव्य राममंदिर निर्माण हेतु श्रीराम जन्मभूमि निधि समर्पण अभियान का हुआ शुभारम्भ....

योगेश श्रीवास्तव ( वरिष्ठ पत्रकार )

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार
ये भी पढ़े :  बाहर से आए लोगो को आइसोलेट करने के लिए जुटे तहसीलदार सदर, गोरखपुर शहर में बनाए गए ये 14 क्वारंटाइन सेंटर.....
गोरखपुर। दिल्ली...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद कमलेश पासवान

दोषियों के खिलाफ होगी कड़ी कार्रवाई: सांसद बांसगांव लोकसभा के सांसद कमलेश पासवान ने कास्त मिश्रौली निवासी भाजपा नेता...
%d bloggers like this: