Thursday, December 9, 2021

चीन से भाग रहीं अमेरिकी-यूरोपियन, जापानी कंपनियां, 300 कंपनी भारत में प्लांट लगाने की तैयारी में…..

PM मोदी ने गोरखपुर समेत पूर्वांचल को दी बड़ी सौगात,लाखों लोग रहे मौजूद

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने गोरखपुर खाद कारखाने का किया लोकार्पण गोरखपुर। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के हाथों फर्टिलाइजर कैंपस में...

गोरखपुर पहुँचे खेल मंत्री ने केशरिया ध्वजारोहण कर CM योगी सहित ग्रहण किया गार्ड ऑफ ऑनर,देखें मनमोहक शोभायात्रा की तश्वीरें

केंद्रीय मंत्री ने शोभायात्रा को सलामी दिया,भब्य संस्थापक सप्ताह शोभायात्रा निकाली गयी गोरखपुर। 89...

PM मोदी के गोरखपुर आगमन को लेकर भाजपा किसान मोर्चा प्रदेश अध्यक्ष कामेश्वर सिंह ने कार्यकर्ताओं के साथ कि बैठक

गोरखपुर। सात अक्टूबर को गोरखपुर के फर्टिलाइजर स्थित खाद कारखाने का उद्घाटन करने आ रहे देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के कार्यक्रम...

गोरखपुर:- प्रधानमंत्री की रैली के लिए भाजपाइयों ने कसी कमर

प्रधानमंत्री की रैली के लिए भाजपाइयों ने कसी कमर पिपरौली 7 दिसंबर को गोरखपुर खाद कारखाना...

संदिग्ध परिस्थिति में मिला एएनएम की शव

घुघली/महराजगंज: जनपद के घुघली थाना क्षेत्र के ग्राम सभा रामपुर बाल्डीहा में एएनएम पद पर कार्यरत खुशबू यादव की संदिग्ध परिस्थितियों बुधवार...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

कोरोना आपदा और इसकी भूमिका में चीन की बदनामी ने उसकी अर्थव्यवस्था की कमर तोड़ दी है। और इसका सीधा फायदा भारत को मिलता दिख रहा है। स्थिति ऐसी बन गई है कि 1000 से अधिक विदेशी कंपनियां चीन छोड़कर भारत आने को तैयार है। Business Today की एक रिपोर्ट की मानें तो करीब 1000 विदेशी कंपनियां ऐसी हैं जिनकी नजरें भारत में उत्‍पादन शुरू करने पर टिकी हैं। इन कंपनियों के बीच ‘एग्जिट चाइना’ मंत्र यानी चीन से निकलने की सोच मजबूत होती जा रही है। निश्चित तौर पर भारत की अर्थव्‍यवस्‍था के लिए यह अच्‍छी खबर है।

1000 विदेशी कंपनियां जहां भारत में उत्‍पादन शुरू करने पर नजरें गड़ा रही हैं तो 300 कंपनियां ऐसी हैं जिन्‍होंने सक्रियता से चीन से निकलने की योजना पर काम शुरू कर दिया है। ये कंपनियां भारत को एक वैकल्पिक मैन्‍युफैक्‍चरिंग हब के तौर पर देखने लगी हैं। कंपनियों ने सरकार के अलग-अलग स्‍तर पर अपनी तरफ से प्रस्‍ताव भेजने शुरू भी कर दिए हैं। कंपनियों की तरफ से केंद्र सरकार के विभागों के अलावा विदेशों में भारतीय उच्‍चायोगों और राज्‍य के औद्योगिक विभागों के पास प्रपोजल भेजे गए हैं।
उत्तर प्रदेश सरकार को भी इस तरह के प्रस्ताव मिले हैं। उत्तर प्रदेश की योगी सरकार ने चीन से पलायन करने वाली कंपनियों को गौतमबुद्ध नगर जनपद में जगह देने के लिए तैयारी शुरू कर दी है। प्रदेश के सूक्ष्म, लघु एवं मध्यम उद्यम तथा निर्यात प्रोत्साहन मंत्री सिद्धार्थ नाथ सिंह और औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने इस बाबत पिछले हफ्ते 15 अप्रैल को एक संयुक्त बैठक की है। जिसमें इन कंपनियों को जमीन देने पर विस्तार से विचार किया गया। उत्तर प्रदेश में आने वाली कंपनियों को सरकार द्वारा इंसेंटिव और कैपिटल सब्सिडी देने पर भी विचार किया जा रहा है। औद्योगिक विकास मंत्री सतीश महाना ने गौतमबुद्ध नगर की तीनों विकास प्राधिकरणों के मुख्य कार्यपालक अधिकारियों और चेयरमैन आलोक टंडन को इस बाबत तैयारियां करने का भी निर्देश दिया है।
कोरोना आपदा की वजह से चीन पसंदीदा मैन्‍युफैक्‍चरिंग हब होने का अपना तमगा खोने की तरफ बढ़ रहा है। हजारों विदेशी कंपनियों की तरफ से भारत में अथॉरिटीज के साथ अलग-अलग स्‍तर पर वार्ता जारी है। जो कंपनियां भारत आने को उत्‍सुक हैं उनमें मोबाइल्‍स, इलेक्‍ट्रॉनिक्‍स, मेडिकल डिवाइसेज, टे‍क्‍सटाइल्‍स और सिंथेटिक फैब्रिक से जुड़ी कंपनियां शामिल हैं। कंपनियां अब भारत को अगली मैन्‍यूफक्‍चरिंग हब के तौर पर देख रही हैं। एक अधिकारी की मानें तो सरकार वर्तमान समय में 300 कंपनियों के साथ वार्ता में व्‍यस्‍त है। इन कंपनियों के साथ इनवेस्‍टमेंट प्रमोशन इकाई, केंद्र सरकार के विभागों के अलावा राज्य सरकारें बातचीत कर रही हैं।

ये भी पढ़े :  उत्तर प्रदेश में ‘सीबीआई का संयुक्त आयुक्त’ गिरफ्तार, कारोबारी के घर में कर रहा था छापामारी...
ये भी पढ़े :  'योगी जी ने खुद ठाकुर होकर भी राजपूतों को ठगा, दलितों का दिया साथ'....

एक बार जब कोरोना वायरस से बिगड़ी स्थिति नियंत्रण में आ जाएगी तो फिर कंपनियों के साथ वार्ता निर्णायक दौर में पहुंचेगी और भारत एक वैकल्पिक जगह के तौर पर सामने आएगा। जापान, अमेरिका और साउथ कोरिया की कंपनियां जो चीन पर निर्भर हैं, अब काफी डरी हुई हैं और भारत आना चाहती हैं। नए मैन्‍यूफैक्‍रर्स को कॉरपोरेट टैक्स बस 17 प्रतिशत ही अदा करना होगा और यह साउथ ईस्‍ट एशिया में सबसे कम है। चीन इस समय अंतरराष्‍ट्रीय समुदाय की नजरों में है। अमेरिका, जर्मनी, फ्रांस और ब्रिटेन उस पर आरोप लगा रहे हैं कि उसने इस महामारी को समय रहते नियंत्रित नहीं किया है। कई देश अपने कॉरपोरेट सेक्‍टर को चीन से यूनिट्स बाहर करने के लिए कह सकती हैं। जापान ने तो अपने यहां के उत्‍पादकों से साफ कर दिया है कि वो चीन से अलग किसी और देश में अब मैन्‍यूफैक्‍चरिंग के विकल्‍प तलाशें। जापान की शिंजो आबे सरकार ने कहा है कि अगर देश की कंपनियां वो चीन के बाहर जापान या फिर किसी और देश में प्रोडक्‍शन यूनिट लगाती हैं तो फिर उन्‍हें 2.2 बिलियन डॉलर के पैकेज से मदद की जाएगी।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

पूर्वांचल में मदद की परिभाषा बदलने का ऐतिहासिक कार्य कर रहे हैं युवा नेता पवन सिंह….

युवा नेता पवन सिंह ने मदद करने की परिभाषा पूरी तरह बदल दी है. उन्होंने मदद का दायरा इतना ज्यादा बढ़ा दिया...

स्वर्णकार समाज ने लोकसभा , विधानसभा में अपने प्रतिनिधित्व के लिए भरी हुँकार,जल्द प्रदेश व्यापी होगी सभा

स्वर्णकार समाज का स्वर लोकसभा एवं विधानसभाओं में मुखरित हो प्रतिनिधित्व सभी पंचायतों में हो इस विचार के साथ स्वर्णकार समाज...

यूपी में कई IPS बदले गए,दिनेश कुमार गोरखपुर के नए एसएसपी.

कई IPS के तबादले हुए जिसमे गोरखपुर के एसएसपी जोगेंद्र कुमार को झाँसी का नया डीआईजी बनाया...
%d bloggers like this: