Thursday, July 29, 2021

जर्मनी के यूनिवर्सिटी में कैंसर पर रिसर्च कर रहा गोरखपुर का युवा…

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

पैंक्रियाज(अग्नाशय) में होने वाले कैंसर के कारणों की तलाश जर्मनी में शुरू हो गई है। जर्मनी के यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर गौंटिंगेन में शुरू हुए इस रिसर्च की जिम्मेदारी गोरखपुरवासी को मिली है।
तारामंडल में रहने वाले डॉ. शिव सिंह को इस रिसर्च की जिम्मेदारी मिली है। पिता व सेवानिवृत्त चिकित्सक डॉ. एके सिंह ने बताया कि डॉ. शिव जर्मनी के यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर गौंटिंगेन में बतौर सीनियर साईंटिस्ट तैनात हैं। जर्मनी में कैंसर पर रिसर्च करने वाले वह पहले प्रदेशवासी हैं। उन्होंने प्रारंभिक पढ़ाई देवरिया के लार से की। महानगर के सेंट एंड्रयूज डिग्री कालेज से बीएससी करने बाद बुंदेलखंड विश्वविद्यालय से बॉयो केमेस्ट्री में परास्नातक किया। आगे की पढ़ाई और शोध के लिए वह अमेरिका चले गए। वहीं से जर्मनी के यूनिवर्सिटी मेडिकल सेंटर गौंटिंगेन में बतौर सीनियर साईंटिस्ट तैनात हुए।

दूसरे चरण का है शोध
पैंक्रियाज का कैंसर जानलेवा बीमारी की श्रेणी में है। जर्मनी में हर साल इस बीमारी के शिकार आठ हजार नए मरीजों की पहचान हो रही है। डॉ. सिंह ने पैंक्रियाज के कैंसर के शोध का पहला चरण पूरा कर लिया है। इसमें उन्होंने ट्यूमर में होने वाले परिवर्तन के कारकों की पहचान की। उनके पहले चरण के शोध को जर्मनी के कैंसर सहायता मैक्स एडर जूनियर रिसर्च ग्रुप ने मान्यता दी। इसी संस्था ने रिसर्च को चार साल तक करीब साढ़े पांच लाख यूरो की आर्थिक मदद देने का फैसला किया है।

ये भी पढ़े :  गोरोखपुर : 49 नए कोरोना केस

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

ब्लॉक प्रमुख बड़हलगंज आशीष राय के जीत की गूंज सात समंदर पार भी…

भाजपा ने ब्लॉक प्रमुख के लिए विधायक विपिन सिंह की पत्नी नीता सिंह,विधायक संत प्रसाद की बहू पर खेला दाँव, देखें गोरखपुर की सूची…

जिला पंचायत अध्यक्ष के चुनाव संपन्न होने के उपरांत त्रिस्तरीय पंचायत को और सुदृढ़ बनाने के लिए भारतीय जनता पार्टी के द्वारा...
%d bloggers like this: