Thursday, June 24, 2021

दांव पर प्रतिष्ठा: रवि किशन को ‘जिला गोरखपुर’ जिताने के लिए एड़ी-चोटी का जोर लगा रहे…योगी आदित्यनाथ

BJP ने खेला बड़ा दांव, पूर्व सीएम की बहू साधना सिंह को दिया टिकट

बीजेपी ने गोरखपुर के जिला पंचायत अध्यक्ष के प्रत्याशी के लिए मौजूदा विधायक फतेह बहादुर सिंह की पत्नी साधना सिंह को अपना उम्मीदवार...

भोजपुरी एक्टर खेसारीलाल यादव ने की अखिलेश यादव से मुलाकात, फोटो ट्वीट कर लिखी ये बड़ी बात

खेसारीलाल कई मौकों पर बीजेपी का विरोध कर चुके हैं. फिर चाहे वह किसान आंदोलन हो या अन्य मुद्दे. उन्होंने खुलकर केंद्र...

महाराजगंज में दो मासूम बच्‍चों की गड्ढे में डूबने से मौत, खेलने के दौरान हुआ हादसा

Maharajganj: महाराजगंज जनपद के बृजमनगंज नगर पंचायत क्षेत्र सहजनवां बाबू रोड पर मंगलवार को एक गड्ढे में डूबने से दो बच्चों मौत...

मोदी कैबिनेट में जल्‍द बड़ा फेरबदल, सिंधिया और वरुण गांधी सहित इन चेहरों को मिल सकती है जगह

टाइम्‍स नाउ की खबर के मुताबिक, मोदी कैबिनेट में जल्‍द फेरबदल का ऐलान हो सकता है। इस बार कई युवा चेहरों को...

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उपचुनाव में गोरखपुर हारने के बाद रवि किशन को जिताने के लिए अपनी ताकत झोंक दी है।

मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उपचुनाव में हार चुकी गोरखपुर सीट पर दोबारा जीत सुनिश्चित करने के लिए अपनी पूरी ताकत झोंक दी है। उन्होंने लगातार पांच बार इस सीट का प्रतिनिधित्व किया है। 19 मई को अंतिम चरण में गोरखपुर के साथ आसपास की पांच और सीटों पर मतदान थे और योगी ने इन सीटों को भी दोबारा हासिल करने के आखिरी दिन तक प्रचार अभियान और सभाओं को संबोधित किया। 

पिछले साल आदित्यनाथ के मुख्यमंत्री बनने के चलते खाली हुई गोरखपुर संसदीय सीट से उपचुनाव में आश्चर्यजनक रूप से बीजेपी को हार का सामना करना पड़ा था। इसके चलते सीएम की प्रतिष्ठा दांव पर लग गई है। पार्टी के सदस्यों का कहना है कि बीजेपी इस सीट के साथ ही आसपास की कुशीनगर, बांसगांव, सलेमपुर और देवरिया सीट पर भी परचम लहराएगी। 

ये भी पढ़े :  पाकिस्तान अपनी करतूतों से बाज नही आ रहा हंदवाड़ा में दूसरी बार सुरक्षा बलों और आतंकियों के बीच मुठभेड़, CRPF के तीन जवान शहीद

गठबंधन ने मुश्किल बनाया चुनाव
हालांकि, एसपी-बीएसपी गठबंधन ने चुनाव को मुश्किल बना दिया है। ऐसा ही इन्होंने उपचुनाव में भी किया था। आदित्यनाथ जानते हैं कि विशेषकर गोरखपुर और आसपास की सीटों पर बीजेपी की हार को उनके मत्थे मढ़ दिया जाएगा। क्षेत्र में खोई प्रतिष्ठा पाने के लिए आदित्यनाथ कैंडिडेट के चयन से लेकर मैनेजमेंट और प्लानिंग तक कैंपेन के हर चरण में शामिल हुए। पहचान जाहिर नहीं करने की शर्त पर बीजेपी के एक नेता ने कहा, ‘वह गोरखनाथ मंदिर परिसर में ठहरते हैं और 2018 का हाल दोबारा न हो इसके लिए छोटे से छोटे स्तर तक जाकर प्रत्येक चीज मैनेज कर रहे हैं।’ 

ये भी पढ़े :  झूठे वादों के शिकार ग्रामीण ।

रवि किशन के लिए मिशन मोड में योगी
2018 के उपचुनाव में कहा गया था कि बीजेपी कैंडिडेट उपेंद्र शुक्ल आदित्यनाथ की पसंद नहीं हैं। हालांकि इस बार आदित्यनाथ ने ही भोजपुरी एक्टर रवि किशन को मैदान में उतारने का निर्णय लिया और उन्हें जिताने के लिए वह मिशन मोड में काम कर रहे थे। उन्होंने हर दिन क्षेत्र में औसतन तीन रैलियों को संबोधित किया और इनमें से भी दो रैलियां गोरखपुर संसदीय क्षेत्र में रहीं। कम समय में अधिक से अधिक जनसभाएं करने के लिए उन्होंने हेलीकॉप्टर का इस्तेमाल किया.

‘विकास और कला का संगम’
उदाहरण के लिए मंगलवार 14 मई को उन्होंने कैंपियरगंज, सहजनवा और गोरखपुर सिटी में 2 जनसभाओं समेत कुल 4 जनसभाएं कीं। इनमें उन्होंने मतदाताओं से रवि किशन को समर्थन देने की अपील की। आदित्यनाथ अपनी जनसभाओं में इस बात पर जोर देते रहे कि यहां से रवि किशन नहीं, बल्कि वह खुद चुनाव लड़ रहे हैं। कैंपियरगंज में आदित्यनाथ ने कहा, ‘जीतने के बाद रवि किशन क्षेत्र के प्रतिभावान युवा कलाकारों को मौका देंगे। यह विकास और कला का संगम होगा।’ 

ये भी पढ़े :  मुख्यमंत्री के शहर में कानून व्यवस्था का हाल बेहाल 24 घंटे के अंदर गोरखपुर में दो बड़ी वारदात आज दिन दहाड़े मां बेटी को मारी गोली....

मैं उनका हनुमान हूं: रवि किशन
अगले दिन बुधवार को वह वाराणसी गए और बीजेपी प्रेजिडेंट अमित शाह के साथ मिलकर शुक्रवार को होने वाली प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की रैलियों के लिए रणनीति तैयार की। इस बीच उन्होंने गुरुवार को गोरखपुर में शाह की रैली की तैयारी भी की। अगले दिन वह रवि किशन के समर्थन में गोरखपुर के गुलरिया में आयोजिन जनसभा में सीधे पहुंचे। रवि किशन ने कहा, ‘आप कहीं भी जाओ, वहां आपको योगी जी और मोदी जी के अच्छे कार्यों के बारे में लोग बातचीत करते मिल जाएंगे। मैं उनका हनुमान हूं और उनके आशीर्वाद से विकास कार्यों को आगे ले जाऊंगा।’ 

ये भी पढ़े :  मुख्यमंत्री के शहर में कानून व्यवस्था का हाल बेहाल 24 घंटे के अंदर गोरखपुर में दो बड़ी वारदात आज दिन दहाड़े मां बेटी को मारी गोली....

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

BJP ने खेला बड़ा दांव, पूर्व सीएम की बहू साधना सिंह को दिया टिकट

बीजेपी ने गोरखपुर के जिला पंचायत अध्यक्ष के प्रत्याशी के लिए मौजूदा विधायक फतेह बहादुर सिंह की पत्नी साधना सिंह को अपना उम्मीदवार...

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...
%d bloggers like this: