Thursday, August 5, 2021

अब 30 सेकेंड में होगा कोरोना टेस्ट:

Maharajganj: पत्रकारों के ऊपर हमले और मुकदमे की धमकियां बढ़ गई हैं, इसी तरह का घटना गोरखपुर टाइम्स के एक पत्रकार के साथ हों...

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय कमनाहा (पुरंदरपुर) विकास खण्ड धानी, जनपद महाराजगंज में ऑपरेशन कायाकल्प योजना से हो रहे मरम्मत कार्य को घटिया तरीके...

गोरखपुर के नवोदित कलाकारो से सजी फ़िल्म ‘ऑक्सीजन ‘के अभिनव प्रयास की खूब हो रही चर्चा

नवोदित कलाकारों को लेकर डॉ. सौरभ पाण्डेय की फ़िल्म 'ऑक्सीजन 'के अभिनव प्रयास ने रचा इतिहास

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण।

बड़हलगंज के बाबा जलेश्वरनाथ मंदिर के पोखरे का 98.5 लाख से होगा सुन्दरीकरण। ...

Maharajganj: प्राथमिक विद्यालय हो रहे मरम्मत कार्य में घटिया तरीके का किया जा रहा है प्रयोग

Maharajganj/Dhani: प्राथमिक विद्यालय हो रहें मरम्मत कार्य में अत्यन्त घटिया किस्म के मसाले व देशी बालू का अधिकता और सिमेन्ट नाम मात्र...

Maharajganj: नालियों के टूट जाने और समय से सफाई न होने से लोग हो रहे परेशान, जांच कर सम्बन्धित कर्मचारियों पर होगी कार्रवाई –...

महाराजगंज/धानी: महाराजगंज जनपद के धानी ब्लाक के अधिकारी भूल चूके हैं अपनी जिम्मेदारी। ग्राम सभा पुरंदरपुर के टोला केवटलिया में नाली टूट...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

coronavirus in india centre to draw plan for states to follow delhi covid19 model

कोरोना वायरस की जांच में और तेजी लाने के लिए भारत और इजराइल भारत और इजराइल साथ मिलकर एक खास तरह की रैपिड टेस्टिंग किट विकसित करने पर काम कर रहे हैं। राम मनोहर लोहिया अस्पताल (आरएमएल) में एक ट्रायल किया जा रहा है, अगर यह ट्रायल सफल रहा है तो महज 30 सेकेंड में कोरोना की रिपोर्ट हासिल की जा सकती है। दरअसल, इजराइल के वैज्ञानिकों द्वारा विकसित 30 सेकंड में कोरोना वायरस यानी कोविड-19 का पता लगाने वाले चार तकनीकों का मूल्यांकन दिल्ली के डॉ. राम मनोहर लोहिया अस्पताल में किया जा रहा है।

इस नई तकनीक के ट्रायल में करीब 10,000 लोगों का दो बार टेस्ट किया जाएगा; एक बार गोल्ड स्टैंडर्ड मॉलिक्युलर आरटी-पीसीआर टेस्ट और फिर चार इजराइली तकनीकों का उपयोग करके ये जांचा जाएगा कि क्या ये नवाचार सही से काम करेंगे। स्वैब सैंपल संग्रह विधि के विपरीत इस टेस्ट में लोगों को एक श्वासनली जैसे उपकरण के सामने झटका देना या बोलना होगा जो टेस्ट के लिए नमूना एकत्र करेगा।

ये भी पढ़े :  बच्चे को दफन कर रहा था बाप, गड्ढे में रखते ही हुआ जिंदा, लेकिन हकीकत कुछ और

शोधकर्ताओं का मानना है कि अगर यह ट्रायल सफल होता है तो न सिर्फ लोगों को महज तीस सेकेंड में कोरोना का रिजल्ट मिल जाएगा, बल्कि ये प्रौद्योगिकियां व्यवसायों के भी सुरक्षित मार्ग प्रशस्त कर सकती हैं और लोग वैक्सीन विकसित होने तक कोरोना वायरस के साथ जीने में सक्षम भी हो सकेंगे। बता दें आरएमएल अस्पताल में इसका ट्रायल शुरू हो चुका है। उम्मीद की जा रही है कि आने वाले कुछ दिनों में इसके नतीजे आ सकते हैं। 

ये भी पढ़े :  यूपी: दूसरे राज्यों से वापस लौट रहे कामगारों को सुरक्षित घर पहुंचाएंगी 10 हजार बसें, योगी सरकार ने बनाई रणनीति 

इजराइल और भारत चार अलग-अलग तरह की तकनीकों के लिए परीक्षण कर रहे हैं, जिसमें लगभग 30 सेकंड में कोविड-19 का पता लगाने की क्षमता है। इसमें एक श्वास विश्लेषक और आवाज परीक्षण (वॉयस टेस्ट) शामिल हैं। एक इजराइली बयान में यह जानकारी दी गई है।  इनमें से दो टेस्ट लार नमूनों की जांच के बाद मिनटों में परिणाम देंगे। तीसरे तरीके में किसी के आवाज से ही बताया जा सकता है कि वह कोरोना संक्रमित है या नहीं। चौथे तरीके में सांस नमूने के रेडियो वेव से संक्रमण का पता लगाया जा सकेगा।

इजराइली विज्ञप्ति के अनुसार, भारत में इजराइली राजदूत रोन माल्का ने शुक्रवार को डा.राम मनोहर लोहिया (आरएमएल) अस्पताल में बनाये गए विशेष परीक्षण स्थल का दौरा किया, जहां उन्होंने पिछले तीन दिन से तीव्र कोविड-19 जांच के लिए किये जा रहे परीक्षणों को देखा।

इजराइल के रक्षा मंत्रालय के रक्षा अनुसंधान और विकास निदेशालय, भारत के रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन, वैज्ञानिक और औद्योगिक अनुसंधान परिषद और प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार, भारत के सहयोग और इजराइल एवं भारत के विदेश मंत्रालयों के समन्वय से संयुक्त रूप से तीव्र जांच विकसित की जा रही है। माल्का के साथ प्रो. के विजयराघवन भी थे, जो प्रधानमंत्री के प्रमुख वैज्ञानिक सलाहकार हैं।

ये भी पढ़े :  सिर्फ 10 रुपये में मिलेगा सबको इलाज, सरकार का बड़ा तोहफा

बयान में कहा गया है, ‘आरएमएल अस्पताल परीक्षण स्थलों में से एक है, जिसने चार अलग-अलग प्रकार की तकनीकों का परीक्षण शुरू किया है, जिसमें कोरोना वायरस का पता लगाने की क्षमता 30 सेकंड से कम है।’ बता दें कि भारत की आबादी के लिहाज से कोरोना टेस्ट भी एक बड़ी समस्या है। अगर यह प्रयोग सफल होता है तो कोरोना की जांच सुलभ हो जाएगी और कोरोना के साथ लोगों का जीना भी आसान हो जाएगा। 

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

Maharajganj: संदिग्ध परिस्थितियों में महिला का गहरे कुएं में मिला शव, जांच में जुटी पुलिस।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद के थाना क्षेत्र बृजमनगंज अंतर्गत ग्रामसभा मिश्रौलिया के खास टोले पर एक कुएं में एक महिला का शव मिलने...

कोरोना मरीज को नहीं लौटाएगा कोई अस्पताल, सरकार उठाएगी पूरा खर्चा: सीएम योगी

उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने रविवार को कोरोना संक्रमितों की मदद के लिए अहम आदेश दिया. उन्होंने सख्त हिदायत देते...

Maharajganj: अवैध रूप से चल रहे हॉस्पिटलो पर हुआ छापामारी, माडर्न अपोलो हॉस्पिटल हुआ सील।

महाराजगंज जिले की फरेंदा कस्बे में अवैध रूप से चल रहे हॉस्पिटलो पर हुआ छापामारी माडर्न अपोलो हॉस्पिटल हुआ सील
%d bloggers like this: