Friday, September 24, 2021

सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म का रिव्यू:जिंदगी के लिए मोहब्बत जगाती है ‘दिल बेचारा’, इसे देखकर दिल कहता है- सुशांत, तुम्हें भी उम्मीद नहीं छोड़ना थी!

Maharajganj: हड़हवा टोल प्लाजा पर भेदभाव हुआ तो होगा आन्दोलन।

फरेन्दा, महराजगंज: फरेन्दा नौगढ़ मार्ग पर स्थित हड़हवा टोल प्लाजा पर प्रबन्धक द्वारा कुछ विशेष लोगो को छोड़ बाकी सबसे टोल टैक्स...

Maharajganj: बृजमनगंज थाना क्षेत्र में चोरों के हौसले बुलंद, लोग पूछ रहे सवाल क्या कर रहे हैं जिम्मेदार

बृजमनगंज, महाराजगंज. थाना क्षेत्र में पुलिस की निष्क्रियता के चलते चोरों के हौसले बुलंद है. जिसके कारण चोरी की घटनाएं बढ़ रही...

गोरखपुर:- बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार

बोरे में भरकर लाश को ठिकाने लगाने ले जा रहे जीजा साले को पुलिस ने किया गिरफ्तार गोरखपुर। दिल्ली...

Maharajganj: औकात में रहना सिखो बेटा नहीं तो तुम्हारे घर में घुस कर मारेंगे-भाजपा आईटी सेल मंडल संयोजक, भद्दी भद्दी गालियां फेसबुक पर वायरल।

Maharajganj: महाराजगंज जनपद में भाजपा द्वारा नियुक्त धानी मंडल संयोजक का फेसबुक पर गाली-गलौज और धमकी वायरल। फेसबुक पर धानी मंडल संयोजक...

खुशखबरी:-सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक को मंजूरी 1320 करोड़ स्वीकृत

गोरखपुर के लिहाज़ से एक बड़ी ख़बर प्राप्त हो रही है जिसमे यह बताया जा रहा है कि सहजनवा दोहरीघाट रेलवे ट्रैक...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

  • अवधि: एक घंटा, 41 मिनट 26 सेकंड
  • स्‍टार: 3.5 तीन स्‍टार
  • क्यों देखें: सुशांत ने अपने काम से यकीनन आखिरी सलाम अपने चाहने वालों तक पहुंचाया है। तेज कदमों से पास आ रही मौत से जूझते मैनी के रूप में सुशांत को अपने आसपास महसूस करने के लिए देखें।

सुशांत सिंह राजपूत की आखिरी फिल्म ‘दिल बेचारा’ का प्रीमियर शुक्रवार शाम 7.30 बजे ओटीटी प्लेटफॉर्म डिज्नी प्लस हॉटस्टार पर हुआ। फैन्स इस फिल्म को लेकर थाेड़े रुआंसे भी हैं और थोड़े खुश भी, इसीलिए इसके रिलीज होने का इंतजार बेसब्री से कर रहे थे। इसे लेकर क्रेज ऐसा है कि ट्विटर पर शाम से ही नंबर 1 पोजिशन पर #DilBecharaDay हैशटेग ट्रेंड कर रहा है।

फिल्म का प्लॉट

‘दिल बेचारा’ हॉलीवुड फिल्‍म ‘दी फॉल्‍ट इन ऑवर स्‍टार्स’ की रीमेक है। यानी ‘हमारे तारों में खरोंच है’। यह सवाल से शुरू होती है और सवाल पर ही खत्‍म कि ‘क्‍या किसी के जाने के बाद खुशी से रहा जा सकता है’? ‘क्‍या अधूरेपन के साथ जीने को मजबूर लोग खुश रह सकते हैं? ‘किसी के जाने के ख़याल को क्‍या स्‍वीकार किया जाए? ‘जिंदगी कुछ लोगों के साथ बहुत बेरहम क्‍यों है?’

दिल छू लेने वाले सुशांत के डायलॉग्स

  • ‘जन्म कब लेना है और कब मरना है ये तो हम डिसाइड नहीं कर सकते, लेकिन कैसे जीना है ये हम डिसाइड करते हैं।’
  • ‘जब कोई मर जाता है उसके साथ जीने की उम्मीद भी मर जाती है, पर मौत नहीं आती।’
  • ‘मैं बहुत बड़े-बड़े सपने देखता हूं पर उन्हें पूरा करने का मन नहीं करता।’
  • ‘प्यार नींद की तरह होता है धीरे-धीरे आता है और फिर आप उसमें खो जाते हैं।’
  • ‘हीरो बनने के लिए पॉपुलर नहीं होना पड़ता, वो रियल लाइफ में भी होते हैं।’
  • ‘मैं एक फाइटर हूं और मैं बहुत बढ़िया तरीके से लड़ा।’
ये भी पढ़े :  मोदी सरकार का बड़ा फैसला, जम्मू-कश्मीर में 2 और गुजरात में 1 एम्स बनाने के प्रस्ताव को दी मंजूरी...
ये भी पढ़े :  BREAKING: आदेश- इस राज्य में 3 जून तक बढ़ाया गया लॉकडाउन। कहीं आपके राज्य में भी तो यही हालत नहीं बन रहे ?

कहानी ऐसे आगे बढ़ती है

कहानी के हीरो इमैनुएल जूनियर राजकुमार उर्फ मैनी को बीमारी के चलते एक पांव खोना पड़ता है। हीरोइन किज्‍जी बासु थॉयरॉयड कैंसर पीड़ित है। मैनी के दोस्त जगदीश पांडे को आंख की बीमारी है। आगे चलकर उसका अंधा होना तय है। इन तमाम दुश्वारियों के बावजूद हर किरदार के अपने सपने हैं। किज्‍जी को अपने फेवरेट सिंगर अभिमन्‍यु वीर से मिलना है। मैनी को किज्‍जी का सपना पूरा करना है।

कहानी जमशेदपुर जैसी जगह से निकलकर आगे बढ़ती है। प्लॉट बहुत कस्बाई नहीं है। मिजाज से कॉस्‍मोपॉलिटन है, पर युवाओं के मासूम सवाल हैं। एक हद तक पलायनवाद भी है। कड़वी हकीकतों से दूर जाने का इरादा है। इसे सकारात्‍मक तौर पर देखा जाए तो इसे ‘लीप ऑफ फेथ’ भी कह सकते हैं। यह किरदारों में झलकती है। नजदीक आती मौत से दूर भागने की जद्दोजहद कभी इंस्पायर करती है तो कभी परेशान, तो कभी हैरान।

मैनी खुशमिजाज रहने की कोशिश करता है। किज्‍जी को जीने की वजह देता है। पर उसे पता है कि आखिरकार क्‍या होने को है। वह किसी हाल में उम्‍मीद का दामन नहीं छोड़ता। यह किज्‍जी में बदलाव लाता है। यहां एक प्रेरक, भावनात्मक कहानी जिसमें बलिदान, कड़ी सच्चाई और सच्चे प्यार के बारे में सकारात्मक संदेश हैं। यह भी जाहिर होता है कि बुरी चीजें सामान्य से अधिक प्रेरक हो सकती हैं।

सुशांत की ताकत नजर आई

मुकेश छाबड़ा की बतौर डायरेक्‍टर यह पहली फिल्‍म है। उन्‍होंने सुशांत की ताकत का सही इस्‍तेमाल किया है। बस थोड़ा और झिंझोड़ने में वह रह गए हैं। गम को जरा और पैना करते तो फिल्‍म गहरा असर छोड़ती।स्क्रिप्ट राइटर शशांक खेतान ने फिल्‍म का देसीकरण किया है। कहानी जमशेदपुर से पेरिस सफर करती है। मौत के जोखिम से लगातार आंख मिचौली कर रहे किरदारों को सहज भाव से पेश किया है, मगर जरा सी दिक्‍कत बेहतर संवाद देने में रह गई है। वह सोच देने में कसक सी है, जो मौत जैसे एक बड़े सवाल का असरदार जवाब दे सकती थी।

ये भी पढ़े :  कोरोना के चलते वित्त मंत्री थॉमस स्केमर ने की आत्महत्या ... घर मे रहिये स्थिति बहुत अच्छी नहीं हैं

एक कमी भी, लेकिन वो अखरती नहीं

राजेश खन्‍ना वाली ‘आनंद’ को छोड़ दिया जाए तो अब तक इन सवालों को टटोलती फिल्‍में आमतौर पर इस कमी से जूझती रही हैं। सधे हुए जवाब की तलाश यहां भी रह जाती है। हालांकि, इसकी कमी अखरती नहीं। उसकी ठोस वजह मैनी की भूमिका रचे बसे सुशांत हैं। मैनी की जिजीविषा, खिलंदड़पन, मासूमियत, उदासी, बेचैनी, आदतें हर कुछ को उन्‍होंने जीवंत किया है। उनके काम में वो सुकून नजर आया है जो उनकी खूबी थी।

ये भी पढ़े :  कोरोना के चलते वित्त मंत्री थॉमस स्केमर ने की आत्महत्या ... घर मे रहिये स्थिति बहुत अच्छी नहीं हैं

इन कलाकारों को भी याद रखिएगा

  • किज्‍जी बासू बनी संजना सांघी के लिए यह मुश्किल रोल था। उसे उन्‍होंने एक हद तक ठीक निभाया है। बाकी कलाकारों में साहिल वैद्य, शाश्‍वस्‍त चटर्जी और स्‍वास्तिका मुखर्जी कैरेक्‍टर के अंदर ठीक से बने रहे हैं।
  • आरिफ शेख की एडिटिंग चुस्‍त रही है। सिनेमैटोग्राफर ने जमशेदपुर और पेरिस दोनों को उम्‍दा कैप्‍चर किया है।
  • एआर रहमान ने अमिताभ भट्टाचार्य के साथ फिल्‍म के सुर के साथ न्‍याय किया है। गानों में वो एहसास हैं, जो शायद मौत की गोद में सिर रखे लोगों की होती होगी।

दिल बेचारा के बहाने फिर बहुत याद आए सुशांत

फिल्म के रिलीज होने से पहले और बाद में सुशांत को लेकर सोशल मीडिया पर बहुत इमोशनल माहौल बना रहा। दुनियाभर में उनके फैंस ने सुशांत को नम आंखों से याद किया। बॉलीवुड सेलेब भी खुद को रोक नहीं पाए और उन्हें भी सुशांत खूब याद आए। कुछ ऐसे ही रिएक्शंस –

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

यूपी में जिला पंचायत अध्यक्ष के बाद अब चुने जाएंगे ब्लॉक प्रमुख, 8 को नामांकन, 10 जुलाई को मतदान

ब्लॉक प्रमुख पद के लिए 8 जुलाई को दिन में 11 बजे से शाम 3 बजे तक नामांकन पत्र दाखिल किए जा...

मोदी कैबिनेट में जल्‍द बड़ा फेरबदल, सिंधिया और वरुण गांधी सहित इन चेहरों को मिल सकती है जगह

टाइम्‍स नाउ की खबर के मुताबिक, मोदी कैबिनेट में जल्‍द फेरबदल का ऐलान हो सकता है। इस बार कई युवा चेहरों को...

अब दिल्ली में LG होंगे ‘सरकार’ केंद्र सरकार ने जारी की अधिसूचना, हो सकता है बवाल

दिल्ली में राष्ट्रीय राजधानी राज्यक्षेत्र शासन अधिनियम (NCT) 2021 को लागू कर दिया गया है. इस अधिनियम में शहर की चुनी हुई...
%d bloggers like this: