Thursday, August 22, 2019
Purvanchal

धूल ने बिगाड़ी प्रयागराज की आबोहवा, तीन गुना बढ़ गया प्रदूषण…

शहर में कुंभ के कार्यों के चलते वायु प्रदूषण काफी बढ़ गया है। अधिकांश स्थानों पर खोदाई के दौरान निकली मिट्टी फैली होने के कारण धूल उड़ रही है। पानी का छिड़काव नहीं होने से धूल परेशानी का सबब बनी हुई है। गाडिय़ों से निकलने वाले धुएं की वजह से भी वायु प्रदूषण काफी अधिक बढ़ा है। सबसे खराब स्थिति अलोपीबाग और रामबाग की है, जहां पीएम-10 (पाटिकुलेट मैटर) की मात्रा तय मानक से तीन गुना तक बढ़ गई है। कटरा में लक्ष्मी टॉकीज चौराहा के आसपास, जानसेनगंज और अशोक नगर में भी कमोबेश यही स्थिति है। निर्माण कार्य के दौरान पानी का छिड़काव न होने के कारण आम लोगों के लिए समस्या बढ़ गई है। धूल की वजह से लोगों को सांस लेने में दिक्कत हो रही है तो दमा रोगी और बच्चे भी इससे परेशान हैं।

शहर में सड़कों के चौड़ीकरण, ओवरब्रिज के निर्माण के साथ काफी काम हो रहे हैं। खोदाई में निकली मिïट्टी को वहां से हटाया नहीं गया। इसके अलावा सड़क चौड़ी करने के लिए बड़ी संख्या में मकानों और दुकानों को भी तोड़ा जा रहा है। नियम के तहत सड़कों की खोदाई के दौरान निकली मिïट्टी न उड़े, इसके लिए पानी का बराबर छिड़काव होना चाहिए लेकिन ऐसा नहीं हो रहा है। इसकी वजह से बेतहाशा धूल उड़ रही है, जिससे वायु प्रदूषण लगातार बढ़ रहा है। प्रदूषण नियंत्रण बोर्ड के क्षेत्रीय अधिकारी एके मिश्र का कहना है कि निर्माण कार्य के साथ धूल न उड़े इसके लिए पानी का छिड़काव सबसे जरूरी है। कार्य करा रहे संबंधित विभागों को इसके लिए आवश्यक दिशा निर्देश दिए गए हैं।
पीएम-10 का मानक 100 माइक्रोग्र्राम प्रति घन मीटर : शहर के विभिन्न इलाकों में पीएम-10 की स्थिति

अलोपीबाग-402.42

रामबाग-399.33

लक्ष्मी चौराहा-370

अशोक नगर-291

जानसेनगंज-277.92

मंत्री, उच्चाधिकारियों के निरीक्षण के पहले होता है पानी का छिड़काव :

शहर में चल रहे निर्माण कार्यों का मंत्री या उच्चाधिकारी निरीक्षण करने आते हैं तो कुछ सड़कों पर पानी का छिड़काव करा दिया जाता है। कार्य में लगे विभागों के अफसर मंत्री और उच्चाधिकारियों को उन्हीं सड़कों या स्थलों पर ले जाते हैं, ताकि धूल न उड़े। बाकी शहर के जिस भी हिस्से में कार्य चल रहे हैं, बेतहाशा धूल उड़ रही है। इससे आम लोग परेशान हैं लेकिन संबंधित विभागों के अफसरों या ठेकेदारों पर इसका बिल्कुल असर नहीं है।

Advertisements
%d bloggers like this: