Friday, July 30, 2021

निकिता-हत्याकांड: लव जिहाद की बलि चढ़ी एक और मासूम लड़की

Maharajganj: दबंग पंचायत मित्र द्वारा किया जा रहा है अवैध नाली का निर्माण।

महराजगंज- फरेंदा ब्लॉक के अंतर्गत ग्राम सभा पिपरा तहसीलदार में पंचायत मित्र द्वारा अपने व्यक्तिगत नाली का निर्माण ग्राम सभा के मुख्य...

पुलिस अधीक्षक द्वारा की गयी मासिक अपराध गोष्ठी में अपराधों की समीक्षा व रोकथाम हेतु दिये गये आवश्यक दिशा-निर्देश

Maharajganj: पुलिस अधीक्षक महराजगंज प्रदीप गुप्ता द्वारा आज दिनांक 17.07.2021 को पुलिस लाइन्स स्थित सभागार में मासिक अपराध गोष्ठी में कानून-व्यवस्था की...

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

Maharajganj: CO सुनील दत्त दूबे द्वारा कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस महानिदेशक जोन गोरखपुर ने प्रशस्ति पत्र से नवाजा।

Maharajganj/Farenda: सीओ फरेन्दा सुनील दत्त दूबे को थाना पुरन्दरपुर में नवीन बीट प्रणाली के क्रियान्वयन में कुशल पर्यवेक्षण करने पर अपर पुलिस...

विधायक विनय शंकर तिवारी किडनी की बीमारी से पीड़ित ग़रीब युवा के लिए बने मसीहा…

हाल ही में सोशल मीडिया के माध्यम से किडनी की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति की मदद हेतु युवाओं के द्वारा अपील की...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

हरियाणा बल्लभगढ़ की निकिता का निर्ममता से एक मजहबी उन्मादी लव जेहादी तौसीफ ने कत्ल कर दिया और उसके साथ ही उसने उन सभी सपनों का कत्ल कर दिया जो एक मध्यमवर्ग की लड़की कॉलेज की दहलीज पर जाकर सजाने लगती है अपने भविष्य में रंग भरने लगती है. वजह सिर्फ इतनी थी कि निकिता समझ गई थी कि तौसीफ नाम का भेड़िया उसे सिर्फ अपने मजहबी उन्माद के लिए जबरन निकाह कर मुस्लिम बनाना चाहता था. प्रेम के नाम पर धोखा और इस धोखे में लव जेहाद का एक षड्यंत्र छुपा हुआ था. अंततः एक कट्टर मजहबी समुदाय को सरल सामान्य इंसानों का समुदाय समझ लेने की भूल अंततः मासूम निकिता की जान लेकर गई. निकिता का कत्ल करते वक्त तौसीफ के हौसले बुलंद थे क्योंकि तौसीफ का दादा, चाचा कांग्रेस के विधायक रह चुके थे जिनकी पहुंच पकड़ सोनिया, राहुल गांधी तक है. तौसीफ का खानदान कांग्रेसी राजनीतिक रसूख रखता था और गांव के हिंदू परिवारों पर भय भी कायम रखता था जिसकी दम पर तौसीफ ने 2 साल पहले निकिता का अपहरण  किया था और निकिता के परिवारवालों पर पुलिस शिकायत वापस लेने का दबाव बनाया था क्योंकि इस मजहबी कट्टर समुदाय में हिंदू धर्म पर शासन करने का अहंकार है. ऐसा नहीं है कि निकिता के कत्ल के बाद तौसीफ या उसके परिवार वालों को कोई अफसोस हो तौसीफ की मां कैमरे के सामने बेशर्मी से कह रही है कि अगर निकिता इस्लाम कुबूल कर लेती तो बेचारा तौसीफ आज जेल में ना होता इस बयान के बाद हम और आप समझ सकते हैं कि जालीदार टोपी समुदाय की परवरिश में ही कितना जहर भरा है. यह विशेष समुदाय अपने वोटबैंक की ताकत पर अनेक अपराधों को बिना किसी शोर-शराबे के फाइलों में दबा देता है.जब भी हिंदूवादी संगठन लव जेहाद का मुद्दा उठाते हैं तो तुरंत ही वामपंथी सेक्यूलर खेमा सक्रिय होकर पूरे कुतर्कों से झूठलाने की कोशिश करता है तथाकथित धर्मनिरपेक्ष ठेकेदार कहते हैं कि प्रेम मजहब नहीं देखता है. प्रेम किसी को मुस्लिम होने पर भी हो सकता है. लेकिन यही धर्मनिरपेक्ष ठेकेदार तब अपना सिर रेगिस्तान की रेत में छुपा लेते हैं जब कोई हिंदू लड़का किसी मुस्लिम लड़की से प्रेम विवाह करता है. हाल ही में दिल्ली के राहुल राजपूत और 2 साल पहले दिल्ली में किए गए अंकित सक्सेना के कत्ल का मामला हो. अगर कातिल मुस्लिम है तो इसे सामान्य अपराध बनाकर वामपंथी मीडिया दबा देती है क्योंकि वह कांग्रेस की मुस्लिम तुष्टीकरण वोटबैंक की राजनीति का ही चौथा स्तंभ है जो खुद को सेक्युलर मीडिया होने का दंभ भरता है. जो खबरें मुस्लिमों के द्वारा हिंदू लड़कियों के जबरन धर्म परिवर्तन, अपहरण, कत्ल की होती हैं वह इन वामपंथियों कांग्रेसियों के  राजनीतिक एजेंडे के अनुकूल नहीं होती हैं इसलिए बड़ी ही निर्लज्जता से इन्हें वामपंथी मीडिया नज़रअंदाज़ कर देती है. लेकिन लव जेहाद का षड्यंत्र एक सच्चाई है जो पल पल एक भयानक डर का माहौल हिंदू बहन बेटियों के लिए बना चुकी है. अनेकों सबूत वीडियो जारी हो चुके हैं कि मौलवियों के संरक्षण में बेहतर ट्रेनिंग के साथ मजहबी उन्मादी युवकों को प्रशिक्षित किया जाता है कि वह हिंदू लड़कियों के स्कूलों कॉलेजों के आसपास अपना जाल बिछाए. बाकायदा लव जिहादियों को इसके लिए मदरसों से तगड़ा फंड मिलता है. कीमत का पैमाना हिंदू लड़की की जाति होती है. ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र सभी जातियों की हिंदू लड़कियों के लिए इन लव जिहादियों को अलग-अलग रेट दिए लाखों में रुपए दिए जाते हैं. जिसकी मोटी रकम इन मुस्लिम युवकों को तब दी जाती है जब यह उस हिंदू लड़की को अपने प्रेम के जाल में फंसाकर उसे निकाहकर उसका धर्म परिवर्तन करवा लेते हैं अर्थात हिंदू लड़की को मुस्लिम बना लेते हैं. दोनों तरफ से इन मुस्लिम युवकों के लिए यह मोटे फायदे का सौदा होता है जिसमें मोटी रकम के साथ-साथ जन्नत का लालच होता है. यही धर्म परिवर्तन की हुई लड़की बच्चे पैदा करके या तो दर-दर की ठोकरें खाने के लिए छोड़ दी जाती है या फिर बेरहमी से कत्ल कर दी जाती है. जिसकी खबर हमारे धर्मनिरपेक्ष वामपंथी मीडिया प्लेटफार्म बड़े करीने से दबा देते हैं. यह वामपंथी तथाकथित सेक्युलर सिर्फ तभी ही अपनी छाती कूटते हैं जब उन्हें दलित लड़की की लाश मिलती है लेकिन यहां पर भी इन सेक्यूलरो का झोलझाल है अगर पीड़ित दलित लड़की है और अपराधी मुस्लिम हैं तो भी यह अपना मुंह बंद ही रखते हैं क्योंकि इससे इनका एकजुट मुस्लिम वोटबैंक नाराज हो सकता है और इनकी सत्ता की कुर्सी में दीमक लग सकता है. अगर लव जेहाद के मामलों का अध्ययन किया जाए तो साफ दिखता है कि इसका सबसे अधिक शिकार दलित पिछड़ा वर्ग की हिंदू लड़कियां अधिक होती हैं क्योंकि मुस्लिम आबादी अधिकतर दलितों के साथ मिश्रित रूप से ही रहती है. जहां बकरा दाढ़ी समुदाय इन गरीब दलितों को, पिछड़ों को  भयभीत किए रहता है. यह गरीब लड़कियां आसानी से इन कट्टर मजहबी उन्मादी जिहादियों के जाल में फस जाती हैं.लव जिहाद की जड़ें बहुत गहरी हैं आजादी से पूर्व मोहम्मद अली जिन्ना की मुस्लिम लीग ने लव जिहाद करना शुरू कर दिया था जिसके अंतर्गत बड़े पैमाने पर गांव देहातों और शहरों की हिंदू लड़कियों को अपहृत किया जाने लगा, उनका जबरन निकाह करवा के धर्म परिवर्तन करके उन्हें मुस्लिम बनाया जाने लगा. हिंदुओं ने जब इसकी शिकायत तथाकथित अहिंसा के पुजारी से की, कांग्रेस से मदद मांगी तो गांधी जी ने मुस्लिम प्रेम के कारण हिंदुओं की मदद करने से इंकार कर दिया. चारों ओर से हिंदू बहन बेटियों का बलात्कार कर उन्हें जबरन मुस्लिम बनाया जा रहा था. अंग्रेजी कांग्रेस तब भी आंख बंद करके देख रही थी संभवत हरे वोटबैंक के तुष्टीकरण की नीव  कांग्रेस अंग्रेजों के शासन में ही रख चुकी थी, जो आज तक अनवरत जारी है. लेकिन असहाय हिंदू के पास स्वामी श्रद्धानंद जी अंधेरे में प्रकाश पुंज बनकर आए. स्वामी श्रद्धानंद जी के आश्रम में हिंदू युवकों ने जगह जगह मुस्लिम लीग के लव जिहादियों से कड़ी टक्कर लेनी शुरू कर दी. जिसके अच्छे परिणाम सामने आने लगे. जो कट्टर मुस्लिम लीग हिंदुओं के प्रतिकार की उम्मीद नहीं कर रहे थे. वह इस हिंदू आत्मरक्षा की प्रतिक्रिया से तिलमिला गए उनकी इस तिलमिलाहट का गांधीजी को बेहद दुख हुआ और जो गांधी हिंदुओं की सहायता करने से मुकर गए थे वही मुस्लिमों का पक्ष लेकर स्वामी श्रद्धानंद जी से विनती करने आए की वह मुस्लिमों के मजहबी मामलों में दखल ना दें और उन्हें मजहबी मनमानी करने दें लेकिन स्वामी श्रद्धानंद जी ने बड़ी विनम्रता से अपने हिंदुओं के आत्मरक्षा के अधिकार से समझौता ना करने की बात रख दी. समझा जा सकता है कि यह षड्यंत्र का खेल कितना पुराना है.वास्तव में लव जेहाद कोई सामान्य प्रेम आकर्षण नहीं है जो भिन्न-भिन्न संस्कृति के लोगों के बीच पनप जाने की बात लगे क्योंकि इसके अंतर्गत जो भी हिंदू लड़की मुस्लिम लड़के से विवाह करती है उसको पहले धर्म परिवर्तन करना होता है उसे पहले मुसलमान बनाया जाता है जहां उसे अपने मुस्लिम पति अर्थात शौहर के घर खुद के धार्मिक रीति-रिवाजों पूजा पद्धति को करने की सीमाएं, स्वतंत्रता ही छीन ली जाती है. संभव ही नहीं की किसी मुस्लिम घर में हिंदू लड़की नितनियम से भगवान की पूजा करें.इस लव जेहाद में हिंदू लड़की का धर्म परिवर्तन इतनी तीव्र गति से होता है कि उसे खुद भी सोचने समझने का मौका नहीं मिलता अतिशीघ्र हिंदू लड़की के धर्म परिवर्तन के प्रमाणपत्र को बकरा दाढ़ी समुदाय के मजहबी केंद्रों में जमा करके यह लव जिहादी लाखों रुपए की रकम इनाम के रूप में वसूल लेते हैं. बाद में लव जेहाद की शिकार इस लड़की को बच्चे पैदा करके दर-दर की ठोकरें खाने के लिए छोड़ दिया जाता है. शरिया कानूनों के अनुसार उसे अपने शौहर की संपत्ति में भी अधिकार नहीं दिया जाता है. अगर पीड़ित हिंदू लड़की ने अधिक प्रतिकार किया तो उसे कत्ल कर दिया जाता है. हफ्ते-महीने में लव जिहाद की शिकार हिंदू लड़कियों के शव मिलने की खबरें अखबार की छोटे से कोनो में सिमटकर रह जाती हैं.जब हिंदूवादी संगठन लव जिहाद के खिलाफ आवाज उठाते हैं तो सेक्युलर बुद्धिजीवी वर्ग इसे प्रेम आकर्षण, मौलिक स्वतंत्रता कहकर हरी कौम के अपने वोटबैंक का बचाव कर ले जाता है.देशभर में हजारों मजहबी मदरसे खाड़ी देशों की कट्टर मजहबी विचारधारा को बढ़ाने के लिए चलाए जा रहे हैं जिनमें प्रति महीने खाड़ी देशों से लव जिहाद जैसे षड्यंत्र को रचने के लिए मोटी रकम इन मजहबी मदरसों में पहुंचाई जाती है.मजहबी शिक्षा के नाम पर इन मदरसों में चंद लाइने जैसे, “दारुल-उल-हर्ब को दारुल-उल-इस्लाम में बदलना अर्थात दूसरे धर्म के मानने वालों को इस्लाम कबूल करवाना. दूसरे धर्मों को मानने वालों को काफिर बताना. जब पवित्र महीने बीत जाए तो घात लगाकर काफिरों का क़त्ल कर दो, उनकी दौलत औरतें लूट लो, उनकी औरतें तुम्हारे लिए बख्शा हुआ तोहफा है जैसे चाहे उन्हें इस्तेमाल करो, उनका बलात्कार, जबरन निकाह, धर्मपरिवर्तन, उनसे कौमी बच्चे पैदा करना सब कुछ जायज है, शबाब का काम है जिससे जन्नत मिलती है. जन्नत में 72 हूरें , मोतियों के महल और शराब के दरिया बहते हैं” यही सब लाइने इन मजहबी मदरसों में आसमान से उतरी तथाकथित किताब का हवाला देकर मौलवी झूम झूम कर पढ़ाते हैं जिसे हरा समुदाय अपने जीवन का मकसद समझ लेता है.  इन्हीं मदरसे से निकले कट्टर उन्मादी युवक अक्सर स्कूल कॉलेजों के गेट पर घूरते, घात लगाए मिल जाएंगे जिन्हें अक्सर इन हिंदू लड़कियों के रूप में आसान शिकार मिल भी जाता है. विशेष मजहबी एजेंडे के तहत इन जिहादियों को समय-समय पर रकम भी मिलती है जिसे यह इन भोली भाली  हिंदू लड़कियों को बहलाने में खर्च करते हैं. डिजिटल युग में यह षड्यंत्र अश्लील वीडियो क्लिप में बदल रहा है. जहां हिंदू लड़कियों का अश्लील वीडियो बनाकर उन्हें बार-बार ब्लैकमेल किया जाता है. उनके लौटने के रास्ते बंद हो जाते हैं. इस समस्या की जड़ 1400 साल पहले सऊदी अरब की रेत से जन्म ले चुकी है जिससे जन्मा  उन्मादी मजहबी गिरोह कत्लोंगारत करता हुआ भारत की धरती पर काबिज हुआ है. उसके आज  सिर्फ तरीके बदले हैं लेकिन मकसद वही है जो 1400 साल पहले से चलता आ रहा है अर्थात पहले भारत पर बाहरी इस्लामी लुटेरों ने आक्रमण किए  हिंदू औरतों का अपहरण, बलात्कार किया उन्हें अपने साथ खाड़ी देशों में ले जाकर मंडियों में बेचा. इसके बाद में मुगलों ने भारत में स्थाई रूप शासन करने के लिए भी हिंदुओं की औरतों  पर यौन अत्याचार किए उनका जबरन धर्म परिवर्तन करवा कर हरम में रखा गया जहां उनसे औलाद को पैदा करके समुदाय की संख्या बढ़ाई गई. हिंदू औरतों को उपभोग की वस्तु बनाकर मुगल सैनिकों में बांटा गया. जितना अत्याचार इस्लामी आक्रमण से मुगल शासन के बीच भारत में नारी जाति पर हुआ उतना कभी भी नहीं हुआ. आज भी आधुनिक भारत में नारी पर इस मजहबी कट्टर उन्मादी मजहब का अत्याचार अनवरत जारी है. बस तरीका कुछ बदल गया है आज यह लव जिहाद के रूप में मक्कारी और शातिरता से प्रेमजाल में फंसाने के नाम पर चल रहा है मकसद सिर्फ वही है कि किसी भी तरीके से हिंदू लड़की को धर्म परिवर्तन कर मुस्लिम बनाया जाए, उससे मुस्लिम बच्चे पैदा किए जाएं चाहे इसके लिए कितना ही झूठ फरेब या कत्ल करना पड़े जो हिंदू लड़की लव जिहाद के षड्यंत्र में फसने, इस्लाम कबूलने से इंकार करेगी उसे हरियाणा के बल्लभगढ़ की निकिता की तरह कत्ल कर दिया जाएगा जिससे आसपास के हिंदू समुदाय के लोगों में हिंदुओं में दहशत पैदा हो जाएगी. इसलिए समय रहते लव से हाथ जैसे षड्यंत्र के प्रति हमारे समाज को संवेदनशील होना ही होगा वरना कई कलियां फूल बनने से पहले ही पैरों तले लव जिहादियों द्वारा रौंद दी जाएंगी.

ये भी पढ़े :  आज का पंचांग

Dr. Ragni Gupta राजनीतिक विश्लेषक (मजहबी कट्टरवाद की प्रखर विरोधी) हरियाणा

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

शायर मुनव्वर राना के बोल, ‘दोबारा सीएम बने योगी तो यूपी छोड़ दूंगा’

लखनऊ: मशहूर शायर मुनव्वर राना एक बार फिर अपने बयान की वजह से सुर्खियों में हैं।उन्होंने कहा कि अगर योगी आदित्यनाथ दोबारा...

ब्लाक प्रमुख चुनाव परिणाम: भाजपा के परिवारवाद का डंका, इन मंत्रियों और विधायकों के बहू-बेटे निर्विरोध जीते

लखनऊ: देश की राजनीति में परिवारवाद की जड़ें काफी गहरी हैं। कश्मीर से कन्याकुमारी तक वंशवाद और परिवारवाद की जड़ें और भी...

शिवपाल यादव ने दी भतीजे अखिलेश यादव को नसीहत, बोले- प्रदर्शन नहीं, जेपी-अन्ना की तरह करें आंदोलन

Lucknow: लखीमपुर में महिला प्रत्याशी से अभद्रता की कटु निंदा करते हुए प्रगतिशील समाजवादी पार्टी (प्रसपा) राष्ट्रीय अध्यक्ष शिवपाल सिंह यादव ने...
%d bloggers like this: