Friday, June 18, 2021

पति की मौत के बाद बेटे ने दुत्कारा, पुलिस ने 67 वर्षीय महिला को दिया सहारा….

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

महराजगंज के नगर पंचायत आनंद नगर में गैस सिलेंडर फटा, छः लोग जख्मी

Maharajganj: महाराजगंज जिले की नगर पंचायत आनंद नगर के धानी ढाला पर जमीर अहमद के मकान में सुबह 6:30 बजे खाना...

69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों का बड़े पैमाने पर अव्हेलना को लेकर आज़ाद समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष ने एसडीएम को सौंपा...

Maharajganj: 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों की बड़े पैमाने पर अवहेलना की गयी है जिसमें OBC वर्ग...

तेज रफ्तार कार से ऑटो की भिड़ंत, घायलों को पहुंचाया गया अस्पताल।

फरेंदा (महराजगंज): जनपद में हर रोज हो रहे सड़क हादसे चिंता का बड़ा सबब बनते जा रहे हैं। फरेंदा कस्बे के उत्तरी...

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

बीते 27 नवंबर को अनुश्या का जन्मदिन था। इसके पहले कभी अनुश्या का जन्मदिन नहीं मनाया गया। लेकिन इस बार वह केक काट रही थीं और उनके आसपास जो लोग खड़े थे वे उनके सगे नहीं थे, बल्कि खाकी वर्दी पहने कुछ पुलिसकर्मी थे।

बेटे द्वारा ठुकराने के बाद अनुश्या की जिंदगी गरीबी और अकेलेपन में गुजर रही थी। पुलिस को अनुश्या पर दया आ गई और वह उनके लिए कुछ करने की योजना बनाई गई।

हमारा समाज कितना क्रूर होता जा रहा है! क्या आप सोच सकते हैं कि जिस मां ने अपने बच्चे का पालन-पोषण कर बड़ा किया उस बेटे ने मां की ममता की कद्र नहीं की और उसे अकेला छोड़ दिया। आप भले ही न सोच सकें, लेकिन इसी दुनिया में ऐसे निर्दयी बेटे हैं जिन्हें मां की ममता का हक अदा करना नहीं आता। तमिलनाडु की 67 वर्षीय अनुश्या की कहानी ऐसी ही है। पति की मौत के बाद उनके शराबी बेटे ने उन्हें घर से निकाल दिया। अच्छी बात यह रही कि पुलिस की नजर उन पर पड़ी और उन्हें काम दिलाया गया। अब वे पुलिस स्टेशन के बगीचे में काम करती हैं और सम्मानजनक जिंदगी गुजार रही हैं।

ये भी पढ़े :  ‘मथुरा-काशी बाकी है’: 1947 का वो यज्ञ जब 3 दोस्तों ने खींचा हिंदुओं के 3 पवित्र स्थल को वापस पाने का खाका...
ये भी पढ़े :  25 सेक्स वर्कर्स की बेटियों की गौतम गंभीर उठाएंगे पूरी जिम्मेदारी...

बीते 27 नवंबर को अनुश्या का जन्मदिन था। इसके पहले कभी अनुश्या का जन्मदिन नहीं मनाया गया। लेकिन इस बार वह केक काट रही थीं और उनके आसपास जो लोग खड़े थे वे उनके सगे नहीं थे, बल्कि खाकी वर्दी पहने कुछ पुलिसकर्मी थे। यह कहानी चेन्नई के नांगनल्लूर के पाझावंतंगल पुलिस स्टेशन की है। लगभग एक साल पहले की बात है इसी पुलिस स्टेशन के कुछ पुलिसकर्मियों ने अनुश्या को उनके घर पर रोते हुए देखा था। अनुश्या के पति का देहांत हो चुका था और उनका शराबी बेटा उन्हें प्रताड़ित कर रहा था।

पुलिस उन्हें थाने लेकर आई और शिकायत दर्ज कराने को कहा, लेकिन अनुश्या के दिल की ममता ने उन्हें ऐसा नहीं करने दिया। उन्होंने कहा कि वह अपने बेटे के खिलाफ शिकायत नहीं दर्ज करा सकतीं। इंसपेक्टर जी वेंकटेसन ने कहा कि बेटे द्वारा ठुकराने के बाद अनुश्या की जिंदगी गरीबी और अकेलेपन में गुजर रही थी। पुलिस को अनुश्या पर दया आ गई और वह उनके लिए कुछ करने की योजना बनाई गई। शुरुआत के कुछ दिनों तक अनुश्या को पुलिस ने खाना खिलाया और बाद में उनके काम का भी प्रबंध कर दिया।

ये भी पढ़े :  भतीजे की शादी में बिन बुलाए आ धमकी बुआ, भगाने के लिए बुलानी पड़ी पुलिस.....

पुलिस ने बताया कि अनुश्या को थाने परिसर में ही बगीचे, पेड़-पौधों की देखभाल का काम दे दिया गया। वह पुलिसकर्मियों की पानी की बोतल भी भर देती हैं और उनके लिए ऐसे ही छोटो-छोटे काम करती हैं। इस 27 नवंबर को अनुश्या का जन्मदिन था। पुलिस ने उनके जन्मदिन को खास बनाने के खास इंतजाम किए। उनके लिए केक, चॉकलेट और मिठाई लाई गई। जब अनुश्या को केक काटने के लिए बुलाया गया तो उनकी आंखों में आंसू आ गए। अनुश्या को पता भी नहीं था कि यह उनका जन्मदिन था, लेकिन पुलिस ने इस मौके को इतना यादगार बना दिया कि उन्हें अपनों की कमी नहीं महससू हुई।

ये भी पढ़े :  किसान हिंसा पर बोला संयुक्‍त राष्‍ट्र, अहिंसा और प्रदर्शन के अधिकार का सम्‍मान करे भारत सरकार

हम अक्सर पुलिस को लेकर नकारात्मक बातें सुनते और पढ़ते रहते हैं, लेकिन ऐसी कहानियां न केवल पुलिस की छवि बदलती हैं बल्कि सिस्टम के प्रति हमारा भरोसा भी मजबूत करती हैं। अब अनुश्या काफी खुश रहती हैं और उन्हें घर की याद भी नहीं आती। उनके लिए थाना ही उनका घर है। हम भी उम्मीद करते हैं कि पुलिस आगे भी गरीब, बेसहारों और महिलाओं की युं ही मदद करती रहेगी।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

महराजगंज के नगर पंचायत आनंद नगर में गैस सिलेंडर फटा, छः लोग जख्मी

Maharajganj: महाराजगंज जिले की नगर पंचायत आनंद नगर के धानी ढाला पर जमीर अहमद के मकान में सुबह 6:30 बजे खाना...

69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों का बड़े पैमाने पर अव्हेलना को लेकर आज़ाद समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष ने एसडीएम को सौंपा...

Maharajganj: 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों की बड़े पैमाने पर अवहेलना की गयी है जिसमें OBC वर्ग...

तेज रफ्तार कार से ऑटो की भिड़ंत, घायलों को पहुंचाया गया अस्पताल।

फरेंदा (महराजगंज): जनपद में हर रोज हो रहे सड़क हादसे चिंता का बड़ा सबब बनते जा रहे हैं। फरेंदा कस्बे के उत्तरी...
%d bloggers like this: