Thursday, June 17, 2021

पाकिस्तान की गोलीबारी में शहीद हुआ महाराजगंज का लाल, पिता बोले- ‘बेटे पर गर्व है’

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडी

गोररखपुर :फर्जी अस्पताल में कम्पाउंडर चला रहा ओपीडीकोरोना काल मे फर्जी अस्पतालों की आई बाढ़ (((अंगद राय की कलम से)))

महराजगंज के नगर पंचायत आनंद नगर में गैस सिलेंडर फटा, छः लोग जख्मी

Maharajganj: महाराजगंज जिले की नगर पंचायत आनंद नगर के धानी ढाला पर जमीर अहमद के मकान में सुबह 6:30 बजे खाना...

69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों का बड़े पैमाने पर अव्हेलना को लेकर आज़ाद समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष ने एसडीएम को सौंपा...

Maharajganj: 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों की बड़े पैमाने पर अवहेलना की गयी है जिसमें OBC वर्ग...

तेज रफ्तार कार से ऑटो की भिड़ंत, घायलों को पहुंचाया गया अस्पताल।

फरेंदा (महराजगंज): जनपद में हर रोज हो रहे सड़क हादसे चिंता का बड़ा सबब बनते जा रहे हैं। फरेंदा कस्बे के उत्तरी...

दूसरों की मदद करने से जो खुशी मिलती है वही असली आनंद :- पवन सिंह

कुछ करने से अगर खुशी की अनुभूति होती है तो उससे बढ़कर आनंद किसी में नहीं है। आनंद को शब्दों में व्यक्त...

Download GT App from
Google Play

विज्ञापन के लिए संपर्क करें +91 7843810623 (WhatsApp)

पाकिस्तान की गोलीबारी में जम्मू कश्मीर के चिनाव नदी के किनारे उत्तर प्रदेश के महराजगंज का लाल ‘चंद्रबदन शर्मा’ शहीद हो गए। उनके शहादत की खबर शनिवार की सुबह जैसे ही गांव सिसवनियां में पहुंची, परिजन समेत क्षेत्रवासी फूट-फूट कर रो पड़ें। चंद्रबदन के शहादत पर पिता बोले कि उन्हें गर्व है कि उनका बेटा देश के लिए शहीद हुआ है। वहीं गांववालों ने पाकिस्तान की कायराना हरकत के खिलाफ आक्रोश प्रकट किया। परिजनों के मुताबिक रविवार की सुबह तक पार्थिव शरीर घर पहुंचेगा।

शनिवार की सुबह को सिसवनियां गांव में शहीद चंद्रबदन शर्मा (24) के घर पर लोग उमड़े पड़े। सभी लोग शहीद के परिजनों को ढांढस बधाने में लगे रहे। दोपहर तक शहीद के घर पर जनसैलाब उमड़ पड़ा। शहीद के पिता भोला शर्मा गुजरात में रहकर काम करते हैं। उनके बेटे की शहादत की जानकारी हुई तो वह बेहोश हो गए। होश में आने के बाद वह घर के लिए रवाना हो गए।

परिवार में सबसे बड़े थे चंद्रबदन
शहीद चंद्रबंदन परिवार में सबसे बड़े थे। उनका छोटा भाई विमल शर्मा प्रयागराज में रहकर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी में है। वहीं बहन काजल भी गोरखपुर में रहकर प्रतियोगी परीक्षा की तैयारी में हैं। चंद्रबदन अपने भाई-बहन की पढ़ाई को लेकर बेहद गंभीर रहते थे। समय-समय पर उन्हें फोन पर ही मार्ग दर्शन देते थे। भाई के शहादत की खबर सुनकर छोटे भाई एवं बहन की अश्रूधारा फूट पड़ी।

ये भी पढ़े :  एसएसबी और पुलिस के संयुक्त टीम को मिली बड़ी कामयाबी,दो नेपाली नागरिकों के पास से 130 ग्राम हेरोइन बरामद....
ये भी पढ़े :  शादी समारोह से घर जाने की कर रहे थे तैयारी, लेकिन यहां मौत कर रही थी इंतजार...

वर्ष 2000 में शहीद का मां हुआ था निधन
शहीद चंद्रबदन की मां का निधन वर्ष 2000 में हुआ था। मां के देहांत के बाद चंद्रबदन अपने भाई बहन की परवरिश को लेकर बहुत गंभीर रहते थे। यही कारण था कि दोनों को कामयाब बनाने के लिए बड़े शहर में परीक्षा की तैयारी करने के लिए भेजा था।

शहीद चंद्रबदन की नहीं हुई थी शादी
पारिवारिक जिम्मेदारियों के बोझ से दबे चंद्रबदन की अभी शादी नहीं हुई थी। उनका सपना था कि अपने दोनों भाई बहन को कामयाब बना दें। वह भी अच्छी नौकरी करें। इसके लिए भाई बहन को प्रतियोगिता परीक्षा की तैयारी करने के लिए भेजे थे।

मार्च में तीन साल पूरा होता नौकरी करते
राम बदन की सेना में सिग्नल कोर में तैनाती मार्च 2018 में हुई थी। मार्च माह में नौकरी करते हुए उन्हें तीन साल पूरा होता। लेकिन इसके पहले ही वह शहीद होकर इतिहास के पन्नों में अमर हो गए। नौकरी में जाने के बाद वह पारिवार की हर छोटी बड़ी जिम्मेदारी को बखूबी निभाते रहे।

घर आने के पहले आया शहीद होने का पैगाम
शहीद चंद्रबदन ने घर आने के लिए छुट्टी ले रखी थी। 10 फरवरी को उनकी छुट्टी एक माह के लिए स्वीकृत थी। उन्होंने फोन से अपने भाई एवं बहन को इसकी जानकारी दी थी। लेकिन किसी को यह पता नहीं था कि वह स्वयं नहीं तिरंगे में लिपटकर आएंगे। उनके घर आने से पहले ही शहीद होने का संदेश आ गया और सभी फफक पड़ें।

ये भी पढ़े :  मां ने 16 वर्षी बेटी से शादी का झांसा देकर अश्लील व दुष्र्कर्मम के प्रयास करने का लगाया आरोप, दी तहरीर....

खबर सुनते ही दादी बुआ बेहोश हुई
शहीद चंद्रबदन शर्मा की दादी रामरति देवी का रो-रोकर बुरा हाल है। वह कह रही थी कि बाबू 10 फरवरी को आने वाले थे। उनके शहादत की सूचना मिली। यह कहकर रोते हुए बेहोश हो गई। यहीं हाल शहीद की बुआ श्रीपति देवी का रहा। गांव के लोगों ने बताया कि शहीद की दादी आंख का इलाज कराने के बाद घर लौटी थीं तो उन्हें यह जानकारी हुई।

ये भी पढ़े :  Maharajganj: स्टार हॉस्पिटल ने क्रिसमस-डे पर लगाए निशुल्क स्वास्थ्य कैंप।।

खबर सुनते ही दादी बुआ बेहोश हुई
शहीद चंद्रबदन शर्मा की दादी रामरति देवी का रो-रोकर बुरा हाल है। वह कह रही थी कि बाबू 10 फरवरी को आने वाले थे। उनके शहादत की सूचना मिली। यह कहकर रोते हुए बेहोश हो गई। यहीं हाल शहीद की बुआ श्रीपति देवी का रहा। गांव के लोगों ने बताया कि शहीद की दादी आंख का इलाज कराने के बाद घर लौटी थीं तो उन्हें यह जानकारी हुई।

Hot Topics

गोरखपुर : सगी बहन से शादी करने की जिद पर अड़ा भाई; यहां जाने क्या है माजरा !

उत्तर प्रदेश के गोरखपुर जिले में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां चिलुआताल में...

गोरखपुर:चिता पर रखे शव के जीवित होने पर मचा हड़कंप, रोकना पड़ा दाह संस्कार,

उत्तर प्रदेश के कुशीनगर में एक हैरान करने वाला मामला सामने आया है। यहां...

देवरिया:- थाने में ही महिला फरियादी के सामने हस्तमैथून करने वाला थानेदार फ़रार,25 हज़ार के इनाम की घोषणा

देवरिया के अंतर्गत आने वाले थाने भटनी में महिला फरियादी के सामने हस्तमैथुन करने वाली थानेदार के खिलाफ मुकदमा दर्ज...

Related Articles

महराजगंज के नगर पंचायत आनंद नगर में गैस सिलेंडर फटा, छः लोग जख्मी

Maharajganj: महाराजगंज जिले की नगर पंचायत आनंद नगर के धानी ढाला पर जमीर अहमद के मकान में सुबह 6:30 बजे खाना...

69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों का बड़े पैमाने पर अव्हेलना को लेकर आज़ाद समाज पार्टी के जिलाध्यक्ष ने एसडीएम को सौंपा...

Maharajganj: 69 हजार शिक्षक भर्ती में आरक्षण के नियमों की बड़े पैमाने पर अवहेलना की गयी है जिसमें OBC वर्ग...

तेज रफ्तार कार से ऑटो की भिड़ंत, घायलों को पहुंचाया गया अस्पताल।

फरेंदा (महराजगंज): जनपद में हर रोज हो रहे सड़क हादसे चिंता का बड़ा सबब बनते जा रहे हैं। फरेंदा कस्बे के उत्तरी...
%d bloggers like this: