Sunday, October 13, 2019
Uttar Pradesh

पीएम नरेंद्र मोदी ने प्रवासी भारतीय दिवस की गरिमा को बढ़ाया…

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज अपने संसदीय क्षेत्र वाराणसी में आयोजित हो रहे 15वें प्रवासी भारतीय दिवस में प्रवासी भारतीयों का स्वागत करने पहुंचे हैं। उनके साथ इस दौरान उनके साथ मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रविंद जगन्नाथ भी हैं। विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने सभी का स्वागत किया। उन्होंने कहा कि प्रवासी दिवस के जन्मदाता अटल जी की स्मृति का भी समय है। यह दिवस उन्ही की देन है। 2004 से 2014 के बीच दिवस का महत्व घटता चला गया था। पीएम मोदी ने ने इस दिवस की गरिमा बढ़ाने के साथ इसमें जान भी फूंक दी। उन्होंने भारतवंशियों से सीधा संवाद का प्रयास किया। सुषमा स्वराज ने पिछली सरकार पर प्रवासी दिवस की उपेक्षा का आरोप लगाया।सुषमा स्वराज ने पीएम मोदी को सम्बोधित करते हुये कहा कि आप यहां आज दो भूमिका में हैं। पहली प्रधानमंत्री की दूसरी, बनारस के सांसद की। उन्होंने कहा कि आज नरेंद्र मोदी जी के प्रभावी नेतृत्व के कारण भारत की प्रतिष्ठा बाहर के देशों में बढ़ी है और उससे आप लोगों का गौरव और सम्मान भी बढ़ा है। इस अवसर पर विदेश मंत्री ने उत्तर प्रदेश के राज्यपाल राम नाईक व मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ के बीच सामंजस्य को भी काफी सराहा। उन्होंने कहा राज्यपाल और मुख्यमंत्री के बीच पटरी न बैठे तो उस प्रदेश का विकास विवाद की बलि चढ़ जाता है, लेकिन यूपी के राज्यपाल और मुख्यमंत्री एक ही पृष्ठ पर हैं इसलिए यहां का विकास तेज गति से हो रहा है।मेहमानों के स्वागत के दौरान सुषमा स्वराज मुख्य अतिथि मॉरीशस के पीएम का स्वागत करना भूलीं। अपनी भूल स्वीकार करते हुये उन्होंने उनका स्वागत किया।
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ डॉ. भीमराव अम्बेडकर राज्य स्तरीय क्रीड़ा संकुल लालपुर में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के साथ 15वें प्रवासी भारतीय दिवस के कार्यक्रम में मंच पर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, उत्तर प्रदेश मे राज्यपाल राम नाईक, मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ, हरियाणा के मुख्यमंत्री मनोहर खट्टर व विदेश राज्य मंत्री जनरल वीके सिंह भी हैं। इससे पहले लाल बहादुर शास्त्री अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट, बाबतपुर पर पीएम मोदी का स्वागत राज्यपाल राम नाईक, सीएम योगी आदित्यनाथ व भाजपा प्रदेश अध्यक्ष डॉ. महेंद्र नाथ पाण्डेय ने किया।
ऐसा पहली बार होगा, जब यह तीन दिनी कार्यक्रम निर्धारित तिथि नौ जनवरी के बजाय 21 से 23 जनवरी को आयोजित किया जा रहा है। जिससे इस कार्यक्रम में पहुंचे लोग इलाहाबाद के कुंभ मेले में शामिल होने के साथ ही नई दिल्ली में गणतंत्र दिवस परेड को भी देख सकें। वाराणसी में आज पीएम नरेंद्र मोदी 15वें प्रवासी भारतीय दिवस का शुभारंभ करेंगे। डॉ. भीमराव आंबेडकर क्रीड़ा संकुल परिसर, लालपुर में इस अवसर पर मुख्य अतिथि मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रवींद जगन्नाथ होंगे। उनके साथ विदेश मंत्री सुषमा स्वराज, उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ भी हैं। ऑल इंडिया रेडियो के कलाकारों के प्रवासी भारतीय दिवस थीम सांग की प्रस्तुति के बीच प्रधानमंत्री मोदी 15वें प्रवासी भारतीय दिवस सम्मेलन का शुभारंभ करेंगे। इस मौके पर मॉरीशस के प्रो. रेशमी रामधनी की पुस्तक ‘एनसिएंट इंडियन कल्चर एंड सिविलाइजेशन’ का विमोचन करेंगे। प्रवासी भारतियों को मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रवींद जगन्नाथ, संबोधित करेंगे। मॉरीशस के प्रधानमंत्री के संबोधन के बाद ‘भारत को जानिए’ प्रतियोगिता के विजयी प्रतिभागियों को पुरस्कार वितरित करने के साथ ही भारत व मॉरीशस के प्रधानमंत्री के साथ ग्रुप फोटोग्राफी होगी। इस ग्रुप फोटोग्राफी के बाद पीएम मोदी प्रवासियों के साथ-साथ काशी के चुनिंदा गणमान्य को संबोधित करेंगे। सम्मेलन के शुभारंभ कार्यक्रम के बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी व मॉरीशस के प्रधानमंत्री प्रवींद जगन्नाथ के बीच द्विपक्षीय वार्ता का दौर चलेगा। इस द्विपक्षीय वार्ता में विदेश मंत्री, विदेश राज्यमंत्री, मुख्यमंत्री के साथ ही अन्य देशों के प्रमुख सांसद, राजनयिक शामिल होंगे। नार्वे के सांसद हिमांशु गुलाटी के साथ न्यूजीलैंड के सांसद कंवलजीत सिंह बख्शी विशिष्ट अतिथि होंगे। प्रधानमंत्री दोपहर करीब तीन बजे क्रीड़ा संकुल में बनाए गए अटल सभागार, डिजिटल कुंभ, अमर तल का अवलोकन करेंगे। पीएम ओडीओपी के स्टालों को भी देख सकते हैं। वहां से लगभग तीन बजे पंडित दीनदयाल हस्तकला संकुल पहुंचेंगे। वहां कुछ प्रवासियों से मुलाकात के साथ ही हस्तकला संकुल में हुए नवनिर्माण कार्यों व वस्त्र मंत्रालय की ओर से सोशल मीडिया के लिए तैयार किए गए एप का उद्घाटन करेंगे। साढ़े तीन बजे पीएम टीएफसी से एयरपोर्ट को रवाना होंगे और वहां से नई दिल्ली के लिए प्रस्थान करेंगे। मॉरीशस के प्रधानमंत्री कल दोपहर पहुंचे और विदेश राज्य मंत्री वी के सिंह ने उनकी अगवानी की। इसके बाद में विदेश मंत्री स्वराज ने मॉरीशस के प्रधानमंत्री से मुलाकात की और द्विपक्षीय सहयोग को प्रगाढ़ करने समेत विभिन्न मुद्दों पर उनके साथ विचारों का आदान-प्रदान किया ऐसा पहली बार होगा, जब यह तीन दिनी कार्यक्रम नौ जनवरी के बजाय 21 से 23 जनवरी को आयोजित किया जा रहा है, ताकि इस कार्यक्रम में पहुंचे लोग इलाहाबाद के कुंभ मेले में जा पाएं और गणतंत्र दिवस परेड भी देख सकें। राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद कल इसके समापन कार्यक्रम को संबोधित करेंगे। प्रवासी भारतीय दिवस अब हर दो वर्ष पर मनाया जाता है। यह प्रवासी भारतीयों को अपनी जड़ों से फिर से जुडऩे के लिए एक मंच प्रदान करता है। वैष्णव जन की गूंज प्रवासी भारतीय दिवस के उद्घाटन समारोह में महात्मा गांधी रचित गीत “वैष्णव जन तो तेने कहिये जे…” की सुबह से पंडाल में गूंज होने लगी। भव्य स्क्रीन पर विश्व के विभिन्न देशों में इस गीत पर फिल्माए गए दृश्यों को प्रदर्शित कर विश्व भर से आए प्रवासियों को बापू के जरिये जोड़ा गया। समारोह में अटल बिहारी बाजपेयी के भाषणों के भी अंश प्रदर्शित किये गए जिन्होंने प्रवासी भारतीय दिवस के आयोजन की नींव रखी थी।

Advertisements
%d bloggers like this: